You cannot copy content of this page

NCERT class 10 English Literature Chapter 14 summary Julius Caesar (notes) explained (translation) in hindi

Julius Caesar Summary In English

The extracts given in this chapter cover an important part of William Shakespeare’s play Julius Caesar in five Acts. These cover mainly those parts in which Julius Caesar is murdered by the conspirators, including Brutus, famous for his uprightness. These also show how Antony turns the tables against them in a very clever manner.

Something unusual seen by Caesar and dreamed by his wife
The opening scene is of Caesar’s house. Caesar is to go to the Senate where he is going to be crowned. Caesar says that there has been a great disturbance on the earth and in the sky tonight. Calpurnia, Caesar’s wife, has cried three times in her sleep that they murder Caesar. Calpurnia enters.

 

What that unusual is !
Calpurnia asks Caesar that he shall not go out of the house today. But Caesar says that the troubles shall vanish when they see Caesar’s face. But Calpurnia is serious. She reasons out why Caesar should not go out. She has been frightened by what the watchman has seen as some unnatural acts. A lioness has given birth to her cubs in the streets. Graves have opened up and thrown the dead out. Fearful warriors have been seen fighting in the clouds. Blood has been seen falling upon the Capitol. Horses have neighed and dead men have groaned. Calpurnia is terribly afraid because of these ill-omens.

Caesar’s reaction and Decius Brutus’s entry
But Caesar does not fear because of these fearful things. He says that cowards die many times before their deaths. The brave die only once. Caesar finds it humorous if he stays at home as per the wish of Calpurnia. Decius Brutus enters to fetch Caesar to the senate- house. Caesar tells him to tell the senators that he won’t come to it. But Brutus wants to know the reason. Caesar tells him that Calpurnia saw in her dream Caesar’s statue with hundred spouts. Blood poured forth from them. Many Romans bathed their hands in it with a smile.

Brutus’s new meaning
Hearing this, Brutus skilfully and cleverly gives a new twist to this dream. He calls it auspicious. He states that the Romans’ bathing their hands in Caesar’s blood signifies that Rome shall be greater and powerful. His blood shall be a thing of great respect. Besides this if Caesar doesn’t go, the senators’ minds may change to make him a king. This affects Caesar and he gets ready to go to the senate- house.

Scene at the Capitol—Caesar’s murder
The scene now shifts to the Capitol. Cimber, as per the plans of the conspirators, bends low before Caesar. He pleads for his brother who has been banished by Caesar. Caesar says that if Cimber flatters for his brother, he would spurn him like a dog because he can’t recall his brother as per the laws. Brutus requests on Cimber’s behalf. Cassius, the conspirator, also pleads. But Caesar doesn’t move. He says that he is like the northern star. He shall remain constant like it in his decision about Cimber’s brother. At this, all the conspirators stab Caesar. When Brutus also stabs, Caesar says out of shock, Et tu, Brute ! (“You, too, Brutus” !)

Mark Antony enters
The conspirators cry out ‘Liberty, freedom and enfranchisement’. Mark Antony enters. He is shocked to see mighty Caesar dead. He is greatly moved at this murder. He pleads before the conspirators to kill him also as it is the best time for him to die with Caesar. But Brutus replies that they can’t kill him as they have murdered Caesar for the well-being of Rome. Cassius tells Antony that he is as dear to them as others.

Antony’s new move
Antony observes the situation and at once starts flattering them. He offers peace with the conspirators but begs to be pardoned by Caesar’s dead body in doing so. Cassius asks Antony about his allegiance. Antony replies cleverly that he is with them though he was swayed from the point by looking down on Caesar’s dead body.

Permission to Antony
Antony has other plans. He seeks permission from Brutus to produce Caesar’s body to the market-place and perform the funeral rites thereafter. Brutus agrees to it. However, Cassius asks Brutus not to permit him because the people may be moved against them by Antony’s speech. But Brutus says that he will speak first and tell the people why they murdered Caesar. Cassius says that he doesn’t like all that. Brutus tells Antony not to blame them for Caesar’s death in his funeral speech. All the conspirators go out.

Antony’s warning for the future
Antony asks to be pardoned by Caesar’s dead body calling it as the ‘bleeding piece of earth’ and conspirators as ‘butchers’. He curses the conspirators that they killed ‘the noblest man’. He forecasts that civil war shall be there in Italy. Blood and destruction shall be common. Seeing that mothers shall shudder in fear. Caesar’s ghost shall wander for revenge and the dead shall cry for burial.

Speech by Brutus, Antony etc
The scene shifts now to the market-place. Brutus, Antony etc, are there with Caesar’s dead body. There have gathered lots of people to hear them speak. Brutus tells the people why they killed Caesar for the well-being of the country. He also tells that Caesar had become ambitious and had to be assassinated. The people approve of what they have done to Caesar.

Antony’s speech
Now it is Antony’s turn to address the people. He says to the Romans that he has come there not to praise Caesar but to bury him. He very cleverly tells them that if Caesar was ambitious he has rightly been murdered. He calls Brutus and others ‘honourable’. He says that Caesar brought many captives to Rome. He thrice refused the crown on the Lupercal. Was he ambitious ? The people now realize that Caesar was not ambitious as pointed out by Brutus.

About Caesar’s will
Antony continues his speech to the Roman people. He says that if he moves the hearts of the people to mutiny, he would do Brutus wrong. But he won’t do so. But he has Caesar’s will in his hands. He doesn’t read it because the people shall dip their handkerchiefs in Caesar’s blood after hearing it. They would beg a hair of Caesar as a legacy because Caesar has left everything of his to the people. The people now insist that Antony should read Caesar’s will.

Showing of Caesar’s will
Antony asks the people to make a ring round Caesar’s body and shed tears and he would show them his will. He says that Caesar wore that mantle when he won the Nervii but Cassius ran his dagger through it. Brutus was Caesar’s angel and he too stabbed him out of sheer ingratitude.

Mob getting sentimental
The people get sentimental looking at Caesar’s wounds. Antony calls for revenge through slaying, killing, burning etc. But the next moment he taunts saying that he should not incite them as the conspirators have done the honourable deed.

Mob gets angry
Antony admits that he does not have wit, worth and good utterance like that of Brutus. But he speaks plainly. This shall put a tongue in every wound of Caesar and every stone of Rome shall mutiny. The people are now enraged and they say that they shall burn the house of Brutus. They now are in Antony’s total favour and get ready to rebel against the conspirators. But Antony reminds them of Caesar’s will. They wait to hear about it.

Mob is incited
Antony now reads the will. He says that Caesar has given in his will seventy-five silver coins to every Roman. He has given the people his private gardens, orchards etc, on the side of Tiber river. This is enough to fire the hearts of the people. They say that a great man like Caesar shall never come. They decide to bury Caesar’s body in the holy place. They then rise to burn the traitors’ houses.

Julius Caesar Summary In Hindi

इस पाठ में दिये गये अंश विलियम् शैक्सपीयर के पाँच अङ्कों वाले नाटक जुलियस सीजर के महत्त्वपूर्ण हिस्से को दिखाते हैं। ये मुख्यतया वे भाग दिखाते हैं जिनमें जुलियस सीजर की हत्या षड्यन्त्रकारियों द्वारा की जाती है जिनमें ब्रुट्स भी शामिल है जो अपनी ईमानदारी के लिये प्रसिद्ध है। ये यह भी दिखाते हैं कि अन्टनी कैसे चतुराई से उनके गन्दे कार्य को उन्हीं के मुँह पर फेंकता है।

सीजर द्वारा देखा गया और उसकी पत्नी द्वारा लिया स्वज कुछ असाधारण
पहला दृश्य सीजर के घर का है। सीजर को सैनेट में जाना है। जहाँ पर उसे ताज पहनाया जायेगा। सीजर कहता है कि आज रात पृथ्वी और आकाश में काफी विघ्न रहा है। सीजर की पत्नी कल्पर्निया अपनी नींद में तीन बार चिल्लाई है कि वे सीजर की हत्या कर रहे हैं। कल्पर्निया प्रवेश करती है।

वह असाधारण क्या है !
कल्पर्निया सीजर को कहती हैं कि आज वह घर से बाहर नहीं जायेगा। परन्तु सीजर कहता है कि जब कष्ट सीजर का चेहरा देखेंगे तो वे अदृश्य हो जायेंगे। परन्तु कल्पर्निया गम्भीर हैं। वह तर्क देती है कि क्यों सीजर को बाहर नहीं जाना चाहिये। जो कुछ चौकीदार ने अप्राकृतिक कार्य देखे हैं वह उससे भयभीत है। एक शेरनी ने गलियों में अपने बच्चों को जन्म दिया है। कब्रे खुल गई हैं और इन्होंने मुद्दों को बाहर फेंक दिया है। भयानक योद्धाओं को बादलों में लड़ते देखा गया है। कैपिटोल पर खून गिरता देखा गया है। घोड़े हिनहिनाये हैं और मृतक कराहे हैं। कल्पर्निया इन अपशकुनों के कारण काफी भयभीत है।

सीजर की प्रतिक्रिया और डैसियस छुट्टस का आगमन
परन्तु सीजर इन भयानक चीजों से भयभीत नहीं है। वह कहता है कि डरपोक अपनी मृत्युओं से पहले कई बार मरते हैं। वहादुर सिर्फ एक ही बार मरते हैं। सीजर इसे मजाकिया पाता है यदि वह कल्पर्निया की इच्छानुसार घर रहता है। डैसियस ब्रटस सीजर को सैनेट हाऊस ले जाने के लिये आता है। सीजर उसे कहता है कि वह सैनेटरों को बता दे कि वह वहाँ नहीं आ रहा। परन्तु बुट्टस कारण जानना चाहता है। सीजर उसे बताता है कि कल्पर्निया ने अपने स्वप्न में सीजर के बुत को सैकड़ों टॉटियों के साथ देखा है। उनसे खून बह रहा था। उसमें बहुत से रोमवासियों ने मुस्कुराते हुये अपने हाथ गीले किये।

बुट्टस का नया अर्थ
यह सुन कर ब्रुटस बड़ी बुद्धिमत्ता और चालाकी से इस स्वप्न को दूसरा अर्थ (मोड़) दे देता है। वह इसे शुभ कहता है। वह बताता है कि रोमवासियों का सीजर के खून में हाथ भिगोने का अर्थ है कि रोम महानतम और ताकतवर बनेगा। उसका खून काफी सम्मान का पात्र होगा। इसके अतिरिक्त यदि सीजर नहीं जाता है तो सैनेटरों के मन उसे सम्राट बनाने के लिए बदल सकते हैं। इससे सीजर प्रभावित हो जाता है और वह सैनेट हाऊस जाने के लिए तैयार हो जाता है।

कैपिटोल का दृश्य-सीजर की हत्या
अय कैपिटोल का दृश्य आता है। षडयन्त्रकारियों की योजनानुसार सिम्बर सीजर के सामने नीचे झुकता है। वह अपने भाई की तरफ से प्रार्थना करता है जिसे सीजर द्वारा देश निकाला दिया जा चुका है। सीजर कहता है कि यदि सिम्बर अपने भाई की तरफ से चापलूसी करता है तो वह उसे एक कुत्ते की तरह लात मारेगा क्योंकि वह कानून के अनुसार उसके भाई को वापिस नहीं बुला सकता। ब्रुट्स सिम्बर की तरफ से प्रार्थना करता है। षड्यन्त्रकारी कैसियस भी प्रार्थना करता है। परन्तु सीजर टस से मस नहीं होता। वह कहता है कि वह उत्तरी तारे (ध्रुव तारे) की तरह है। वह इसकी तरह सिम्बर के भाई के बारे में अपने फैसले में अडिग रहेगा। इस पर सारे षडयन्त्रकारी सीजर को छुरे घोंप देते हैं। जब ब्रुट्स भी छुरा घोंपता है तो सीजर झटके से कहता है “तुम भी, बुट्टस।”

मार्क अन्टनी का प्रवेश
षडयन्त्रकारी चिल्लाते हैं ‘स्वच्छन्दता, स्वतन्त्रता और वोट का अधिकार’। मार्क अन्टनी प्रवेश करता है। उसे ताकतवर सीजर को मृत देखकर झटका लगता है। वह इस हत्या पर अत्यधिक हिल गया है। वह षड्यन्त्रकारियों से प्रार्थना करता है कि वे उसे भी मार दें क्योंकि यह उसके लिये सीजर के साथ मरने का बहुत ही उत्तम समय है। परन्तु ब्रुट्स उत्तर देता है कि वे उसे नहीं मार सकते जैसे उन्होंने सीजर को रोम की भलाई के लिये मारा है। कैसियस अन्टनी को बताता है कि वह उनको इतना ही प्रिय है जितने कि दूसरे|

अन्टनी की नई चाल
अन्टनी हालत को भांपता है और एक दम उनको चापलूसी करना आरम्भ कर देता है। वह षड्यन्त्रकारियों के साथ शान्ति की पेशकश करता है परन्तु सीजर के मृत शरीर के सामने ऐसा करने के लिये माफी मांगता है। कैसियस अन्टनी से उसकी निष्ठा के बारे में पूछता है। अन्टनी चालाकी से उत्तर देता है कि वह उनके साध है यद्यपि वह बिन्दु से सीजर के मृत शरीर को देखकर घूम (हट) गया था।

अन्टनी को अनुमति
अन्टनी की दूसरी योजनायें हैं। वह ब्रुट्स से सीजर के मृत शरीर को बाज़ार में ले जाने और उसके बाद उसका अन्तिम संस्कार करने के लिये इजाजत मांगता है। बुट्टस उसे मान लेता है। परन्तु कैसियस बुट्टस को उसे इजाजत न देने के लिये कहता है क्योंकि लोग अन्टनी के भाषण के बाद उनके विरुद्ध हो सकते हैं। परन्तु ब्रटस कहता है कि वह स्वयं पहले बोलेगा और लोगों को बतायेगा कि उन्होंने सीजर की हत्या क्यों की। कैसियस कहता है कि वह उस सभी को पसन्द नहीं करता। ब्रुट्टस अन्टनी को कहता है कि वह अपने शोक भाषण में सीजर की मृत्यु के लिये उन्हें जिम्मेवार न ठहराये। सारे षड्यंत्रकारी बाहर चले जाते हैं।

अन्टनी की भविष्य के लिए चेतावनी
अन्टनी सीजर के मृत शरीर के सामने उसे खून बहने वाला ‘पृथ्वी का भाग’ और षड्यन्त्रकारियों को ‘कसाई’ कहते हुये माफी मांगता है। वह षड्यन्त्रकारियों को शाप देता है कि उन्होंने एक ‘उत्तम व्यक्ति’ की हत्या की है। वह भविष्यवाणी करता है कि इटली में गृहयुद्ध छिड़ जायेगा। खून और विनाश आम होंगे। उनको देखकर मातायें भय में कांप उठेंगी। सीजर का भूत बदले के लिये – घूमेगा और मृतक अन्तिम संस्कारों के लिये चिल्लायेंगे।

बुट्टस, अन्टनी आदि द्वारा भाषण
अब बाजार का दृश्य है। ब्रुट्स और अन्टनी आदि सीजर के मृत शरीर के साथ हैं। उन्हें बोलते सुनने के लिये काफी व्यक्ति वहाँ पर इकट्ठे हो गये हैं। बुट्टस व्यवितयों को बताता है कि उन्होंने सीजर को देश की भलाई के लिये क्यों मारा। वह यह भी बताता है कि सीजर महत्त्वाकांक्षी हो गया था और उसकी हत्या करनी पड़ी। लोग जो कुछ उन्होंने सीजर के साथ किया है उसका अनुमोदन करते हैं।

अन्टनी का भाषण
अब लोगों के सामने बोलने की अन्टनी की बारी हैं। वह Romans को कहता है कि वह वहाँ पर सीजर की प्रशंसा करने नहीं परन्तु उसका अन्तिम संस्कार (दफन) करने के लिये आया हैं। वह बड़ी चालाकी से उन्हें बताता है कि यदि सीजर महत्त्वाकांक्षी था तो उसकी सही हत्या हुई है। वह ब्रुट्स और दूसरों को ‘सम्माननीय’ कहता है। वह कहता है कि सीजर बहुत से बंदियों को रोम लाया। उसने लुपरकॉल पर तीन बार ताज लेने से इन्कार कर दिया। क्या वह महत्त्वाकांक्षी था ? अब व्यक्ति यह महसूस करते हैं कि सीजर महत्त्वाकांक्षी नहीं था जैसे ब्रुट्स ने बताया था।

सीजर के वसीयतनामे के बारे में
रोम के व्यक्तियों के लिए अन्टनी अपना भाषण जारी रखता है। वह कहता है कि यदि वह लोगों के दिलों को विद्रोह के लिये भड़काता है तो वह ब्रुट्स के प्रति गलती करेगा। परन्तु वह ऐसा नहीं करेगा। परन्तु उसके हाथों में सीजर का वसीयतनामा है। वह इसे नहीं पढ़ता क्योंकि इसे सुनकर व्यक्ति अपने रूमालों को सीजर के खून में भिगोयेंगे। वे सीजर के बाल को पैतृक सम्पत्ति के रूप में मांगेंगे क्योंकि सीजर ने अपना सब कुछ लोगों के लिये छोड़ दिया हैं। लोग अब जिद्द करते हैं कि अन्टनी सीजर का वसीयतनामा पढ़े।

सीजर के वसीयतनामे को दिखाना
अन्टनी लोगों को सीजर के मृत शरीर के चारों तरफ एक घेरा बनाने और आंसू बहाने के लिये कहता है और वह उन्हें उसका वसीयतनामा दिखायेगा। वह कहता है कि सीजर ने उस लवादे को तब पहना था जब उसने नरवाई को जीता था परन्तु कैरिया ने इसके बीचों बीच अपना छुरा घोंप दिया। ब्रुट्टस सीजर के लिये देवता समान था और उसने भी मात्र (केवल) कृतघ्नता के कारण उसे छुरा घोंप दिया।

लोगों ( भीड़) की भावुकता
लोग सीजर के घावों को देखकर भावुक हो जाते हैं। अन्टनी हत्या करने, मारने, जलाने द्वारा बदला लेने के लिये कहता है। परन्तु अगले क्षण वह ताना मार कर कहता है कि उसे उन्हें भड़काना नहीं चाहिये क्योंकि षड्यन्त्रकारियों ने एक सम्मानजनक कार्य किया है।

भीड़ का गुस्से में होना
अन्टनी मानता है कि उसमें ब्रुट्स जैसी बुद्धि, योग्यता और वाक्चातुर्य नहीं है। परन्तु वह स्पष्ट बोलता है। इसके कारण सौर के हर एक घाव में जुबान उत्पन्न हो जायेगी और रोम का हर एक पत्थर विद्रोह करेगा। लोग अब गुस्से में हैं और वे कहते हैं कि वे अट्टस के घर को जला देंगे। वे अब अन्टनी की पूर्ण तरफ हैं और षड्यन्त्रकारियों के विरुद्ध विद्रोह करने के लिये तत्पर हो जाते हैं। परन्तु अन्टनी उन्हें सीजर के वसीयतनामे की याद दिलाता है। इसके बारे में सुनने के लिये वे प्रतीक्षा करते हैं।

भीड़ का गुस्सा
अब अन्टनी वसीयतनामे को पढ़ता है। वह कहता है कि सीजर ने अपने वसीयतनामे में हरेक रोमवासी को चाँदी के पचहत्तर सिक्के दिये हैं। उसने टीब्बर नदी की तरफ फलों के अपने निजी बाग और वृक्ष आदि लोगों को दिये हैं। यह लोगों के दिलों में आग लगाने के लिये काफी हैं। वे कहते हैं कि सीजर जैसा महान व्यक्ति फिर कभी नहीं आएगा। वे सीजर के मृत शरीर को पवित्र स्थान पर दफनाने का निर्णय लेते हैं। वे फिर देशद्रोहियों के घरों को जलाने के लिये उठ खड़े होते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting