You cannot copy content of this page

CBSE Previous Year Question Papers Class 10 Hindi B 2017 Delhi Term 2

CBSE Previous Year Question Papers Class 10 Hindi B 2017 Delhi Term 2

CBSE Previous Year Question Papers Class 10 Hindi B 2017 Delhi Term 2 Set – I

निर्धारित समय :3 घण्टे
अधिकतम अंक : 90

खण्ड ‘क’

प्रश्न 1.
निम्नलिखित गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए       [2 × 6 = 12]
पता नहीं क्यों, उनकी कोई नौकरी लम्बी नहीं चलती थी। मगर इससे वह न तो परेशान होते, न आतंकित, और न ही कभी निराशा उनके दिमाग में आती। यह बात उनके दिमाग में आई कि उन्हें अब नौकरी के चक्कर में रहने की बजाय अपना काम शुरू करना चाहिए। नई ऊँचाई तक पहुँचने का उन्हें यही रास्ता दिखाई दिया। सत्य है, जो बड़ा सोचता है, वही एक दिन बड़ा करके भी दिखाता है और आज इसी सोच के कारण उनकी गिनती बड़े व्यक्तियों में होती है। हम अक्सर इंसान के छोटे-बड़े होने की बातें करते हैं, पर दरअसल इंसान की सोच ही उसे छोटा या बड़ा बनाती है। स्वेट मार्डेन अपनी पुस्तक ‘बड़ी सोच को बड़ा कमाल’ में लिखते हैं कि यदि आप दरिद्रता की सोच को ही अपने मन में स्थान दिये रहेंगे, तो आप कभी धनी नहीं बन सकते, लेकिन यदि आप अपने मन में अच्छे विचारों को ही स्थान देंगे और दरिद्रता, नीचता आदि कुविचारों की ओर से मुँह मोड़े रहेंगे और उनको अपने मन में कोई स्थान नहीं देंगे, तो आपकी उन्नति होती जाएगी और समृद्धि के भवन में आप आसानी से प्रवेश कर सकेंगे। भारतीय चिंतन में ऋषियों ने ईश्वर के संकल्प मात्र से सृष्टि रचना को स्वीकार किया है और यह संकेत दिया है। कि व्यक्ति जैसा बनना चाहता है, वैसा बार-बार सोचे। व्यक्ति जैसा सोचता है, वह वैसा ही बन जाता है। सफलता की ऊँचाइयों को छूने वाले व्यक्तियों का मानना है कि सफलता उनके मस्तिष्क से नहीं, अपितु उनकी सोच से निकलती है। व्यक्ति में सोच की एक ऐसी जादुई शक्ति है कि यदि वह उसका उचित प्रयोग करे, तो कहाँ से कहाँ पहुँच सकता है। इसलिए सदैव बड़ा सोचें, बड़ा सोचने से बड़ी सोच द्वारा बड़े आदमी बन जाएँगे। इसके लिए हैजलिट कहते हैं महान सोच जब कार्यरूप में परिणत हो जाती है, तब वह महान कृति बन जाती है।
(क) गद्यांश में किस प्रकार के व्यक्ति के बारे में चर्चा की गई है। ऐसे व्यक्ति ऊँचाई तक पहुँचने का क्या उपाय अपनाते हैं ?
(ख) गद्यांश में समृद्धि और उन्नति के लिए क्या सुझाव दिये गए हैं ?
(ग) भारतीय विचारधारा में संकल्प और चिंतन का महत्व है ?
(घ) गद्यांश में किस जादुई शक्ति की बात की गई है ? उसके क्या परिणाम हो सकते हैं ?
(ङ) “सफलता’ और ‘आतंकित’ शब्द में प्रयुक्त उपसर्ग और प्रत्यय का उल्लेख कीजिए।
(च) गद्यांश से दो मुहावरे चुनकर उनका वाक्य प्रयोग कीजिए।
उत्तर:
(क) गद्यांश में बड़ी और व्यापक सोच रखने वाले व्यक्ति के बारे में चर्चा की गई है। ऐसे व्यक्ति ऊँचाई तक पहुँचने के लिए दरिद्रता, नीचती आदि कुविचारों को अपने मन में कोई स्थान नहीं देते बल्कि हमेशा उन्नति और उपलब्धियों की ही योजना बनाते हैं।

(ख) समृद्धि और उन्नति पाने के लिए, मनुष्य को सकारात्मक और बड़ी सोच रखनी चाहिए क्योंकि बड़ा सोचने से ही बड़ी उपलब्धियाँ हासिल होंगी और देखते-ही-देखते, सकारात्मक सोच रखने वाला मनुष्य बड़ा आदमी बन जाएंगी।

(ग) भारतीय चिंतन में ऋषियों ने संकल्प और चिंतन के विषय में यह संकेत दिया है कि व्यक्ति जैसा बनना चाहता है, वैसा बार-बार सोचे, तो अवश्य ही वह अपने संकल्प को हासिल कर लेता है।

(घ) मनुष्य की सोच और उसके विचार एक ऐसी जादुई शक्ति है, जिसके उचित प्रयोग से वह कहाँ से कहाँ तक पहुँच सकता है। इसलिए हमेशा बड़ी सोच रखनी चाहिए।

(ङ) सफलता–स (उपसर्ग) + फल (शब्द) + ता (प्रत्यय)
आतंकित-आतंक (शब्द) + इत (प्रत्यय) (च)
(i) मुँह मोड़ना जब से बेटा कमाने लगा है तब से
उसने अपने माँ-बाप से मुँह मोड़ लिया है।
(ii) ऊँचाइयों को छूना विधान सभा में मंत्री पद पाने से बेटा ऊँचाइयों को छूने लगा।

प्रश्न 2.
निम्नलिखित काव्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए :    [2 × 4 = 8]
इस पृथ्वी पर
एक मनुष्य की तरह
मैं जीना चाहता हूँ।
वे खत्म करना चाहते हैं।
बैक्टेरिया की तरह
उनके तमाम हथकंडों के बावजूद
मैं नहीं मरता
उपेक्षा, भूख और तिरस्कार से लड़ते-झगड़ते
बढ़ गई है मेरी प्रतिरोधक सामर्थ्य
मैं मृत्यु से नहीं डरता
और अमरत्व में मेरा विश्वास नहीं
लेकिन मैं नहीं चाहता प्रतिदिन मरना
थोड़ा-थोड़ा।
किंचित विनम्रता
किंचित अकड़
और मित्र हँसी के साथ
बेहतर सृष्टि के लिए।
मैं एक पके फल की तरह टपकना चाहता हूँ
जिसे लपकने के लिए
झुक जाएँ एक साथ।
असंख्य नन्हे-नन्हे हाथ
अधूरी लड़ाई बढ़ाने के लिए
फल के रस की तरह
मैं उनके रक्त में घुल जाना चाहता हूँ।
मैं एक मनुष्य की तरह मरना चाहता हूँ।
(क) कवि की प्रतिरोध क्षमता कैसे बढ़ गई है ? समझाइए।
(ख) कवि के हथकंडों’ शब्द के प्रयोग का तात्पर्य क्या है ?
(ग) “मैं नहीं चाहता प्रतिदिन मरना’ का आशय समझाइए।
(घ) पके फल की तरह टपकने की चाह क्यों व्यक्त की गई
उत्तर:
(क) कवि की प्रतिरोधक क्षमता, उपेक्षा, भूख और तिरस्कार का सामना करने से और अवहेलना और अपमान से लड़ते-लड़ते बढ़ गई है।

(ख) ‘हथकंडों’ शब्द द्वारा कवि उन सभी उपायों और तरीकों की ओर संकेत कर रहे हैं जो दुनिया उन्हें समाप्त करने और उनका अस्तित्व मिटाने के लिए प्रयोग कर रही है।

(ग) प्रस्तुत पंक्ति द्वारा कवि यह कहना चाहते हैं कि झूठ, बेईमानी और छल कपटपूर्ण जीवन जीकर, वे रोज-रोज मृत्यु का अहसास नहीं करना चाहते। वे मृत्यु से डरते नहीं, परन्तु अपने जमीर को, मारकर जीने को, वे प्रतिदिन मरने के समान मानते हैं।

(घ) वे एक परिपक्व और आदर्शवादी इंसान के रूप में जीकर, मृत्यु के आगोश में सोना चाहते हैं, ताकि उनकी मृत्यु के पश्चात भी, नई पीढ़ी उन्हें अपनी सोच और अपने आदर्शों में सदैव जीवित रखे।

खण्ड ‘ख’

प्रश्न 3.
शब्द किसे कहते हैं ? उदाहरण देकर शब्द और पद को समझाइए। [1 + 1 = 2]
उत्तर:
वर्गों के सार्थक समूह को शब्द कहते हैं। जब कोई शब्द व्याकरणक दृष्टि से क्रमबद्ध रूप में किसी वाक्य में प्रयुक्त हो जाता है, तब वह शब्द पद बन जाता है।
उदाहरण- (i) अनुशासन (शब्द)
(ii) हमें अनुशासन के नियमों का पालन करना चाहिए। (पद)

प्रश्न 4.
निर्देशानुसार वाक्य रूपान्तरण कीजिए : [1 × 3 = 3]
(i) वह फल खरीदने गया। वहाँ से फल लेकर आ गया। (संयुक्त वाक्य में)
(ii) चाय पीने की यह एक विधि है। जापानी में उसे चा-नो-यू कहते हैं। (मिश्र वाक्य में)
(iii) भारतीय सैनिक ऐसे हैं कि कोई उनकी बराबरी नहीं कर सकता। (सरल वाक्य में)
उत्तर:
(i) संयुक्त वाक्य- वह फल खरीदने बाजार गया और वहाँ से फल लेकर आ गया।
(ii) मिश्र वाक्य- चाय पीने की यह एक विधि है उसे जापानी में चा-नो-यू कहते हैं।
(iii) सरल वाक्य- भारतीय सैनिकों की कोई बराबरी नहीं कर सकता।

प्रश्न 5.
(क) निम्नलिखित शब्दों का विग्रह करते हुए समास का नाम लिखिए : [1 + 1 = 2]
(i) नीलकमल
(ii) घुड़साल
(ख) निम्नलिखित का समस्त पद बनाकर समास का नाम लिखिए : [1 + 1 = 2]
(i) नया जो आभूषण
(ii) गगन में विचरण करने वाला
उत्तर:
(क)
(i) नीला है जो कमल- कर्मधारय समास
(ii) घोड़ों की साल (शाला)– तत्पुरुष समास

(ख)
(i) नवाभूषण- कर्मधारय समास
(ii) नभचर (पक्षी)- कर्मधारय समास .

प्रश्न 6.
निम्नलिखित वाक्यों को शुद्ध रूप में लिखिए : [1 × 4 = 4]
(क) सावित्री सत्यवान की पत्नी रहीं।
(ख) प्रधानाचार्य छात्र को बुलाए।
(ग) वह अनुत्तीर्ण होकर परीक्षा में फेल हो गया।
(घ) मोहन ने सोया।
उत्तर:
(क) सावित्री सत्यवान की पत्नी थी।
(ख) प्रधानाचार्य ने छात्र को बुलाया।
(ग) वह परीक्षा में फेल हो गया।
(घ) मोहन सोया।

प्रश्न 7.
निम्नलिखित मुहावरों का प्रयोग इस प्रकार कीजिए कि अर्थ स्पष्ट हो। [2]
मुठभेड़ होना, एक-एक शब्द को चाट जाना।
उत्तर:
मुठभेड़ होना- कल रात पुलिस की बदमाशों के साथ मुठभेड़ हो गयी।
एक-एक शब्द को चाट जाना— बड़े भाई साहब ऐसे पढ़ते थे मानो एक-एक शब्द चाट रहे हों।

खण्ड ‘ग’

प्रश्न 8.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए : [2 + 2 + 1 = 5]
(क) ‘गिरगिट’ कहानी में पुलिस और जनता के सम्बन्धों को कैसे दिखाया गया है ?**
(ख) शुद्ध सोना और गिन्नी के सोने में क्या अन्तर है ?
(ग) काठगोदाम के पास भीड़ क्यों इकट्ठी हो गई थी ?
उत्तर:
(ख) शुद्ध सोना पूर्ण रूप से शुद्ध होता है, जबकि गिन्नी के सोने में कुछ मात्रा में ताँबा मिला होता है। ताँबे के कारण गिन्नी का सोना चमकता है और मजबूत होता है। स्त्रियाँ शुद्ध सोने के नहीं वरन् गिन्नी के सोने के ही आभूषण बनवाती हैं।

(ग) काठगोदाम के पास एक कुत्ते ने ख्यूक्रिन नामक मिस्त्री की उँगली काट खाई थी, इसलिए वह चीख-चीखकर कुत्ते को पकड़ रहा था। इस शोर को सुनेकर काठगोदाम के पास भीड़ इकट्ठी हो गई थी।

प्रश्न 9.
जी अली कौन था ? उसके चरित्र की क्या विशेषताएँ हैं ? अपने शब्दों में सोदाहरण स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
वज़ीर अली, नवाब आसिफउद्दौला का एकलौता बेटा और अवध का बादशाह था। उसे पकड़ना अंग्रेजों के लिए बहुत मुश्किल था, कई सालों से वे वज़ीर अली को पकड़ना चाह रहे थे, परन्तु निडरता, बहादुरी और जाँबाजी के कारण, वे वज़ीर अली को छू भी नहीं पा रहे थे।

निडरता- वजीर अली एक निडर सिपाही था। जो अंग्रेजों से बहुत नफरत करता था, इसलिए उसने खुलेआम अंग्रेजों के वकील का कत्ल कर डाला।

बहादुर- वज़ीर अली की बहादुरी को किसी उदाहरण की आवश्यकता नहीं है। उनकी बहादुरी के किस्से अंग्रेजी खेमों में प्रायः ही सुने और सुनाए जाते थे। वज़ीर अली अपनी बहादुरी । के दम पर ही अंग्रेजों के खेमे से, उनके कारतूस, उन्हीं के हाथों से लेकर गये थे और कर्नल देखता रह गया था।

जाँबाज सिपाही- वजीर अली एक जाँबाज अर्थात जान की बाजी लगा देने वाला सिपाही था। वह अंग्रेजों को खूब छका रहा था और अपनी जान की परवाह किए बगैर कर्नल कालेज के खेमे में घुस गया था।

प्रश्न 10.
निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए : [2 + 2 + 1 = 5]
खुद ऊपर चढ़े और अपने साथ दूसरों को भी ऊपर ले चलें, यही महत्व की बात है। यह काम तो हमेशा आदर्शवादी लोगों ने ही किया है। समाज के पास अगर शाश्वत मूल्यों जैसा कुछ है। तो आदर्शवादी लोगों का ही दिया हुआ है। व्यवहारवादी लोगों ने तो समाज को गिराया ही है।
(क) महत्व की बात क्या है और क्यों ?
(ख) शाश्वत मूल्य क्या हैं ? इन मूल्यों से समाज को क्या लाभ है ?
(ग) समाज को पतन की ओर ले जाने वाले लोग कौन हैं ?
उत्तर:
(क) महत्वपूर्ण बात यह है कि अपने विकास और उन्नति के साथ दूसरों को भी सफलता की ओर ले जाने वाले लोग ही आदर्शवादी और शुद्ध सोने के समान होते हैं।

(ख) शाश्वत मूल्य अर्थात ऐसे मूल्य और आदर्श जो समय और परिस्थितियों के अनुसार बदलते नहीं हैं। इन्हीं मूल्यों के कारण कोई समाज प्रगति के पथ की ओर अग्रसर हो सकता है जैसे-सत्य, अहिंसा, दया, त्याग, परोपकार आदि।

(ग) व्यवहारवादी लोग, जिनके आदर्श खोखले और मिलावटी होते हैं, समाज को पतन की ओर ले जाते हैं।

प्रश्न 11.
(क) बिहारी के दोहों की रचना मुख्यतः किन भावों पर आधारित है? उनके मुख्य ग्रंथ और भाषा के नाम का उल्लेख कीजिए। [2]
(ख) “मनुष्यता’ कविता में कैसी मृत्यु को सुमृत्य कहा गया है और क्यों? [2]
(ग) ‘कर चले हम फिदा’ कविता में धरती को दुलहन क्यों कहा गया है? [1]
उत्तर:
(क) बिहारी मुख्य रूप से नीति, भक्ति श्रृंगारपरक दोहों के लिए जाने जाते हैं। उनका प्रमुख ग्रन्थ ‘सतसई’ है जिसे मानक ब्रजभाषा में लिखा गया है।

(ख) सुमृत्यु वह मृत्यु होती है, जिसे लोग बाद में भी लम्बे समय तक याद रखें। ऐसी मृत्यु परोपकार करने से मिलती है। किसी महान उद्देश्य के लिए मरना ही सुमृत्यु

(ग) ‘धरती अर्थात मातृभूमि को सबसे प्रिय बताने के लिए उसकी तुलना दुल्हन से की गयी है सैनिकों के लिए देश की धरती दुल्हन के समान प्रिय है।

प्रश्न 12.
“आत्मत्राण’ शीर्षक का अर्थ बताते हुए उसकी सार्थकता, कविता के सन्दर्भ में स्पष्ट कीजिए। [5]
उत्तर:
‘आत्मत्राण’ शीर्षक पूर्णतः सार्थक है। इस कविता में कवि अपने भय से छुटकारा चाहता है। कवि ईश्वर की सहायता तो केवल भयमुक्ति के लिए चाहता है, पर इसके लिए संघर्ष वह स्वयं ही करेगी। यह शीर्षक कविता की मूल भावना को पूर्णतः स्पष्ट कर देता है। कवि ईश्वर से सहायता नहीं चाहता, बल्कि वह पौरुष-बल चाहता है, जिसके माध्यम से हर संकट का सामना वह साहस एवं गम्भीरतापूर्वक कर सके। कवि ईश्वर से स्वयं को तारने की माँग नहीं करता, बल्कि तैरने की क्षमता प्रदान करने की कामना करता है। अतः शीर्षक पूर्णतः सार्थक है।

प्रश्न 13.
‘सपनों के से दिन’ पाठ में पीटी सर की किन चारित्रिक विशेषताओं का उल्लेख किया गया है ? वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में स्वीकृत मान्यताओं और पाठ में वर्णित युक्तियों के सम्बन्ध में अपने विचार जीवन मूल्यों की दृष्टि से व्यक्त कीजिए। [5]
उत्तर:
पी. टी. सर का नाम प्रीतमचंद था। उनका चेहरा दागों से भरा था। उनकी आँखें बाज-सी तेज थीं। वे बड़े कठोर स्वभाव के थे। उन्हें किसी ने स्कूल के समय में मुसकराते नहीं देखा था।
बाह्य विशेषताएँ
(i) उनका कद ठिगना और बदन गठीला था। वे खाकी वर्दी पहने रहते थे। उनके पैरों में चमड़े के चौड़े पंजों वाले बूट होते थे।
(ii) प्रीतमचंद पढ़ाने के प्रति बहुत सचेत रहते थे। पाठ याद न करने पर बर्बरता की हद तक सजा देते थे। उनके इसी रूप ने उन्हें नौकरी से मुअत्तल करा दिया।
(iii) स्काउटिंग की परेड़ कराते समय उनको रूप लड़कों को बहुत अच्छा लगता था। तब वे सामान्य व्यवहार से हटकर, लड़कों को उत्साहित करते हुए शाबासी देते थे।
(iv) अंत में उन्हें एक नरमदिल व्यक्ति के रूप में दर्शाया गया है जो नौकरी से निकाले जाने पर दुखी न थे और प्रेमपूर्वक अपने तोतों को बादाम की गिरियाँ खिलाते थे। पाठ में बताया गया है कि स्कूल में अनुशासन बनाए रखने के लिए छात्रों को भयभीत अवस्था में रखा जाता था। पाठ याद न करने पर उन्हें मुर्गा बना दिया जाता था। इस तरह की सजा देना अत्यंत बर्बरतापूर्ण है। वर्तमान समय में शारीरिक दंड और भयपूर्ण वातावरण में छात्रों को पढ़ाने पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाया गया है। ऐसी शारीरिक सजाओं पर प्रतिबन्ध लगाना बिलकुल उचित है।

खण्ड ‘ध’

प्रश्न 14.
निम्नलिखित विषयों में से किसी एक पर संकेत बिन्दुओं के आधार पर लगभग 100 शब्दों में अनुच्छेद लिखिए : [5]
(क) अपनी भाषा प्यारी भाषा

  • अपनी भाषा का परिचय
  • प्यारी क्यों है ?
  • अन्य भाषाओं से मेल

(ख) स्वच्छता अभियान

  • क्या है।
  • क्यों और कैसे
  • सुझाव

(ग) लड़कियों की शिक्षा

  • समाज में लड़कियों का स्थान
  • शिक्षा की अनिवार्यता और बाधाएँ
  • सबका सहयोग

उत्तर:
(क) “अपनी भाषा प्यारी भाषा”
हर देश की अपनी भाषा होती है। भाषा के माध्यम से ही हम एक-दूसरे की बातों और विचारों को समझ और समझा पाते हैं। भारत देश में वैसे तो अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग भाषाएँ बोली जाती हैं पर “हिन्दी” हमारे देश की अपनी और प्यारी भाषा है। हिन्दी भाषा को 14 सितम्बर के दिन दुल्हन की तरह सजाया, धजाया और मनाया जाता है। इस दिन प्रतिवर्ष हम हिन्दी दिवस मनाते हैं। हिन्दी भाषा है भावनाओं की, भारत की संस्कृति और परंपराओं की इसलिए यह भाषा, एक प्यारी भाषा का दर्जा पाने की हकदार है। हिन्दी अपने आप में एक मिलनसार और विशाल हृदय वाली भाषा है, जिसने अन्य अनेक भाषाओं को भी व्यापक रूप में अपने शब्दकोश में समाहित किया हुआ है। हिन्दी हमारे देश की जन सम्पर्क की भाषा है और भारतीयों के दिल में रची-बसी भाषा है।

गूंज उठे भारत की धरती, हिन्दी के जय गानों से।
पूजित पोषित परिर्द्धित हो, बालक वृद्ध जवानों से।”

(ख) “स्वच्छता-अभियान”
स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा चलाया जाने । वाला एक राष्ट्रव्यापी सफाई अभियान है। इस अभियान द्वारा भारत को एक स्वच्छ राष्ट्र बनाया जाएगा। इस अभियान में शौचालयों का निर्माण करवाना, पीने का साफ पानी हर घर तक पहुँचाना, ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता कार्यक्रमों को बढ़ावा देना, सड़कों की सफाई करना और देश का नेतृत्व करने के लिए देश के बुनियादी ढाँचे को बदलना शामिल है। स्वच्छ भारत का सपना राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी ने देखा था। स्वच्छ भारत अभियान 2 अक्टूबर, 2014 को गाँधी जयंती के दिन भारत के प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने राजघाट में शुरू किया था। उन्होंने एक मंत्र दिया कि हम “न गन्दगी खुद करेंगे और न दूसरों को करने देंगे।” इस अभियान को सफल बनाने के लिए हमें सर्वप्रथम स्वयं स्वच्छ रहना होगा तभी हम अपने वातावरण और पर्यावरण को स्वच्छ रख सकते हैं।
“एक कदम स्वच्छता की ओर”

(ग) लड़कियों की शिक्षा”
जहाँ तक शिक्षा का प्रश्न है, वह तो लड़कों की हो या लड़कियों की, दोनों के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण है। शिक्षा का कार्य तो व्यक्ति के विवेक को जगाकर, उसे सही दिशा प्रदान करना है, परन्तु फिर भी भारत जैसे विकासशील देश में लड़कियों की शिक्षा का महत्व इसलिए अधिक है कि वे देश की भावी पीढ़ी को योग्य बनाने के कार्य में उचित मार्ग दर्शन कर सकती हैं। एक शिक्षित और विकसित मन-मस्तिष्क वाली नारी अपनी आय, परिस्थिति, घर के प्रत्येक सदस्य की आवश्यकता आदि का ध्यान रखकर उचित व्यवस्था एवं संचालन कर सकती है। इसलिए आज लड़कियों को शिक्षित किया जाने लगा है। स्त्री-शिक्षा के आँकड़े बढ़ते ही जा रहे हैं। स्त्री शिक्षा के महत्व को लोगों ने सहर्ष स्वीकारा है।

प्रश्न 15.
आए दिन बस चालकों की असावधानी के कारण हो रही दुर्घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए किसी समाचार पत्र के संपादक को एक पत्र लिखिए।
उत्तर:
सेवा में,
प्रधान संपादक,
नवभारत टाइम्स,
आई. टी. ओ., दिल्ली
दिनांक-20 फरवरी, 20XX
विषय : बस चालकों की असावधानी के कारण हो रही दुर्घटनाओं, पर चिन्ता व्यक्त करते हुए पत्र।
महोदय,
मैं आपके लोकप्रिय दैनिक समाचार-पत्र के माध्यम से सरकार और आम जनता का ध्यान बस चालकों की बढ़ती लापरवाही और असावधानी की ओर आकर्षित करना चाहती हूँ ताकि इस समस्या से छुटकारा पाने के सुदृढ़ उपाय किए जा सकें। बस चालक चाहे सरकारी नौकरी में कार्यरत हों या निजी क्षेत्र में काम करते हों, बसों को निर्धारित गति-सीमा से अधिक तेज चलाते हैं ताकि वे अपने गंतव्य पर समय से पहले ही पहुँच जाएँ। अधिक से अधिक सवारियों को अपनी बस में बैठाने की होड़ में वे असावधानी बरतते हैं।

इसी जल्दबाजी और सवारियों को चढ़ाने की आपा-धापी में कितने यात्री बस से गिरते–पड़ते उतरते हैं और भाग-दौड़ में ही बस में चढ़ते हैं। बुजुर्ग और दिव्यांग यात्रियों को दुर्घटनाग्रस्त भी होना पड़ता है। कितनी बार तेज बस चलाने के कारण, वे लाल-बत्ती भी पार कर जाते हैं जिससे सड़क दुर्घटनाएँ दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही हैं। आम आदमी को इन सभी कारणों से परेशानी झेलनी पड़ रही है।

जनता के सब्र का बाँध टूटने से पहले, इन सभी को कड़ी से चेतावनी दी जानी चाहिए, अन्यथा स्थिति बेकाबू हो जाएगी।
सधन्यवाद!
भवदीया,
अंजलि गुप्ता (सचिव),
पीतमपुरा समाज सुधार कार्यालय,
दिल्ली।

प्रश्न 16.
विद्यालय में साहित्यिक क्लब के सचिव के रूप में ‘प्राचीर’ पत्रिका के लिए लेख, कविता, निबन्ध आदि विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत करने हेतु सूचना पट के लिए एक सूचना लगभग 30 शब्दों में लिखिए। [5]
उत्तर:
अ.ब.स. स्कूल,
क.ख.ग. रोड, नई दिल्ली।
सूचना
7 फरवरी, 20XX
साहित्यिक क्लब
सभी इच्छुक छात्र/छात्राओं को सूचित किया जाता है। कि वे विद्यालय पत्रिका ‘प्राचीर’ हेतु अपने लेख, निबन्ध, कविताएँ, चित्र और अन्य सामग्री 24 फरवरी, 20xx तक, क्लब के अध्यक्ष को जमा करवा दें। सभी प्रतियाँ मौलिक और रोचक/ज्ञानवर्धक होनी चाहिए।
अंजलि छाबड़ा
(अध्यक्षा)

प्रश्न 17.
पुस्तक मेले में जाने के लिए उत्सुक पुत्री और उसकी माँ के बीच के संवाद को लगभग 50 शब्दों में लिखिए। [5]
उत्तर:
मनिका – माँ! मेरे सभी मित्र कल पुस्तक–मेला देखने जा रहे हैं। क्या मैं भी उनके साथ जा सकती हैं ? .
माँ – हाँ! तुम जा सकती हो। परन्तु जाने से पहले यह तो सोच लो कि तुम्हें किस तरह की पुस्तकें चाहिए ?
मनिका – माँ! मुझे सामान्य विज्ञान और साहित्यिक पुस्तकों में रुचि है, इसलिए में इन्हीं विषयों की किताबें खरीदना चाहती हूँ।
माँ – अच्छी साहित्यिक पुस्तकों का चयन करते समय यदि पौराणिक किताबों की नवीकृत प्रतियाँ मिलें तो मेरे लिए लेते आना।
मनिका – ठीक है! मैं तो बस कल का इन्तजार कर रही हूँ कि कब सुबह हो और कब में पुस्तक मेले में जाऊँ।
माँ – चलो बस बहुत हुआ, अब सो जाओ। सुबह उठकर पढ़ना भी है। शुभ रात्रि!
मनिका – शुभ रात्रि माँ!

प्रश्न 18.
अपनी पुरानी पुस्तकें गरीब विद्यार्थियों में सबसे कम दामों में वितरण करने के लिए एक विज्ञापन लगभग 25 शब्दों में लिखिए। [5]
उत्तर:
निःशुल्क पुस्तक वितरण
इच्छुक विद्यार्थी सम्पर्क करें !!
सी.बी.एस.ई. पाठ्यक्रम की अंग्रेज़ी
माध्यम की कक्षा नवीं, दसवीं, ग्यारहवीं
और बारहवीं की पुरानी किताबों को
सबसे कम दामों में खरीदने के लिए
संपर्क करें।
स्थान : मदर डेयरी, पटपड़गंज,
दिल्ली : 1100031
दूरभाष : कत्याल बुक स्टोर : 009999337925

CBSE Previous Year Question Papers Class 10 Hindi B 2017 Delhi Term 2 Set – II

निर्धारित समय :3 घण्टे
अधिकतम अंक : 90

खण्ड ‘ख’

प्रश्न 3.
शब्द और पद में क्या अन्तर है ? सोदाहरण स्पष्ट कीजिए। [1 + 1 = 2]
उत्तर:
शब्द-वर्गों के सार्थक शब्द-समूह को शब्द कहते हैं जैसे ल् + अ + ड़ + अ + क् + आ = लड़का।
पद-जब कोई शब्द किसी वाक्य में प्रयुक्त हो जाता है तब वह पद कहलाता है। जैसे—लड़का बीमार है।

प्रश्न 4.
निर्देशानुसार वाक्य रूपान्तरण कीजिए : [1 × 3 = 3]
(i) चाय तैयार हुई, उसने वह प्यालों में भरी (संयुक्त वाक्य)
(ii) बाहर बेढब-सा एक मिट्टी का बरतन था। उसमें पानी भरा हुआ था। (मिश्र वाक्य में)
(iii) अँगीठी सुलगाई और उस पर चायदानी रखी। (सरल वाक्य में)
उत्तर:
(i) चाय तैयार हुई और उसने वह प्यालों में भरी।
(ii) बाहर बेढब-सा मिट्टी का एक बरतन बाहर था जिसमें पानी भरा हुआ था।
(iii) अँगीठी सुलगाकर उस पर चायदानी रखी।

प्रश्न 5.
(क) निम्नलिखित शब्दों का विग्रह करते हुए समास का नाम लिखिएः [1 + 1 = 2]
(i) वाद्य यंत्र
(ii) न्यायालय
(ख) निम्नलिखित शब्दों को समस्त पद बनाकर समास का नाम लिखिए : [1 + 1 = 2]
(i) नत है जो मस्तक
(ii) दूसरों पर उपकार
उत्तर:
(क)
(i) वाद्य के लिए है जो यंत्र-कर्मधारय समास
(ii) न्याय का आलय-तत्पुरुष समास

(ख)
(i) नतमस्तक–कर्मधारय समास
(ii) परोपकार-तत्पूरूष समास

प्रश्न 6.
निम्नलिखित वाक्यों को शुद्ध रूप में लिखिए : [1 × 4 = 4]
(क) आप कहाँ रहते हो ?
(ख) कुसंगति से बुरे-बुरे कुविचार मन में उठते हैं।
(ग) उसने कोई बात नहीं माना।
(घ) अरे, तुमने ये क्या करो।
उत्तर:
(क) आप कहाँ रहते हैं ?
(ख) कुसंगति से बुरे-बुरे विचार मन में उठते हैं।
(ग) उसने कोई बात नहीं मानी।
(घ) अरे! तुमने ये क्या किया ?

प्रश्न 7.
निम्नलिखित मुहावरों का वाक्य में इस प्रकार प्रयोग कीजिए कि उनका अर्थ स्पष्ट हो जाए : [2]
आड़े हाथों लेना, हाथ मलना।।
उत्तर:
(i) आड़े हाथों लेना–मदन का झूठ सामने आने पर अध्यापक ने उसे आड़े हाथों लिया।
(ii) हाथ मलना–परीक्षा परिणाम आने पर हाथ मलना व्यर्थ

खण्ड ‘ग’

प्रश्न 11.
(क) “बिहारी के दोहे’ के आधार पर लिखिए कि गोपियाँ श्रीकृष्ण की बाँसुरी क्यों छिपा लेती हैं ? [2]
उत्तर:
(क) गोपियाँ बात करने के सुख के लालच में श्रीकृष्ण की बाँसुरी छिपा लेती हैं। वे नटखट श्रीकृष्ण से प्रेम भरी बातें करना चाहती हैं। इस उद्देश्य से वे जान-बूझकर श्रीकृष्ण की बाँसुरी छिपा लेती हैं, ताकि इसी बहाने से वे उनसे बातें कर सकें।

प्रश्न 17.
आजकल स्कूली वाहनों द्वारा हो रही असावधानियों पर माँ-बेटे के बीच हुए संवाद को लगभग 50 शब्दों में लिखिए। [5]
उत्तर:
माँ – बेटा! आज तुम विद्यालय नहीं जा रहे ?
बेटा – नहीं माँ! आज मेरी स्कूल वैन नहीं आएगी। सभी प्राइवेट वैन और कैब चालकों ने हड़ताल कर दी है।
माँ – हड़ताल, अचानक ऐसा क्यों किया ?
बेटा – माँ कल एक वैन तेजी से चल रही थी और वैन चालक ने नशा भी किया हुआ था इसलिए उसे पुलिस ने पकड़ लिया। इसी के विरोध में सब हड़ताल कर रहे हैं।
माँ – आजकल स्कूल बस और अन्य वाहनों के असावधानी के कारण कितनी दुर्घटनाएँ हो रही हैं।
बेटे – इन सभी के कारण निर्दोष लोगों को मुसीबतों का सामना करना पड़ता है।
माँ – हाँ! और कितने बच्चे दुर्घटनास्थल पर ही, गम्भीर रूप से घायल हो जाते हैं। इन सभी के खिलाफ कुछ सख्त कदम उठाने चाहिए।
बेटा – स्कूली वाहनों के लिए विशेष निर्देश भी दिए जाने चाहिए
माँ – बिलकुल ठीक कहा तुमने। चलो! मुझे दफ्तर के लिए पहले ही देर हो रही है। मैं चलती हूँ तुम अपना ध्यान रखना।

प्रश्न 18.
अपने पुराने मकान का विवरण देते हुए उसकी बिक्री के लिए लगभग 25 शब्दों में एक विज्ञापन लिखिए। [5]
उत्तर:
बिकाऊ है।
रोहिणी में एक दो मंजिला, 500 फीट जमीन पर बनी पाँच साल पुराना मकान बिकाऊ है। तीन कमरे, रसोई, बॉलकनी और गाड़ी पार्किंग की पर्याप्त सुविधा। इच्छुक ग्राहक सम्पर्क करें। दूरभाष 085439468 anilgarg @ yahoo.com

CBSE Previous Year Question Papers Class 10 Hindi B 2017 Delhi Term 2 Set – III

निर्धारित समय :3 घण्टे
अधिकतम अंक : 90

खण्ड ‘ख’

प्रश्न 3.
शब्द क्या है ? वाक्य में प्रयुक्त होने पर शब्द को क्या कहते हैं ? [1 + 1 = 2]
उत्तर:
वर्गों के सार्थक समूह को शब्द कहते हैं। जब वह शब्द व्याकरणिक रूप से क्रमबद्ध रूप में किसी वाक्य में प्रयोग होता है तो उसे ‘पद’ कहते हैं।

प्रश्न 4.
निर्देशानुसार वाक्य रूपान्तरण कीजिए : [1 × 3 = 3]
(i) चाय तैयार हुई, उसने वह प्याले में भरी, फिर वे प्याले हमारे सामने रख दिए। (मिश्र वाक्य में)
(ii) दरवाजा खुलने पर वह अन्दर आ गया। (संयुक्त वाक्य)
(iii) वह व्यक्ति बहुत बीमार था, जिसे मैंने आज देखा। (सरल वाक्य में)
उत्तर:
(i) मिश्र वाक्य-जैसे ही चाय तैयार हुई, वैसे ही उसने उन्हें प्याले में भरकर हमारे सामने रख दिया।
(ii) संयुक्त वाक्य-दरवाजा खुला और वह अन्दर आ गया। प्याले में ,
(iii) सरल वाक्य–आज मैंने एक बीमार व्यक्ति को देखा।

प्रश्न 5.
(क) निम्नलिखित शब्दों का विग्रह करते हुए समास का नाम लिखिए: [1 + 1 = 2]
(i) अन्नजल
(ii) समाचार–वाचन
(ख) निम्नलिखित शब्दों का समस्त पद बनाकर समास का नाम लिखिए : [1 + 1 = 2]
(i) गंगा का जल
(ii) चंद्र जैसा मुख
उत्तर:
(क)
(i) अन्न और जल-द्वंद्व समास
(ii) समाचार का वाचन-तत्पुरुष समास

(ख)
(i) गंगाजल–तत्पुरुष समास
(ii) चन्द्रमुख-कर्मधारय समास

प्रश्न 6.
निम्नलिखित वाक्यों को शुद्ध रूप में लिखिए : [1 × 4 = 4]
(क) मैंने बहुत कोशिश की।
(ख) वह अपनी बात कहता ही रहा।
(ग) आजकल ऐसे विद्यार्थी कम ही मिलते थे।
(घ) मेरे पास मात्र केवल दस रुपये हैं।
उत्तर:
(क) मैंने बहुत कोशिश की।
(ख) वह अपनी बात कहता ही रहा।
(ग) आजकल ऐसे विद्यार्थी कम ही मिलते हैं।
(घ) मेरे पास मात्र दस रुपये हैं।

प्रश्न 7.
निम्नलिखित मुहावरों का वाक्य प्रयोग इस प्रकार कीजिए कि अर्थ स्पष्ट हो जाए [1 + 1 = 2]
साँस थमना, दाँतों पसीना आना।
उत्तर:
साँस थमना-सरहद पर डटे जवानों की साँसें थमती जा रही थीं फिर भी वे मातृभूमि की रक्षा में तैनात थे। दाँतों पसीना आना-रानी लक्ष्मीबाई के उग्र रूप को देखकर अंग्रेजों के दाँतों पसीना आ गया।

प्रश्न 11.
(क) ‘बिहारी के दोहे’ के आधार पर लिखिए कि किन प्राणियों में स्वाभाविक बैर है ? वे आपसी बैर कब और क्यों भूल जाते हैं ? [2]
उत्तर:
(क) बिहारी जी कहते हैं कि तपती गरमी के कारण जब पानी के सभी स्रोत सूख जाते हैं, तब आपस में बैर रखने वाले सर्प, मयूर, मृग और सिंह भी आपसी शत्रुता को भुला कर; एक ही घाट पर प्रेमपूर्वक व्यवहार करते हैं। इस दोहे द्वारा विपत्ति में शत्रु को भी मित्र बनाने का सन्देश दिया गया है।

प्रश्न 17.
गृहकार्य में शिथिलता देखकर पिता-पुत्र के बीच हुए संवाद को लगभग 50 शब्दों में लिखिए। [5]
उत्तर:
पिता – राहुल बेटा! आज तुम्हारी गणित की परीक्षा कैसी हुई ?
राहुल – पिताजी परीक्षा तो अच्छी हुई, परन्तु कुछ प्रश्नों को हल करने में कठिनाई हुई।
पिता – कठिनाई क्यों हुई क्या तुमने उनका अभ्यास भली प्रकार नहीं किया था ?
राहुल – पिताजी में उन प्रश्नों को गृहकार्य में करना भूल गया था, अतः परीक्षा की तैयारी करते समय अभ्यास नहीं कर सका।
पिता – राहुल यह बहुत गलत बात है, कल तुम अपना अंग्रेजी का गृहकार्य भी नहीं करके गए थे। तुम्हारे अध्यापक को फोन आया था। वे तुम्हारे इस भुलक्कड़ स्वभाव से बहुत परेशान हैं।
राहुल – पिताजी आजकल बैडमिंटन कोचिंग और ट्यूशन क्लास के कारण, विद्यालय का कार्य अधूरा रह जाता है। मुझे माफ़ कर दीजिए, अब ऐसा नहीं होगा।
पिता – बेटा! जीवन में सफलता उन्हीं की मिलती है, जो हर परिस्थिति में खरे उतरते हैं। तुम्हें ये आखिरी मौका दिया जा रहा है, अब मुझे तुम्हारी और कोई शिकायत नहीं चाहिए।
राहुल – ठीक है पिताजी।

प्रश्न 18.
अपने पिताजी की पुरानी कार की बिक्री हेतु विवरण देते हुए लगभग 25 शब्दों में एक विज्ञापन लिखिए। [5]
उत्तर:
कार खरीदे
आइए और ले जाइए आपकी सपनों की गाड़ी, जो सिर्फ मिलेगी ₹ 2,00,000/- में। मारुति वैगन-आर, मॉडल 2010, नीले रंग की शानदार कारे, मात्र 90,000 किमी. चली। कार के साथ आपको एक निश्चित उपहार भी मिलेगा। सम्पर्क करें-अरमान, दरियागंज, दिल्ली। दूरभाष-011244398731

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting