You cannot copy content of this page

NCERT class 10 English Footprints without Feet Chapter 2 summary The Thief’s Story (notes) explained (translation) in hindi

The Thief’s Story Summary In English

How the narrator (a thief) befriends Anil
The narrator was a thief when he met Anil. He was only 15. Anil had been watching a wrestling match when he went to him. Anil was about 25 and was lean and tall. He looked kind, simple and easy-going. The narrator soon made Anil his Mend. He lied that his name was Hari Singh. He changed his name every month. It was to avoid the police and his former employers.

Both the narrator and Anil at Anil’s room
Anil walked away. The narrator followed him. He smiled and told Anil that he wanted to work for him. Anil replied that he couldn’t pay him. He asked Anil if he could feed him. Anil asked if he could cook. The narrator lied that he could cook. So Anil took him to his room over the Jumna Sweet Shop. He told him that he could sleep on the balcony. The narrator cooked the food. But Anil gave it to a dog as it was tasteless. He asked the narrator to go. But he remained there. After some time Anil told him to stay. He also told him that he would teach him how to cook.

 

Narrator at his old game
The narrator made the tea in the morning. He would buy the day’s supplies. In that he would make a profit of about a rupee a day. Anil knew he made money that way. But he never spoke about it.

Trust between Anil and the narrator increases
Anil made money by fits and starts. When he made much of it, he would celebrate. One evening he came home with a small bundle of notes. He told the narrator that he had just sold a book to a publisher. By this time the narrator had been working for Anil for almost a month. By this time Anil had given him a key to the door. He could come and go as he liked.

The narrator steals Anil’s money
The narrator found it difficult to rob Anil because he was careless. That took all the pleasure of robbjng. However, he decided to steal money. He thought it right as Anil did not pay him any money. The narrator studied the situation. Anil was asleep. He had the money under the mattress. If he took the money he could catch the 10.30 Express to Lucknow. So he stole the notes and went out of the room.

Narrator escapes with money
The narrator held the notes by the string of his pyjamas. The notes were 600 in fifties. He could live like an oil-rich Arab for a week or two. When he reached the station, the Lucknow Express was just moving out. He could jump into it but he didn’t. He was on the platform. He had no idea where to spend the night. He did not want to stay in a hotel either. He walked through the bazaar slowly.

What the narrator thinks about Anil after theft
As a thief the narrator had studied men’s faces when they had lost their goods. The greedy man showed fear. The rich man showed anger. The poor man showed acceptance. But he knew that Anil would show sadness when he would know of it. This sadness would be for the loss of trust. Such a theft was always good for the thief.

The narrator in the rain
He went to the maidan and sat down on a bench. It was a chilly November night. A light drizzle added to his discomfort. Soon it began to rain heavily. He was drenched. He sat down in the shelter of the clock tower.

Narrator’s thoughts at this stage
It was midnight. The notes were damp. He felt that it was Anil’s money. In the morning he would probably have given him two or three rupees. It was for the cinema. Now he had it all. He couldn’t cook his meals and learn to write.

The narrator decides to return
The narrator had forgotten these things in the excitement gf the theft. He felt that writing could bring him more than a few hundred rupees. It was simple to be a thief. But to be really a big man, clever and respected, was something else. He decided to go back to Anil to learn to read and write.

How he puts the money back
He hurried back to the room. He was feeling very nervous. He opened the door and stood in the doorway. Anil was still asleep. He slipped the notes back under the mattress.

Friendship intact
He awoke late next morning. Anil had already made the tea. He offered a fifty-rupee note to the narrator. The narrator’s heart sank. He felt that he had been discovered. Anil told him that he had made some money the day before. Now he would pay the narrator regularly. He also told that they would start writing sentences. The narrator smiled at Anil in his most appealing way. Anil knew the theft but he did not say anything to him about it.

The Thief’s Story Summary In Hindi

वर्णनकर्ता (चोर) द्वारा अनिल के साथ मित्रता बनाना
वर्णनकर्ता एक चोर था जब वह अनिल से मिला। वह सिर्फ पन्द्रह वर्ष का था। जब वह उसके पास गया अनिल उस समय कुश्ती देख रहा था। अनिल लगभग २५ वर्ष का था और लम्बा और दुबला-पतला था। वह दयालु, साधारण और आरामपरस्त दिखता था। वर्णनकर्ता ने शीघ्र ही अनिल को अपना मित्र बना लिया। उसने झूठ बोला कि उसका नाम हरि सिंह था। वह हर महीने अपना नाम बदल लेता था। यह पुलिस या अपने पहले मालिकों से बचने के लिए था।

वर्णनकर्ता और अनिल, दोनों, अनिल के कमरे में
अनिल चला गया। वर्णनकर्ता उसके पीछे चला गया। वह मुस्कराया और उसने अनिल को बताया कि वह उसके लिए काम करना चाहता था। अनिल ने उत्तर दिया कि वह उसे पैसा नहीं दे सकता था। उसने अनिल से पूछा कि क्या वह उसे खाना खिला सकता था। अनिल ने। पूछा कि क्या वह खाना बना सकता था। वर्णनकर्ता ने झूठ बोला कि वह खाना पका सकता था। इस लिए अनिल उसे जमुना स्वीट शोप के ऊपर अपने कमरे में ले गया। उसने उसे बताया कि वह बाल्कनी में सो सकता था। वर्णनकर्ता ने खाना बनाया। परन्तु अनिल ने उसे एक कुत्ते को दे दिया क्योंकि खाना बेस्वाद था। उसने वर्णनकर्ता को जाने के लिए कहा। परन्तु वह वहाँ डटा रहा। कुछ समय पश्चात् अनिल ने उसे रुकने के लिए कह दिया। उसने उसे यह भी बताया कि वह उसे खाना बनाना सिखा देगा।

वर्णनकर्ता पुरानी चालाकी पर
वर्णनकर्ता सुबह की चाय बनाता था। वह दिन का सामान खरीदता था। उसमें वह लगभग एक रुपया प्रतिदिन लाभ कमा लेता था। अनिल जानता था कि वह उस प्रकार से पैसा बनाता है। परन्तु वह इसके बारे में कभी नहीं बोला।

अनिल और वर्णनकर्ता में विश्वास का बढ़ना
अनिल अनियमित तरीके से पैसा बनाता था। जब ज्यादा बना लेता तो वह खुशियाँ मनाता। एक शाम वह घर नोटों के एक छोटे से बण्डल के साथ आया। उसने वर्णनकर्ता को बताया कि उसने अभी अभी एक पुस्तक एक प्रकाशक को बेची है। इस समय तक वर्णनकर्ता अनिल के लिए लगभग एक महीने से कार्य कर रहा था। इस समय तक अनिल ने उसे दरवाजे की एक चाबी दे दी थी। वह जब चाहे आ जा सकता था।

वर्णनकर्ता का अनिल के पैसे चुराना
वर्णनकर्ता को अनिल को लूटना काफी कठिन लगा क्योंकि वह असावधान था। उसने लूटने की सारी खुशी छीन ली। फिर भी उसने पैसे को चुराने का निर्णय लिया। उसने इसे ठीक समझा क्योंकि अनिल उसे कोई पैसा नहीं देता था। वर्णनकर्ता ने हालात को जाँच-परखा। अनिल सोया हुआ था। उनके पास पैसा गद्दे के नीचे रखा था। यदि उसने पैसा ले लिया तो वह 10.30 की लखनऊ के लिए एक्सप्रेस पकड़ सकता था। इसलिए उसने पैसे चुराए और कमरे से बाहर चला गया।

वर्णनकर्ता का धन के साथ बच निकलना
वर्णनकर्ता ने नोटों को अपने पाजामे के नाड़े के साथ बाँध रखा था। 50 रुपए के नोटों में वे 600 रुपऐ थे। वह एक या दो सप्ताह तक तेल के धनी शेख की तरह से रह सकता था। जब वह स्टेशन पर पहुँचा तो लखनऊ एक्सप्रेस स्टेशन से बाहर जा रही थी। वह छलांग लगा कर इसमें घुस सकता था परन्तु उसने ऐसा नहीं किया। वह प्लेटफार्म पर था। उसे कोई विचार नहीं आया कि वह रात कहाँ गुज़ारेगा। वह एक होटल में भी रुकना नहीं चाहता था। वह धीरे धीरे बाज़ार में चलता रहा।

वर्णनकर्ता द्वारा अनिल के बारे में चोरी के बाद सोचना
चोर के रूप में वर्णनकर्ता ने व्यक्तियों के चेहरों को पढ़ा था जब वे अपना सामान खो देते। लालची व्यक्ति भय दर्शाते थे। अमीर गुस्सा दर्शाते थे। गरीब स्वीकृति दिखाते थे। परन्तु वह जानता था कि अनिल उदासी दिखाएगा जब उसे इसका पता चलेगा। यह उदासी विश्वास के खोए जाने के कारण होगी। ऐसी चोरी चोर के लिए हमेशा अच्छी थी।

वर्णनकर्ता बरसात में
वह एक मैदान में चला गया और एक बैंच पर बैठ गया। यह नवम्बर की ठण्डी रात थी। एक हल्की बूंदा-बाँदी ने उसके दुख को बढ़ा दिया था। शीघ्र ही तेज़ वर्षा होने लगी। वह भीग गया। वह घण्टाघर के नीचे शरणस्थान में बैठ गया।

इस स्तर पर वर्णनकर्ता के विचार
आधी रात हो गई थी। नोट गीले हो गए थे। उसने महसूस किया कि यह अनिल का पैसा था। सुबह शायद वह उसे दो या तीन रुपए दे देता। यह सिनेमा के लिए था। अब ये सारे उसके पास थे। वह उसका खाना नहीं बना सकता था और लिखना सीख नहीं सकता था।

वर्णनकर्ता को वापसी का निर्णय
वर्णनकर्ता ने चोरी के उत्साह में ये चीजें भुला दी थीं। उसने महसूस किया कि लिखाई-पढ़ाई उसे कुछ सौ से अधिक धन (रुपये) ला देगी। चोर होना साधारण है। परन्तु वास्तव में एक बड़ा, चतुर और इज्ज़तदार व्यक्ति बनना कुछ और ही है। उसने अनिल के पास वापस जाने और लिखना-पढ़ना सीखने के लिए निर्णय किया।

उसके द्वारा पैसे वापस रखना
वह कमरे में शीघ्र ही चला गया। वह काफी घबराया हुआ था। उसने दरवाजा खोला और वह दरवाज़े में खड़ा हो गया। अनिल तब भी सोया हुआ था। उसने गद्दे के नीचे नोट वापस रख दिए ।

मित्रता साबुत
वह अगली सुबह देर से जागा। अनिल ने पहले ही चाय बना ली थी। उसने वर्णनकर्ता को पचास का एक नोट दे दिया। वर्णनकर्ता का दिल बैठ गया। उसने महसूस किया कि उसका पता चल गया है। अनिल ने उसे बताया कि उसने एक दिन पहले कुछ पैसे बनाए हैं। अब वह वर्णनकर्ता को नियमित रूप से पैसे देता रहेगा। उसने यह भी बताया कि वे वाक्य लिखना आरम्भ करेंगे। वर्णनकर्ता अनिल पर अपने अत्यधिक आकर्षक रूप में मुस्कराया। अनिल चोरी के बारे में जानता था परन्तु उसने इसके बारे में उसे कुछ नहीं कहा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting