You cannot copy content of this page

NCERT class 10 English Footprints without Feet Chapter 6 summary The Making of a Scientist (notes) explained (translation) in hindi

The Making of a Scientist Summary In English

Ebright’s achievement at young age
A former ‘scout of the year’ excited the scientific world with a new theory. This he did at the age of 22 years. It was on how cells work. Richard H. Ebright and his college roommate explained the theory in an article. It was titled ‘Proceedings of the National Academy of Science’. It was his first achievement. It started with butterflies.

Ebright as a child
Ebright was the only child of his parents. They lived in north of Reading, Pennsylvania. Ebright wrote that there was nothing to do. He could not play football or baseball. But he could collect things.

 

As a collector of things
Ebright started collecting butterflies in kindergarten. He also collected rocks, fossils and coins. He also became a star-gazer and an eager astronomer. His mother encouraged him. She took him on trips. She also bought him telescopes, microscopes, cameras and other equipment.

Ebright and his mother
Ebright sold his article at 15 to a scientific journal. It was like a home run scored in the game of baseball. Ebright’s mother said that she was his friend until he started school. She would bring home friends for him. He was her whole life after her husband’s death. Richie was in third grade then.

Ebright’s collection
Ebright’s mother would find work for Richie if he had nothing to do. It was for learning, He wanted to learn. He earned top grades in school. When he was in second grade, he had collected 25 species of butterflies. These were found around his hometown.

Ebright gets a book
Then Ebright’s mother gave him a children’s book. It was ‘The Travels of Monarch X’. It told how monarch butterflies migrate to Central America. This opened the world of science to Ebright.

Tagging of butterflies
At the end of the book, readers were invited to help study bdtterfly migrations. They were asked to tag butterflies for research. It was being done by Dr. Frederich A. Urquhart of Toronto University, Canada. Ebright started tagging monarch butterflies. Anyone who found a tagged butterfly was asked to send the tag to Dr. Urquhart.

Ebright rears butterflies
The butterfly collecting season around Reading lasts six weeks in late summer. Chasing them one by one won’t enable one to catch many. So Ebright raised a flock of butterflies. He would catch a female monarch and take her eggs. He would raise them in his basement from egg to adult butterfly. Then he would tag the butterflies’ wings and let them go.

Loses interest
Soon Ebright began to lose interest in – tagging butterflies. The reason was that there was no feedback. Only two butterflies had been caught. Their distance was not more than seventy-five miles from where he lived.

Decides to do real experiments
In seventh grade Ebright got a hint of what real science is. He entered a country science fair and lost. His entries were slides of frog tissues. He realised that the winners had tried to do real experiments. So he decided to do a real experiment. The subject was the insect work that he had already been doing.

Writes to Dr. Urquhart
He wrote to Dr. Urquhart for ideas. Back came many suggestions for experiments. These kept Ebright busy all through high school. These also led him to prize projects in country and international science fairs.

His research wins
For his eight-grade project, Ebright tried to find the cause of a viral disease. It killed all monarch caterpillars. He thought the disease might be carried by a beetle. He tried raising caterpillars in the presence of beetles. But he didn’t get any real results. But he showed his experiment and won.

His theory on butterflies
The next year his science fair project was testing the theory. The theory was that viceroy butterflies copy monarchs. The theory was that viceroys look like monarchs because monarchs don’t taste good to birds. Viceroys taste good to birds. So the more they look like monarchs, the less likely they are to become a bird’s food. His project was to see if birds would eat monarchs.

Project wins
He found that a starling would not eat ordinary bird food. It would eat all the monarchs it would get. This project was placed first in the zoology division. It came third overall in the country science fair.

New theory
In his second year in high school Ebright began the research. It led to his discovery of an unknown insect hormone. Indirectly, it led to his new theory on the life of cells.

About gold spots on butterflies
The question he tried to answer was simple. What is the purpose of the twelve tiny gold spots on a monarch pupa ? Everyone assumed the spots were just ornamental. But Dr. Urquhart didn’t believe it.

About hormone
To find the answer Ebright and another student built a device. It showed that the spots were producing a hormone. It was necessary for the butterfly’s full development. This project won Ebright first place in the country fair. It also won an entry into the International Science and Engineering Fair. There he won third place for zoology. He also got a chance to work in Walter Reed Army Institute of Research.

Continues advanced experiments
As a high school junior, he continued his advanced experiments on the monarch pupa. That year his project won first place at the International Science Fair.

Importance of cells
In his senior year he grew cells from a monarch’s wing in a culture. He showed that the cells would divide and develop into normal butterfly wing scales. This would be only if they were fed the hormone from the gold spots. That project won first place for zoology at the International Fair. He also worked at the army lab and at the U.S. Dept, of Agriculture’s lab.

Identifies the hormone
The following summer Ebright went back to the Dept, of Agriculture’s lab. There he worked on the hormone theory. Finally he was able to identify the hormone’s chemical structure.

About DNA
A year-and-a half later, Ebright got the idea for his new theory about cell life. He did so while seeing the X-ray photos of this chemical structure. The photos gave him the answer to one of biology’s puzzles. It was : how the cell can ‘read’ the blueprint of its DNA. DNA is the substance in the nucleus of a cell that controls heredity. It is the blueprint for life.

Paper about the experiment
Ebright and his college roommate James R. Wong drew pictures and constructed plastic models. They made them to show how it could happen. Together they later wrote the paper explaining the theory.

Testing the theory
Surprisingly Richard Ebright graduated from Harvard with highest honours. He also became a graduate student researcher at Harvard Medical School. There he began experimenting to test his theory.

Advantages of the theory
If the theory proves correct it will be a big step towards understanding life processes. It might also lead to new ideas . These would be new for preventing types of cancer and other diseases.

Ebright’s other interests
Ebright has ofher interests also. He became a champion debater and public speaker. He also became a good canoeist and all-round outdoors-person. He is also an expert photographer of nature and scientific exhibits.

Ebright and his teacher
Ebright also found someone to admire. He was Richard A. Weiherer, his social studies teacher. Ebright said about him that he opened his mind to new ideas. Richard A. Weiherer also spoke highly of Ebright about his interests. He won because he wanted to do the best job.

Things which make a scientist
These things are a necessity in the making of a scientist. Start with a first-rate mind. Add curiosity and mix in the will to win for the right reasons. Ebright had these qualities.

The Making of a Scientist Summary In Hindi

युवावस्था में एबाईट की उपलब्धि
पूर्वकालिक ‘वर्ष के एक स्काउट’ ने नए मत द्वारा वैज्ञानिक संसार को उत्साहित कर दिया। यह उसने 22 वर्ष की आयु में किया। यह था कोशिकाएँ कैसे कार्य करती हैं। रिचर्ड एच. एब्राईट और उसके कालेज के सहपाठी ने इसकी एक लेख द्वारा व्याख्या की। इसका शीर्षक था : ‘नेशनल अकेडमी ऑफ साईंस की प्रोसीडिंग्ज’ यह उसकी प्रथम उपलब्धि थी। यह तितलियों से आरम्भ हुई।

बच्चे के रूप में एबाईट
एब्राईट अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र था। वे पैन्सिलवेनिया में रैडिंग के उत्तर में रहते थे। एब्राईट ने लिखा कि करने के लिए कुछ नहीं था। वह फुटबॉल या बेसबॉल नहीं खेल सकता था। परन्तु वह वस्तुओं का संग्रह कर सकता था।

चीजों के संग्रहकर्ता के रूप में
एब्राईट ने किंडरगार्टन में तितलियों को इकट्ठा करना आरम्भ कर दिया। उसने चट्टानें, जीवाश्म और सिक्के भी इकट्ठे किए। वह स्वप्नदर्शी (सितारों को देखने वाला) और उत्सुक खगोलशास्त्री भी बन गया। उसकी माँ ने उसे उत्साहित किया। वह उसे दौरों पर लेकर गई। उसने उसके लिए टेलिस्कोप, माइक्रोस्कोप, कैमरे और दूसरा सामान खरीदा।

एबाईट और उसकी माँ
एब्राईट ने 15 वर्ष की आयु में एक वैज्ञानिक पत्रिका के लिए अपने लेख को बेचा। यह बेसबॉल के खेल में होम रन लेने की तरह से था। एब्राईट की माँ ने कहा कि वह उसके स्कूल जाने से पहले तक उसकी मित्र थी। वह उसके लिए गृह मित्र लाती थी। उसके पति की मृत्यु के पश्चात वह उसका सारा जीवन था। रिच्ची उस समय तीसरी श्रेणी में था।

एबाईट का संग्रह
एब्राईट की माँ रिच्ची के लिए कार्य पूँढती यदि उसके पास कुछ करने के लिए नहीं होता। यह सीखने के लिए होता था। वह सीखना चाहता था। उसने स्कूल में उच्च स्थान प्राप्त किए। जब वह दूसरी कक्षा में था तो उसने तितलियों की 25 नस्लों का संग्रह कर लिया था। ये उसके शहर के आस-पास पाई जाती थीं।

एबाईट की पुस्तक प्राप्ति
तब एब्राईट की माँ ने उसे बच्चों की एक पुस्तक दी। यह थी ‘द ट्रैवल्स ऑफ मोनार्क एक्स’ इसने बताया था कि मोनार्क तितलियाँ केन्द्रीय अमेरिका में कैसे चली जाती हैं। इसने एब्राईट के लिए विज्ञान की दुनिया को खोल दिया।

तितलियों को लेबुल लगाना
पुस्तक के अन्त में पाठकों को तितलियों के प्रवास की पढ़ाई करने में सहायता करने के लिए कहा गया था। उन्हें, खोज करने के लिए तितलियों को लेबुल द्वारा बाँधने के लिए कहा गया था। यह टोरन्टो विश्वविद्यालय कनाडा के डा. फ्रेडरिक ए, अर्काहार्ट द्वारा किया जा रहा था। एब्राईट ने मोनार्क तितलियों को लेबुल द्वारा बाँधना आरम्भ कर दिया। जिसे बँधी हुई तितली मिले उसे उसको डा. अहार्ट के पास भेजने के लिए कहा गया था।

एबाईट का तितली पालन
रैडिंग के चारों तरफ तितली इकट्ठा करने का मौसम गर्मी के पिछले छः सप्ताहों में होता है। एक-एक तितली का पीछा करके पकड़ना किसी को उन्हें काफी संख्या में पकड़ने के लिए योग्य नहीं बनाता था। इसलिए एखाईट ने तितलियों के झुण्ड को पाला। वह मादा तितली को पकड़ता और उसके अण्डे ले जाता। वह उन्हें अपने तहखाने में अण्डे से वयस्क तितली तक पालता। फिर वह तितलियों के परों को लेबुल द्वारा बाँधता और उन्हें जाने देता।

रुचि का खोना
शीघ्र ही एब्राईट का तितलियों को लेबुल-द्वारा बाँधने में आनन्द समाप्त होने लग गया। कारण था कि कोई भी feedback नहीं |मिला। सिर्फ दो तितलियाँ ही पकड़ी गई थीं। उनका जहाँ वह रहता था उस स्थान से फासला 75 मील से अधिक नहीं था।

सही प्रयोग करने का निर्णय
सातवीं कक्षा में एबाईट को एक संकेत मिला कि वास्तविक विज्ञान क्या है। वह देहात के विज्ञान मेले में प्रविष्ट हुआ और हार गया। उसकी प्रविष्टि मेंढक की ऊतकों की स्लाईड थीं। उसने अनुभव किया कि विजेताओं ने वास्तविक प्रयोग करने की कोशिशें कीं थीं। इसलिए उसने वास्तविक प्रयोग करने का निर्णय लिया। विषय था कीड़ों-मकोड़ों का कार्य जो वह पहले ही कर रहा था।

डा. अहार्ट को पत्र
उसने डा. अहार्ट को विचारों के लिए लिखा। वापस प्रयोगों के लिए काफी सुझाव आये। इन्होंने एब्राईट को हाई स्कूल के दौरान व्यस्त रखा। वे उसे देहात और अन्तर्राष्ट्रीय मेलों में इनामी प्रोजैक्टों की तरफ भी ले गए।

उसकी खोज की विजय
उसकी आठवीं कक्षा की प्रोजेक्ट के लिए एब्राईट ने एक वायरल बीमारी के कारण को ढूंढने की कोशिश की। उसने सभी मोनार्क कैटरपिलरों को मार दिया। उसने सोचा कि बीमारी एक झींगुर द्वारा ले जाई जाती होगी। उसने झींगुरों की उपस्थिति में कैटरपिलरों को पालने की कोशिश की। परन्तु उसे कोई सही परिणाम नहीं मिले। परन्तु उसने अपना प्रयोग दिखाया और जीत गया।

तितलियों पर उसका मत
अगले वर्ष उसके विज्ञान मेले का प्रोजैक्ट था मत का निरीक्षण करना। यह तथ्य था कि वायसराय तितलियाँ मोनार्क तितलियों की नकल करती हैं। मत था कि वायसराय तितलियाँ मोनार्क की तरह दिखती हैं क्योंकि मोनार्क पक्षियों को स्वादिष्ट नहीं लगतीं। वायसराय पक्षियों को अच्छी लगती हैं। इसलिए जितनी अधिक वे मोनार्क की तरह दिखती हैं उतनी ही कम वे एक पक्षी को खाना बनती हैं। उसका प्रोजैक्ट यह देखना था कि क्या पक्षी मोनार्क तितलियों को खाएँगे।

प्रोजैक्ट की विजय
उसने पाया कि तेलियर पक्षी साधारण पक्षी के खाने को नहीं खायेगा। यह सारी मोनार्क तितलियों को खा जायेगा जो उसे मिलती हैं। यह प्रोजैक्ट प्राणी-विज्ञान विभाग में पहली आई। यह देहात विज्ञान मेले में तीसरी रखी गई।

नया मत
हाई स्कूल में अपने दूसरे वर्ष एब्राईट ने शोध कार्य आरम्भ किया। इससे उसके द्वारा एक अपरिचित कीड़े हारमोन की खोज हुई। अप्रत्यक्ष रूप में यह उसे उसकी कोशिकाओं के जीवन पर नये मत की तरफ ले गई।

तितलियों पर सुनहरी स्थानों के बारे में
प्रश्न जिसे उसने उत्तर देने की कोशिश की आसान था। मोनार्क प्यूपा के ऊपर बारह छोटे-छोटे सुनहरी निशानों का क्या उद्देश्य है ? हरेक व्यक्ति ने सोचा कि ये निशान सिर्फ सजावटी थे। परन्तु डा. अहार्ट ने इसमें विश्वास नहीं किया।

हारमोन के बारे में
उत्तर जानने के लिए एब्राईट और एक-दूसरे विद्यार्थी ने एक उपकरण बनाया। उसने दिखाया कि निशान एक हारमोन बना रहे। थे। यह तितली के पूर्ण विकास के लिए आवश्यक था। एब्राईट की इस प्रोजैक्ट ने देहात मेले में प्रथम स्थान जीता। इसने अन्तर्राष्ट्रीय विज्ञान और इन्जीनियरिंग मेले में भी उसे प्रविष्टि दिला दी। वहाँ पर उसे जीव विज्ञान में तीसरा स्थान मिला। उसे वाल्टर रीड़ आर्मी इन्स्टीट्यूट ऑफ रिसर्च में कार्य करने का अवसर भी मिल गया।

उच्च प्रयोग जारी
हाई स्कूल जूनियर के रूप में उसने मोनार्क प्यूपा के ऊपर उच्च परीक्षण जारी रखे। उस वर्ष उसकी प्रोजैक्ट ने उसे अन्तर्राष्ट्रीय विज्ञान मेले में प्रथम स्थान दिलवाया।

कोशिकाओं की महत्ता
अपने सीनियर वर्ष में उसने मोनार्क की पर से एक कल्चर में कोशिकायें विकसित कीं। उसने दिखाया कि कोशिकाएँ बँटेंगी और एक आम तितली के परों में तभी विकसित हो जाएँगी। यह तभी होगा यदि उन्हें सुनहरी स्थानों के हारमोन से भोजन मिले। उस प्रोजैक्ट को अन्तर्राष्ट्रीय मेले में प्राणी-विज्ञान के लिए प्रथम स्थान मिला। उसने आर्मी प्रयोगशाला और अमेरिकी विभाग की कृषि प्रयोगशाला में भी कार्य किया।

हारमोन की पहचान
आने वाली गर्म ऋतु में एब्राईट कृषि विभाग की प्रयोगशाला में वापस चला गया। वहाँ पर उसने हारमोन मत पर कार्य किया। अन्त में वह हारमोन की रासायनिक संरचना को पहचानने के योग्य हो गया।

डीएनए के बारे में
डेढ़ वर्ष पश्चात् एब्राईट को रासायनिक संरचना के एक्स-रे देखते हुए कोशिका जीवन के बारे में अपने नए मत का विचार आया। उसने ऐसा रासायनिक संरचना के एक्स-रे देखते हुए किया। फोटो द्वारा उसे जीव-विज्ञान की पहेलियों में से एक पहेली के बारे में उत्तर मिल गया। यह था : एक कोशिका अपने डीएनए के ब्ल्यूप्रिन्ट को कैसे पढ़ सकती है। एक कोशिका के केन्द्र में डीएनए एक ऐसी वस्तु है जो वंश का नियन्त्रण करती है। यह जीवन की ब्ल्यूप्रिन्ट है।

प्रयोग के बारे में शोधपत्र
एब्राईट और उसके कालेज के सहपाठी जेम्स आर. वोंग ने तस्वीरें बनाई और प्लास्टिक के मॉडल बनाए। उन्होंने इन्हें ऐसे दिखाने के लिए कि यह कैसे हो सकता है किया। उन्होंने बाद में इस मत की व्याख्या करते हुए एक साथ एक शोध पत्र भी लिखा।

मत का परीक्षण
आश्चर्य में रिचर्ड एब्राईट ने हारवर्ड विश्वविद्यालय से उच्चतम ऑनर्स के साथ उपाधि प्राप्त की। वह हारवर्ड मेडिकल स्कूल में स्नातक शोध विद्यार्थी भी बन गया। वहाँ पर उसने अपने मत का परीक्षण करना आरम्भ किया।

मत के फायदे
यदि यह मत सहीं ठहरता है तो यह जीवन की अवस्थाओं को समझने की तरफ एक बड़ा कदम होगा। यह नए विचारों की तरफ भी ले जाएगा। ये अलग प्रकार के कैन्सर और दूसरी बीमारियों को रोकने के लिए नये होंगे।

एब्राईट की दूसरी रुचियाँ
एब्राईट के दूसरे आमोद-प्रमोद भी हैं। वह एक चैम्पियन वाद-विवादकर्ता और वक्ता बना। वह एक अच्छा डोंगा नाविक और बाह्य खेलों का ऑल राऊण्ड आऊटडोर्स व्यक्ति भी बन गया। वह प्रकृति और वैज्ञानिक प्रदर्शित वस्तुओं का विशेषज्ञ फोटोग्राफर भी है।

एबाईट और उसका अध्यापक
एब्राईट को प्रशंसा करने के लिए एक व्यक्ति भी मिल गया। वह था उसका सामाजिक विज्ञान का अध्यापक, रिचर्ड ए, विहरर। एब्राईट ने उसके बारे में कहा कि उसने उसके मन को नये विचारों की तरफ खोल दिया। रिचर्ड ए. विहरर ने भी एब्राईट की रुचियों के बारे में बहुत अच्छा बोला। उसकी विजय हुई क्योंकि वह उत्तम कार्य करना चाहता था।

चीजें जो एक वैज्ञानिक बनाती हैं
ये चीजें एक वैज्ञानिक के बनने में आवश्यक हैं। उत्तम दिमाग से कार्य प्रारम्भ करो। उत्सुकता डालो और सही कारणों के लिए जीतने की इच्छाशक्ति मिलाओ। एबाईट में ये गुण थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting