You cannot copy content of this page

NCERT class 10 English Footprints without Feet Chapter 3 summary The Midnight Visitor (notes) explained (translation) in hindi

The Midnight Visitor Summary In English

About secret agent Ausable
Ausable was a secret agent. But he did not look like that. Fowler felt sad that Ausable did not look like a secret agent. Ausable had a room on the sixtli and top floor of a French hotel.

Ausable and Fowler together
Ausable was very fat. He spoke French and German. But he had the American accent. Ausable told Fowler that he would be sad. He (Ausable) didn’t look like a spy. Fowler was a writer. He had expected to see strange figures in the night. He also expected to hear the sound of pistols or about drugs in the wine. But it was never so in his case. As against this, Ausable told him that he had no beautiful girls around him. He might feel bored in his company. Saying so Ausable opened the door of his little room for Fowler.

 

Max seen with a pistol
After a few moments, Ausable told Fowler that he would see an important paper. Several men and women were after that. This paper could change the course of history. Ausable closed the door. He switched on the light. Fowler saw a man with a small automatic pistol across the room. It was Max. Seeing him Ausable said that he was shocked to see him there. He thought that he was in Berlin.

Ausable confuses Max with balcony
Max was thin and not tall. He looked like a fox. Max told Ausable that he came there for something. It was to take the report about some missiles from him. Ausable sat into an armchair. He told him that he would complain to the management. It would be that someone had entered his room through an ordinary window in the balcony. The balcony should be closed at once. Max reacted saying that he didn’t enter the room from the balcony. He had a passkey. Ausable told him that the balcony was of the next room.

Talk about the report
Max looked at Fowler. He asked him to sit down. Ausable asked Max how he had learned about the report. Max told Ausable he wished he knew how Ausable’s men had obtained the report. He hopqd to get the report back that night. Then there was a knocking at the door.

Deception through police
Fowler jumped at this sudden knocking. Ausable smiled. He told that that was the police. He had told the police about the important paper. It needed extra protection. So the police was there to make everything all right.

Max in the non-existing ‘balcony’
Hearing this, Max got nervous. Ausable asked Max what he would do. If Ausable did not answer the door, the police would enter anyway. The door was unlocked. The police might shoot also as the papers were very important. Max’s face was black with anger. He opened the window and put his leg out into the night. He asked Ausable to send the police back. He would go and wait on the balcony. He also warned that he would shoot and take his chance. (There was no balcony.)

Max drops down
The knocking at the door became louder. Max had his gun cover Ausable and Fowler. He stood there catching the doorframe with his other free hand to support himself. Then he moved his other leg up and over the window sill. The doorknob turned. Max freed himself and dropped to the ‘balcony’. He shrieked sharply. It means he had fallen on the ground.

Waiter’s service inside
The door opened. A waiter stood there with a tray, a bottle and two glasses. He set the tray at the table. He uncorked the bottle and left the room.

How Ausable proves a real secret agent
This amazed Fowler. He asked Ausable about the police. Ausable told him that there was never any police. Fowler asked about the man on the balcony, ie, Max. Ausable told him that he won’t return. In this manner Ausable had outsmarted Max.

The Midnight Visitor Summary In Hindi

जासूस ओसेबल के बारे में
ओसेबल एक जासूस था। परन्तु वह वैसा दिखता नहीं था। फौलर उदास हो गया कि ओसेबल जासूस नहीं दिखता था। ओसेबल के पास एक फ्रान्सिसी होटल की छठी और सबसे ऊपरी मंजिल पर एक कमरा था।

ओसेबल और फौलर इकट्ठे
ओसेबल काफी मोटा था। वह फ्रेन्च और जर्मन बोलता था। परन्तु उसका अमेरिका का उच्चारण था। ओसेबल ने फौलर को बताया कि वह उदास होगा। वह (ओसेबल) एक जासूस की तरह नहीं दिखता था। फौलर एक लेखक था। उसे आशा थी कि वह रात में अजीब शक्लें देखेगा। वह पिस्तौलों की आवाजें भी सुनेगा और शराब में दवाई की बात सुनेगा। परन्तु उसके मामले में ऐसा कभी भी नहीं था। इसके विपरीत ओसेबल ने उसे बताया कि उसके चारों तरफ सुन्दर लड़कियाँ नहीं थीं। वह उसकी संगत में नीरसता का अनुभव करेगा। ऐसा कहते हुए ओसेबल ने फौलर के लिए अपने छोटे से कमरे का दरवाजा खोला।

पिस्तौल के साथ मैक्स दिखाई पड़ना
कुछ क्षणों के पश्चात् ओसेबल ने फौलर को बताया कि वह एक महत्त्वपूर्ण कागज देखेगा। काफी पुरुष और महिलाएँ इसके पीछे हैं। यह कागज इतिहास का रास्ता बदल सकता था।”ओसेबल ने दरवाजा बन्द कर दिया। उसने रोशनी जगा दी। फौलर ने कमरे में एक व्यक्ति को एक छोटी सी स्वचालित पिस्तौल के साथ देखा। यह मैक्स था। उसे देखकर ओसेबल ने कहा कि उसे वहाँ देखकर उसे झटका लगा है। उसने सोचा कि वह बर्लिन में होगा।

ओसेबल द्वारा मैक्स को बालकनी की उलझन में डालना
मैक्स पतला था और ज्यादा लम्बा नहीं था। वह एक लोमड़ी की तरह दिखता था। मैक्स ने ओसेबल को बताया कि वह वहाँ कुछ चीज के लिए आया था। यह था उससे कुछ प्रक्षेपास्त्रों के बारे में रिपोर्ट लेना। ओसेबल कुर्सी पर बैठ गया। उसने उसे बताया कि वह प्रबन्ध समिति को शिकायत करेगा। यह एक व्यक्ति बालकनी में साधारण खिड़की से उसके कमरे में घुस गया है के बारे में होगी। वह बालकनी एकदम बन्द करा देनी चाहिए। मैक्स ने यह कहकर प्रतिक्रिया दिखाई कि वह कमरे में बालकनी द्वारा नहीं आया। उसके पास एक चाबी (मास्टर कुंजी) थी। ओसेबल ने उसे बताया कि बालकनी अगले कमरे की थी।

रिपोर्ट के बारे में बातचीत
मैक्स ने फौलर की तरफ देखा। उसने उसे बैठने के लिए कहा। ओसेबल ने मैक्स से पूछा कि उसने रिपोर्ट के बारे में कैसे पता लगाया। मैक्स ने ओसेबल को बताया कि वह चाहता था कि उसे मालूम होता कि ओसेबल के आदमियों ने रिपोर्ट को कैसे प्राप्त कर लिया है। उसे आशा है कि रिपोर्ट उसी रात वापस मिल जाएगी। फिर दरवाजे पर खटखटाहट सुनाई दी।

‘पुलिस द्वारा धोखा
इस अकस्मात् खटखटाहट पर फौलर कूदा। ओसेबल मुस्कराया। उसने बताया कि यह पुलिस थी। उसने पुलिस को इस महत्त्वपूर्ण कागज के बारे में बताया था। इसको फालतू संरक्षण की आवश्यकता थी। इसलिए पुलिस हरेक चीज ठीक करने के लिए वहाँ आ गई थी।

मैक्स न होने वाली ‘बालकनी’ में
यह सुनकर मैक्स घबरा गया। ओसेबल ने मैक्स से पूछा कि वह क्या करेगा। यदि ओसेबल दरवाजा नहीं खोलता है तो पुलिस किसी भी तरीके से अन्दर आ जाएगी। दरवाजे पर ताला नहीं था। पुलिस गोली भी चला सकती थी क्योंकि कागजात बहुत महत्त्वपूर्ण थे। मैक्स का चेहरा गुस्से से काला पड़ गया था। उसने खिड़की खोली और रात में अपनी टाँग बाहर रखी। उसने ओसेबल को पुलिस वापस भेजने के लिए कहा। वह बालकनी में जायेगा और प्रतीक्षा करेगा। उसने उसे चेतावनी भी दी कि वह गोली चला देगा और अपने अवसर का प्रयोग करेगा। (वहाँ कोई बालकनी नहीं थी।)

मैक्स का नीचे गिरना
दरवाजे पर खटखटाहट तेज हो गई। मैक्स की पिस्तौल का निशाना ओसेबल और फौलर पर था। वह अपने दूसरे स्वतन्त्र हाथ से दरवाजे को सहारे के लिए पकड़े हुए था। फिर उसने अपनी दूसरी टाँग ऊपर और खिड़की की दहलीज पर रखी । दरवाजे की कुण्डी हिली। मैक्स ने अपने को स्वतन्त्र किया और ‘बालकनी’ में कूद गया। वह तेजी से चीखा। इसका अर्थ है कि वह फर्श पर गिर गया था।

बैरे की अन्दर की सेवा
दरवाजा खुला। एक बैरा ट्रे, एक बोतल और दो गिलास लिए खड़ा था। उसने मेज पर ट्रे रख दी थी। उसने बोतल खोली और कमरे से चला गया।

ओसेबल द्वारा स्वंय को सही जासूस सिद्ध करना
इससे फौलर आश्चर्यचकित हो गया। उसने ओसेबल से पुलिस के बारे में पूछा। ओसेबल ने उसे बताया कि वहाँ पर कोई पुलिस नहीं थी। फौलर ने बालकनी के व्यक्ति अर्थात् मैक्स के बारे में पूछा। ओसेबल ने उसे बताया कि वह वापस नहीं लौटेगा। इस प्रकार ओसेबल ने मैक्स को मात दे दी थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting