You cannot copy content of this page

NCERT class 10 English Literature Chapter 3 summary The Letter (notes) explained (translation) in hindi

The Letter Summary In English

Ali’s going to post office in early morning
In the early dawn, stars glowed as the old I man went. He recollected the happy memories of his life. He was walking through the town. He was pulling his torn clothes tightly close I to his body as it was very cold. He heard the sound of grinding stones from the houses. There also came the bark of a dog or a chirp of a bird. Most of the residents were still asleep in that intense cold. The old man shivered. He walked wearily supporting himself on his old stick.

 

Scene when post office opens
After some time, he reached the building of r the post office. He felt happy like a pilgrim when he reaches the destination. He sat quietly on the veranda. He heard the sound of some people coming to him. A voice called ‘Police Superintendent’. It was the voice of the I post office official. He was calling for the person to receive the letter for this police official. The old man was startled at the sound but composed himself to wait.

Calling of names by the post office clerk
The clerk in the post office read names after names. These were of the Commissioner, – Superintendent, Diwan Sahib and he flung the letters out. Someone called ‘Coachman Ali’ out of a joke seeing the old man Ali. He got up and went to Gokul Bhai, the post office official. He told him that he had called his name. He ‘ was there to receive his letter. But the clerk retorted. He told the postmaster that a mad man (the old man Ali) came there every day and worried them. Ali went back slowly to the bench. He had been coming to sit there for five years.

Ali’s past
Ali had been a clever hunter. He had become very skilled in and habitual of hunting. It was difficult for him to remain without it. He used to take out a partridge or a hare from a bush which had not been seen even by the dogs. He was a fine points man also. But now the evening of his life was drawing in. He had left his old ways.

Ali’s loneliness
Ali’s only child Miriam had married and left him. She had gone with her husband who was a soldier in the army posted in Punjab. For the last five years Ali had no news of his daughter for whom he had been living now. He was like the young partridges without their parents. He could no longer enjoy the old pleasure of his hunting days. Obviously, he had felt the realities of life and understood them.

Ali’s coining to post office daily
He had been turned lonely in the going of Miriam after her marriage. He reflected deeply lost in the admiration of the green fields. He concluded that the whole universe is built up through love. But the grief of separation is also inescapable. He wept bitterly thinking of it.

From that day he used to come around five every morning to the post office to receive a letter from his only daughter Miriam. In his whole life he had not received even a single letter. Yet he came daily to the post office hoping that he would receive it. The post office building had become for him a place of pilgrimage.

Comments by post office officials on Ali’s coming to post office
While Ali waited, peons would talk about their masters’ scandals. They used to come to receive letters for their masters. The postmaster would sit lifeless with a wooden face. One day when the peons from different offices had gone with their bosses’ mail, Ali got up and saluted the post office as if it were a relic. The post¬master asked if Ali was mad. The clerk told the postmaster that he had been coming there everyday for the last five years. But he hadn’t got any letter.

Post office officials’ indirect comments on Ali as mad
Then there arose a discussion among the postmaster, the postman and the clerk. They commented differently on madmen meaning indirectly that Ali was a madman. The postmaster talked of a postman in Ahmedabad who would make little heaps of dust. Then they talked of madness. They said that the mad lived in the world of their own making. The madman’s world is like the poet’s world, commented the postmaster sarcastically.

Ali’s insult by postmaster
For several days Ali didn’t come to the post office. At last he came again one day. This time he couldn’t even breathe properly. He went to the postmaster and asked him if he had a letter from his Miriam. The postmaster replied angrily. He told him to write his name in case he got a letter from Miriam. He hoped that the postmaster would deliver his letter. The postmaster lost his temper and asked Ali to get away. Ali came out but his eyes had tears of helplessness. His patience had been exhausted.

Ali’s giving money to post office clerk
Ali saw a clerk coming behind him. Ali talked to him. He offered him five golden guineas and asked him to do him a favour. Ali told the clerk in Allah’s name to forward his Miriam’s letter to him to his grave. He told him that that day was his last day. There were tears in Ali’s eyes. He was never seen again there. Also no one troubled to enquire after him.

Illness of postmaster’s daughter
One day, trouble came to the postmaster. His daughter lay ill in another town. He was anxiously waiting for news of her but there was no letter. Seeing the mail, he found one letter addressed to Ali. He dropped it with a shock. He felt that it must be from Ali’s daughter Miriam. He called the clerk Lakshmi Das and told him to search for Ali and give that letter to him.

Postmaster’s worry
The postmaster did not receive any news of his daughter. He worried all night. He got up at three at night and went to sit in the post office. Now he had understood Ali’s heart and soul through his own pain.

Ali’s ghost before the postmaster
At five, he heard a soft knock at the door. It was Ali. The postmaster rose from the chair and opened the gate. He saw Ali leaning on his stick and asked him to come in. He had tears on his face. But he seemed unearthly. The postmaster shrank back in fear and as¬tonishment (at Ali’s ghost).

Truth about Ali’s death
Lakshmi Das had heard the postmaster’s words as he came towards the post office from another side. He asked the postmaster if that was Ali. But the postmaster continued star¬ing at the doorway from which Ali had disap¬peared. He told Lakshmi Das that it was Ali. He wondered where he might have gone. But Lakshmi Das replied that Ali had died three months before.

Change in postmaster’s mind and heart
The postmaster was bewildered. Ali’s image was still before his eyes and Miriam’s letter was before him. The daily routine started in the office but the postmaster’s heart was elsewhere. He heard the clerk calling the names of Police Commissioner, Superinten-dent, etc. Now the postmaster didn’t treat their letters as envelopes or postcards. He treated them as something which had been coloured with humanity.

Ali’s letter delivered at his grave
That evening both the postmaster and Lakshmi Das went to Ali’s grave. They laid t the letter on it and turned back. The postmaster asked Lakshmi Das if he had been the first to come to the office that morning. Lakshmi Das replied that he was. But the postmaster couldn’t understand anything about Ali’s coming. He now realised and understood Ali’s anxiety. He was tortured by doubt and anxiety as he sat in the glow of the if charcoal sigri. He sat there waiting for his daughter’s news.

The Letter Summary In Hindi

काफी सुबह अली का डाकखाने जाना
अधिक सुबह के समय तारे चमक रहे थे जब वृद्ध व्यक्ति चलता गया। उसने अपने जीवन की खुशी को यादगारों को याद किया। वह कस्बे में चल रहा था। वह अपने फटे-पुराने कपड़ों को अपने शरीर के साथ सटा कर खींच रहा था क्योंकि काफी उण्ड थी। उसने घरों से पत्थरों की चक्कियों द्वारा पीसने की आवाजे सुनीं। एक कुत्ते के भौंकने की और पक्षी के चहचहाने की आवाज भी आई। उस कड़ाके की सर्दी में अधिकतर निवासी अभी तक सो रहे थे। वृद्ध व्यक्ति काँपा। वह अपनी पुरानी लाठी के सहारे थका हुआ चलता गया।

डाकखाने के खुलने का दृश्य
कुछ समय पश्चात् वह डाकखाने के भवन पर पहुँच गया। उसने एक तीर्थयात्री की तरह खुशी महसूस की जैसे वह गंतव्य पर पहुँच जाता है। वह शान्ति से बरामदे में बैठ गया। उसने अपने पास आती हुई कुछ व्यक्तियों की आवाज सुनी। एक आवाज़ आई ‘पुलिस अधीक्षक’। यह डाकघर कर्मचारी की आवाज थी। वह इस पुलिस अधिकारी के लिए एक व्यक्ति को पत्र लेने के लिये कह रहा था। वृद्ध व्यक्ति आवाज सुनकर चौंका परन्तु उसने प्रतीक्षा करने के लिए स्वयं को नियन्त्रित कर लिया।

डाकखाने के क्लर्क द्वारा नाम बोले जाना
डाकखाने के क्लर्क ने नाम के पश्चात् नाम पढे। ये कमिश्नर, अधीक्षक, दीवान साहिब के थे और उसने पत्रों को बाहर फेंक दिया। वृद्ध व्यक्ति अली को देखकर किसी ने मजाक में ‘कोचमैन अली’ पुकारा। वह उठा और डाकखाने के कर्मचारी गोकुल भाई के पास गया। उसने उसे बताया कि उसने उसका नाम पुकारा था। वह अपना पत्र लेने के लिये वहाँ आया था। परन्तु क्लर्क झुंझला गया। उसने ‘पोस्टमास्टर के सामने कहा कि एक पागल व्यक्ति (वृद्ध व्यक्ति अली) वहाँ रोज आता है और उन्हें परेशान करता है। अली धीरे से बैंच पर वापस चला गया। वह वहाँ बैठने के लिए पाँच वर्षों से आ रहा था।

अली का भूतकाल
अली एक चतुर शिकारी था। वह बहुत निपुण और शिकार का आदी हो गया था। उसके लिए इसके बिना रहना काफी कठिन था। वह वैसे तीतर या खरगोश को झाड़ी से निकाल लिया करता था जिसे कुत्तों ने भी नहीं देखा होता था। वह एक उत्तम निशानेबाज
भी था। परन्तु उसके जीवन की शाम अब समीप आ रही थी। उसने अपने पुराने तौर-तरीके छोड़ दिये थे।

अली का अकेलापन
अली की अकेली सन्तान मिरियम की शादी हो गई थी और वह उसे छोड़कर चली गई थी। वह अपने पति के साथ चली गई थी जो फौज में एक सैनिक था और पंजाब में तैनात था। पिछले पाँच वर्षों से अली को अपनी पुत्री की कोई खबर नहीं मिली थी जिसके लिए अब वह जी रहा था। वह युवा तीतरों की तरह था जो अपने माता पिता के बिना रह गये थे। वह अपने शिकार के दिनों की पुरानी खुशी का अब और आनन्द उठा नहीं सकता था। स्पष्टतया उसने जीवन के सत्यों को महसूस कर लिया था और उन्हें समझ गया था।

अली का रोज डाकखाने आना
वह मिरियम के उसकी शादी के पश्चात् चले जाने से अकेला हो गया था। उसने हरे भरे खेतों की प्रशंसा में खोये हुये गहराई से सोचा। उसने परिणाम निकाला कि सारा संसार प्यार द्वारा बना हुआ हैं। परन्तु बिछुड़ने का दुख भी ऐसा है जिससे कोई बच नहीं सकता। वह यह सोचकर फूट-फूट कर रोया।

उस दिन से अपनी अकेली पुत्री मिरियम से पत्र प्राप्ति के लिये वह डाकखाने में हरेक सुबह लगभग पाँच बजे आता था। अपने सारे जीवन में उसे एक पत्र भी नहीं मिला था। फिर भी वह आशा करते हुये कि वह इसे प्राप्त करेगा डाकखाने में रोज आता था। डाकखाने का भवन उसके लिए एक तीर्थस्थान हो गया था।

अली के डाकखाने आने पर डाकखाना कर्मियों द्वारा टीका-टिप्पणी
जब अली प्रतीक्षा करता था तो चपरासी अपने मालिकों के बुरे कारनामों के बारे में बातें करते। वे अपने मालिकों की डाक लेने आया करते थे। पोस्टमास्टर बिना आकृति वाला चेहरा लिए निर्जीव अवस्था में बैठा रहता। एक दिन जब भिन्न-भिन्न दफ्तरों से आये चपरासी अपने अफसरों की डाक लेकर चले गये तो अली उठा और डाकखाने को नमस्ते की जैसे कि वह कोई पवित्र अवशेष हो। पोस्टमास्टर ने पूछा कि क्या अली पागल है। क्लर्क ने पोस्टमास्टर को बताया कि वह पिछले पाँच वर्षों से वहाँ हर रोज आ रहा था। परन्तु उसे कोई पत्र नहीं मिला है।

डाकखाने के कर्मचारियों द्वारा अली को पागल करार देने की अप्रत्यक्ष टीका-टिप्पणी
तब पोस्टमास्टर, डाकिया और क्लर्क के बीच एक बहस छिड़ गई। उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप में अली को पागल करार देते हुये पागल व्यक्तियों पर अलग-अलग बातें कीं। पोस्टमास्टर ने अहमदाबाद में एक डाकिये के बारे में बात की जो मिट्टी के छोटे-छोटे ढेर बनाया करता था। फिर उन्होंने पागलपन के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि पागल अपने द्वारा बनाई गईं स्वयं की दुनिया में रहते हैं। पोस्टमास्टर ने व्यंग्यात्मक ढंग से कहा कि पागल व्यक्ति की दुनिया एक कवि की दुनिया की तरह होती है।

अली का पोस्टमास्टर द्वारा अपमान
कई दिनों से अली डाकखाने नहीं आया। अन्त में वह एक दिन फिर आया। इस बार वह अच्छी प्रकार से सांस भी नहीं ले सकता था। वह पोस्टमास्टर के पास गया और उससे पूछा कि क्या उसे उसकी मिरियम से एक पत्र मिला है। पोस्टमास्टर ने गुस्से से उत्तर दिया। उसने उसे उसका नाम लिखने के लिए कहा यदि उसे मिरियम का पत्र मिले। उसने आशा की कि पोस्टमास्टर उसका पत्र भिजवा देगा। पोस्टमास्टर को गुस्सा आ गया और अली को बाहर जाने के लिए कहा। अली बाहर आ गया परन्तु उसकी आँखों में विवशता के आँसू थे। उसकी सहनशीलता समाप्त हो गई थी।

अली द्वारा डाकखाना क्लर्क को पैसा दिया जाना
अली ने एक क्लर्क को अपने पीछे आते देखा। अली ने उससे बातें कीं। उसने उसे सोने की पाँच गिन्नियाँ दी और उसे उसके लिए एक काम करने को कहा। अली ने अल्लाह का नाम लेकर क्लर्क को बताया कि वह उसकी मिरियम का पत्र उसकी कब्र पर पहुँचा दे। उसने उसे बताया कि वह दिन उसका अन्तिम दिन था। अली की आँखों में आँसू थे। उसे दोबारा वहाँ कभी नहीं देखा गया। किसी ने भी उसके बारे में पूछताछ करने के लिए कष्ट नहीं किया।

पोस्टमास्टर की पुत्री का बीमार होना
एक दिन पोस्टमास्टर को एक कष्ट हो गया। दुसरे कस्बे में उसकी पुत्री बीमार पड़ गई। वह उसकी खबर पाने के लिए उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रहा था परन्तु कोई पत्र नहीं मिला। डाक को देखते हुए उसने अली के नाम एक पत्र देखा। उसने इसे झटके के साथ नीचे गिरा दिया। उसने महसूस किया कि अवश्य ही यह अली की पुत्री मिरियम का पत्र होगा। उसने क्लर्क लक्ष्मी दास को बुलाया और उसे अली को ढूंढने और उस पत्र को उसे देने के लिए कहा।

पोस्टमास्टर की चिन्ता
पोस्टमास्टर को अपनी पुत्री का कोई समाचार प्राप्त नहीं हुआ। उसने सारी रात चिन्ता की। वह रात को तीन बजे उठा और डाकखाने में बैठने के लिए गया। अब वह अपने दुख के द्वारा अली के दिल और आत्मा को समझ गया था।

पोस्टमास्टर के सामने अली का भूत
पाँच बजे उसने दरवाजे पर एक हल्की सी खटखटाहट सुनो। यह अली था। पोस्टमास्टर कुर्सी से उठा और उसने दरवाजा खोला। उसने अली को अपनी लाठी पर झुकते हुए देखा और उसे अन्दर आने के लिए कहा। उसके चेहरे पर आँसू थे। परन्तु वह अप्राकृतिक दिख रहा था। (अली के भूत पर) पोस्टमास्टर भय व आश्चर्य में सिकुड़कर पीछे हट गया।

अली की मृत्यु की सच्चाई
लक्ष्मी दास ने पोस्टमास्टर के शब्द सुने थे जैसे वह दूसरी तरफ से डाकखाने की तरफ आया था। उसने पोस्टमास्टर से पूछा कि क्या वह अली था। परन्तु पोस्टमास्टर ने दरवाजे पर घूरकर देखना जारी रखा जिससे अली अदृश्य हो गया था। उसने लक्ष्मी दास को बताया कि वह अली था। उसे आश्चर्य था कि वह कहाँ गया होगा। परन्तु लक्ष्मी दास ने उत्तर दिया कि अली की तो तीन महीने पहले मृत्यु हो गई थी।

पोस्टमास्टर के दिमाग व दिल में परिवर्तन
पोस्टमास्टर भयभीत हो गया था। अली का चेहरा अब भी उसकी आँखों के सामने था और मिरियम का पत्र उसके सामने थी। दफ्तर में रोज का कार्य आरम्भ हो गया परन्तु पोस्टमास्टर का दिल कहीं और था। उसने क्लर्क द्वारा पुलिस कमिश्नर, अधीक्षक आदि के नामों को पुकारते हुए सुना। अब पोस्टमास्टर ने उनके पत्रों को लिफाफे या पोस्टकार्ड के रूप में नहीं देखा। वह इन पर ऐसे देखता था जैसे कि ये मानवता से रंगी हुई कोई वस्तु हों।

अली का पत्र उसकी कब्र पर भिजवाना
उस शाम पोस्टमास्टर और लक्ष्मी दास दोनों अली की कब्र पर गये। उन्होंने इस पर पत्र रख दिया और वे वापिस मुड़े। पोस्टमास्टर ने लक्ष्मी दास से पूछा कि क्या वह उस सुबह दफ्तर में आने वाला पहला व्यक्ति था। लक्ष्मी दास ने हाँ में उत्तर दिया। परन्तु पोस्टमास्टर अली के आने के बारे में कुछ नहीं समझ सका। अब उसने अली की चिन्ता को महसूस किया और इसे समझा। वह सीगड़ी के कोयलों की रोशनी में सन्देह और चिन्ता द्वारा सताया हुआ बैठा। वह वहाँ अपनी पुत्री के समाचार की प्रतीक्षा करता हुआ बैठा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting