You cannot copy content of this page

NCERT class 10 English Footprints without Feet Chapter 9 summary Bholi (notes) explained (translation) in hindi

Bholi Summary In English

I
About Bholi
Her name was Sulekha. But since childhood she had been called Bholi, the simpleton. Bholi was the fourth daughter of Numberdar Ramlal. When Bholi was ten months old, she had fallen from the cot. She had damaged some part of her brain. So due to that she remained backward in mind.

Bholi’s weak points
Bholi was very fair and pretty at birth. But she had the attack of smallpox when she was two years old. Her body, except the eyes, was disfigured. She had deep pock-marks over her body. She stammered also. Other children made fun of her. As a result, she talked little.

 

Worries about Bholi
Ramlal had seven children—three sons and four daughters. Bholi was the youngest. All the children except Bholi were healthy. Mangla and Champa could be married when time would come. Radha, the eldest daughter had already been married. But Ramlal was worried about Bholi. She was neither beautiful nor intelligent.

Bholi taken to school
Bholi was seven years old when a primary school was opened in the village. The Tehsildar came to perform the opening ceremony. He asked Ramlal to set an example for the villagers. He must send his daughters to school. At first Randal’s wife objected to it. She said that no one would marry Bholi. But Ramlal took Bholi to school the next day.

Bholi at school
Bholi wore some decent clothes that day. New clothes had never been made for Bholi. The old dresses of her sisters were given to her. She was bathed. Her hair were oiled. Bholi feared much. The headmistress asked Bholi to sit down in a comer of the classroom. Bholi did not know what was school like. But she was glad that there were many girls of her own age. They would be her friends.

Bholi’s first day at school
The lady teacher said something to the other girls. Bholi did not understand. She looked at the pictures on the wall. She was charmed by them. These were of goat, the parrot, the cow. All were like what Bholi had seen. The teacher asked Bholi her name. But she stammered. She kept her head down. She felt that other girls would laugh at her. She began weeping.

II
Teacher’s love for Bholi
The teacher called her name. She spoke very softly. No one had spoken to her earlier like that. Her heart was touched. The teacher, then, asked her name. When she stammered, the teacher did neither get angry nor laughed. She encouraged Bholi. She patted Bholi with love. She asked Bholi to take the fear out of her heart. She also told her that she would speak rightly one day. Then she would not be afraid of any body.

Bholi reads
The teacher gave Bholi a book. It had nice pictures of dog, cat, goat, horse, parrot etc, in colour. The teacher told her that she would be able to read in about one month. She would read a bigger book. Then no one would laugh at her. Bholi felt happy. She felt as if the bells in the village temple were ringing. Her heart was beating with a new hope and a new life.

Changes in Bholi’s village
The years rolled. The village became a small town. The primary school became a high school. Now there was a cinema and a cotton ginning mill. The mail train began to stop at their railway station.

About Bholi’s marriage with Bishamber
One night after dinner, Ramlal asked his wife about Bishamber’s proposal to marry Bholi. His wife was happy that Bholi was getting a wealthy bridegroom. Bishamber had a big shop and a house of his own. He was forty-five or fifty. He limped also. He had the children from his first wife also. He did not know if Bholi had pock-marks on her face. Bholi had heard herself her parents speaking so.

Bridegroom arrives
On the fixed date, Bishamber came as a bridegroom. He sat on a decorated mare. There was a brass-band playing before the bridegroom. Bholi’s sisters got jealous of her. Ramlal was also overjoyed to see such pomp. He had never even dreamt that his fourth daughter would have such a grand wedding.

About wedding
At the fixed time, the brahmin asked to bring the bride. Bholi was dressed in a red silken bridal dress. One of Bishamber’s friends asked Bholi to garland the bridegroom. Women slipped back Bholi’s veil. Bishamber looked at her quickly. He asked his friend if he had seen the pock-marks on Bholi’s face. His friend told him that it didn’t matter. He was also not young. Bishamber asked for a dowry of five thousand rupees. Ramlal put his turban—his honour—at Bishamber’s feet. Ramlal was to give five thousand rupees to Bishamber as dowry.

Ramlal gives ? five thousand
Ramlal offered Bishamber two thousand rupees. But Bishamber refused. He threatened that they will go back. He also told to keep his daughter. Ramlal had tears on his face. At last he put five thousand rupees at Bishamber feet. Bishamber asked for the garland.

Bholi’s refusal to marry
Once again Bholi had veil over her face. But she looked straight at Bishamber. There was neither anger nor hate but only contempt in I her eyes. Bishamber raised the garland to place it round Bholi’s neck. But she threw it into the fire. She told her father that she won’t marry Bishamber. She asked him to take the money back. She also told that she was willing to marry the lame old man. But he turned out to be greedy and hateful. She won’t marry him.

Bholi’s boldness
Other women wondered how Bholi a 1 harmless dumb cow had become so violent. Bholi told them that is why they were giving her to that greedy man. But she won’t go. All started going back. Ramlal stood rooted to the ground. His head bowed low with grief and shame.

Bholi thinks of future
The flames in the sacred fire slowly died down. Ramlal told Bholi that no one would marry her then. What would they do with her ? Bholi told her father not to worry. She told him that she would serve them in old age. She would teach in the same school. Her teacher had seen the whole drama. She showed her satisfaction at it. She did so like a great artist does on his creation of art.

Bholi Summary In Hindi

I
भोली के बारे में
उसका नाम सुलेखा था। परन्तु बचपन से उसे भोली अर्थात् बुद्ध कह कर बुलाया जाता था। रामलाल नम्बरदार की भोली चौथी लड़की थी। जब भोली दस महीने की थी तो वह चारपाई से गिर गई थी। उसके दिमाग का कोई भाग चोटिल हो गया था। इसलिए उस कारण वह दिमाग से कमजोर रह गई थी।

भोली में कमियाँ
जन्म से भोली सुन्दर और आकर्षित करने वाली थी । परन्तु जब वह दो वर्ष की थी तो उसे चेचक हो गई थी। उसकी आँखों को छोड़कर उसका शरीर भद्दा हो गया था। उसके शरीर पर चेचक के घने निशान हो गए थे। वह हकलाती भी थी। दूसरे बच्चे उसका मजाक उड़ाते थे। परिणामस्वरूप वह कम बोलती थी।

भोली के बारे में चिन्ताएँ
रामलाल की सात सन्तानें थीं–तीन लड़के और चार लड़कियाँ। भोली सबसे छोटी थी। भोली को छोड़कर सभी बच्चे स्वस्थ थे। मंगला और चम्पा की शादी हो जानी थी जब उनका समय आएगा। सबसे बड़ी लड़की राधा की तो पहले ही शादी हो चुकी थी। परन्तु रामलाल को भोली के बारे में चिन्ता थी। वह न तो सुन्दर थी न ही निपुण।

भोली को स्कूल ले जाना
भोली सात वर्ष की थी जब गाँव में प्राईमरी स्कूल खुला। तहसीलदार स्कूल खुलने की रस्म पूरी करने आया। उसने रामलाल को गाँव वालों के लिए एक उदाहरण पेश करने के लिए कहा। उसे अपनी लड़कियों को स्कूल में भेजना चाहिए। पहले तो रामलाल की पत्नी ने इस पर आपत्ति जताई। उसने कहा कि भोली से कोई शादी नहीं करेगा। परन्तु अगले दिन रामलाल भोली को स्कूल ले गया।

स्कूल में भोली
उस दिन भोली ने कुछ सुन्दर कपड़े पहने थे। भोली के लिए कभी नए कपड़े बनवाए ही नहीं गए थे। उसकी बहनों की पुरानी पौशाके उसे दी जाती थीं। उसे नहलाया गया। उसके बालों में तेल डाला गया। भोली को काफी भय था। मुख्याध्यापिका ने भोली को क्लासरूम के एक कोने में बैठने के लिए कहा। भोली को मालूम नहीं था कि स्कूल कैसा होता है। परन्तु उसे खुशी थी कि वहाँ पर उसी की आयु की काफी लड़कियाँ थीं। वे उसकी मित्र बन जाएँगी।

स्कूल में भोली का पहला दिन
महिला अध्यापिका ने दूसरी लड़कियों को कुछ कहा। भोली कुछ नहीं समझी। उसने दीवार पर तस्वीरों को देखा। उन द्वारा उसमें आकर्षण हुआ। ये बकरी, तोता, गाय की थीं। सभी ऐसे थीं जैसे भोली ने देखी थीं। अध्यापिका ने भोली से उसका नाम पूछा। परन्तु वह हकलाती। थी। उसने अपना सिर नीचे रखा। उसने महसूस किया कि दूसरी लड़कियाँ उस पर हँसेंगी। उसने रोना आरम्भ कर दिया।

II
अध्यापिका का भोली के लिए प्यार
अध्यापिका ने उसका नाम पुकारा। वह बहुत मधुरता से बोली। पहले उसे ऐसे किसी ने नहीं बोला था। उसके दिल पर प्रभाव हुआ। अध्यापिका ने फिर उसका नाम पूछा। जब वह हकलाई तो अध्यापिका न तो गुस्सा हुई न ही हँसी। उसने भोली को उत्साहित किया। उसने भोली को प्यार से थपथपाया। उसने भोली को अपने दिल से डर को बाहर निकालने के लिए कहा। उसने उसे यह भी बताया कि वह एक दिन ठीक बोलेगी। फिर वह किसी से नहीं डरेगी।

भोली पढ़ना आरम्भ करती है।
अध्यापिका ने भोली को एक पुस्तक दी। इसमें रंग में कुत्ते, बिल्ली, बकरी, घोड़े, तोते आदि की सुन्दर तस्वीरें थीं। अध्यापिका ने बताया कि वह लगभग एक महीने में पढ़ने के योग्य हो जाएगी। वह एक बड़ी पुस्तक पढेगी। फिर कोई उस पर हँसेगा नहीं। भोली को खुशी हुई। उसने महसूस किया जैसे गाँव के मन्दिर की घंटियाँ बजे रही थीं। उसका दिल एक नई आशा और नए जीवन से तेजी से धड़क रहा था।

भोली के गाँव में परिवर्तन
वर्षों बीत गए। गाँव एक छोटा कस्बा बन गया । प्राईमरी स्कूल हाई स्कूल बन गया। अब, वहाँ एक सिनेमा और कपास (बिनौले निकालने) का मिल था। उनके रेलवे स्टेशन पर एक डाकगाड़ी रुकने लग गई।

बिशम्बर के साथ भोली की शादी के बारे में
एक रात शाम के खाने के बाद रामलाल ने अपनी पत्नी से भोली के साथ शादी करने के बिशम्बर के प्रस्ताव के बारे में पूछा। उसकी पत्नी खुश थी कि भोली को एक अमीर दूल्हा मिल रहा था। बिशम्बर के पास एक बड़ी दुकान और अपना घर था। वह पैतालीस या पचास वर्ष का था। वह लँगड़ाता भी था। उसके पहली पत्नी के बच्चे भी थे। उसे मालूम नहीं था कि भोली के चेहरे पर चेचक के निशान थे। भोली ने स्वयं अपने माता-पिता को ऐसे बातें करते सुना था।

दूल्हे का आना
निर्धारित तारीख पर बिशम्बर दूल्हे के रूप में आया। वह सजी घोड़ी पर बैठा था। दूल्हे के आगे पीतल का बैण्ड चल रहा था। भोली की बहनें उससे ईर्ष्या करने लग गई। रामलाल को भी ऐसी शान देखकर काफी खुशी हुई। उसने कभी स्वप्न भी नहीं लिया था कि उसकी चौथी लड़की की इतनी शानदार शादी होगी।

शादी के बारे में
निर्धारित समय पर ब्राह्मण ने दुल्हन को लाने के लिए कहा। भोली दुल्हन की लाल सिल्क की पोशाक पहने हुए थी। बिशम्बर के मित्रों में से एक मित्र ने भोली को दूल्हे को वरमाला पहनाने को कहा। महिलाओं ने भोली के पूँघट को पीछे हटाया। बिशम्बर ने उसे शीघ्रता से देखा। उसने अपने मित्र से पूछा कि क्या उसने भोली के चेहरे पर चेचक के निशान देखे हैं। उसके मित्र ने उससे कहा कि वह कोई बात नहीं। वह भी युवा नहीं है। बिशम्बर ने पाँच हजार रुपए के दहेज के लिए कहा। रामलाल ने अपनी इज्ज़त-अपनी पगड़ी को बिशम्बर के पैरों में रख दिया। रामलाल को बिशम्बर के लिए दहेज के रूप में पाँच हजार रूपऐ देने थे।

रामलाल द्वारा पाँच हजार रुपये देना
रामलाल ने बिशम्बर को दो हजार रुपये दिए। परन्तु बिशम्बर ने। इन्कार कर दिया। उसने धमकी दी कि वे वापस चले जाएँगे। उसने उसे अपनी बेटी रखने के लिए भी कहा। रामलाल की आँखों में आँसू थे। अन्त में उसने पाँच हजार रुपये बिशम्बर के पैरों में रख दिए। बिशम्बर ने माला की माँग की।

भोली का शादी से इन्कार
एक बार फिर भोली ने अपने चेहरे पर मुँघट ले लिया। परन्तु वह सीधा बिशम्बर को देखने लगी। उसकी आँखों में न तो गुस्सा था न घृणा परन्तु अपमान था। बिशम्बर ने भोली की गर्दन के चारों तरफ माला डालने के लिए उसे ऊपर उठाया। परन्तु उसने उसे आग में फेंक दिया। उसने अपने पिता को बताया कि वह बिशम्बर के साथ शादी नहीं करेगी। उसने उसे पैसा वापिस लेने के लिए कहा। उसने यह भी बताया कि वह वृद्ध लंगड़े व्यक्ति के साथ शादी करने के लिए तैयार थी। परन्तु वह तो लालची और घृणित व्यक्ति निकला। वह उसके साथ शादी नहीं करेगी।

भोली की बहादुरी
दूसरी महिलाएँ हैरान थीं कि एक गूंगी और नुकसानरहित गाय जैसी भोली कैसे हिंसक हो गई थी। भोली ने उनको बताया कि इसी कारण वे उसे उस लालची व्यक्ति को दे रहे हैं। परन्तु वह नहीं जायेगी। सभी वापस जाने लगे। रामलाल भूमि पर जड़ित सा खड़ा रह गया। उसका सिर दुख और शर्म से नीचे झुक गया।

भविष्य के बारे में भोली की सोच
पवित्र आग की लपटें अब समाप्त सी हो गई थीं। रामलाल ने भोली को बताया कि अब कोई भी उससे शादी नहीं करेगा। वे उसके साथ क्या करेंगे ? भोली ने अपने पिता को चिन्ता न करने के लिए कहा। उसने उसे बताया कि वह वृद्धावस्था में उनकी सेवा करेगी। वह उसी स्कूल में पढ़ाएगी। उसकी अध्यापिका ने सारे नाटक को देखा था। उसने इस पर सन्तुष्टि दिखाई। यह ऐसे था जैसे एक कलाकार अपनी उत्पत्ति पर सन्तुष्टि दिखाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting