You cannot copy content of this page

NCERT class 10 English Literature Chapter 5 summary Patol Babu , Film Star (notes) explained (translation) in hindi

Patol Babu, Film Star Summary In English

Introduction
‘Patol Babu, Film Star’ is a story of Patol Babu who, once, had been in great demand for stage shows. But now he was hard up due to no work. He had been struggling much to make a living. An offer for a little role in a film emboldened him. But he found it demeaning for his calibre. He disappeared from the shooting site without accepting his remuneration after performing this role almost flawlessly.

Meeting between Nishikanto Ghosh and Patol Babu
One day Nishikanto Ghosh called on Patol Babu, his neighbour. He told him that his youngest brother-in-law Naresh Dutt was in film business. He was looking for a person around fifty and bald-headed for a small role in a film. He told him that since he had acted on the stage he could do that role. Patol Babu desired to talk to Nishikanto’s brother-in-law. He was on hard days.

Past of Patol Babu
At one time Patol Babu had a real passion for the stage. There was a time when people bought tickets especially for him. He lived then in Kanchrapara and worked in a railway factory. In 1934 he went to Calcutta (now Kolkata) to join Hudson and Kimberley but was retrenched due to war. Since then he had been struggling to make a living.

His struggle and acting
Patol Babu opened a variety store but had to wind it up. He had a job in a Bengali film but had to leave it up because of the boss’s attitude. Then he acted as an insurance salesman. Now he was with an establishment dealing in scrap iron. Acting had now become a thing of the past. He would recall his powerful dialogues and feel their thundering sound.

Meeting with Naresh Dutt
Naresh Dutt called on Patol Babu. He felt a little hesitant to see Patol Babu about the role. However, he told him that the shooting would take place the next day in Faraday House. Patol Babu was to reach there at eight- thirty sharp. On being asked about the role, Naresh Dutt told him that it was of a pedestrian. He would have a dialogue also. This thrilled him greatly.

Patol Babu and his wife
After Naresh Dutt left Patol Babu shared his joy with his wife. He told her that he would grow famous again with that. But his wife told him to be realistic. He should not build airy castles.

Patol Babu reaches the shooting site, waits
Patol Babu reached Faraday House. He saw the shooting equipment spread over there. He searched for Naresh Dutt. He perspired due to the heat and the jacket that he wore for his role. Naresh Dutt told Patol Babu to stand in the shade of a paan shop. He also told him that he would be called for shooting soon. Patol Babu asked him for his dialogue.

Of shooting
The shooting was soon going to start. There were a lot of people to see it. Patol Babu heard the direction of the director for shooting like ‘Running!’ ‘Camera!’ ‘Rolling!’ ‘Action’. He also heard from the crowd that the lead role was being performed by Chanchal Kumar. Patol Babu seemed to have heard that name. He was also told that Baren Mullick was the director who had had three hits in a row.

Patol Babu given his dialogue
Naresh Dutt gave Patol Babu a tea cup. Patol Babu asked him for his dialogue. Sosanko wrote it on a paper. It was only ‘Oh!’ Patol Babu felt choked at it. He exclaimed that i he found that rather strange. This set his thinking cycle on.

What happens after Patol Babu has his dialogue
Patol Babu’s dialogue of ‘Oh!’ made him think differently. He wondered whether it was to insult his calibre as an actor! When he exclaimed Sosanko added that he was the luckiest that in Baren Mullick film he had a dialogue. Hundreds of people just walked in ! his films without a dialogue.

Patol Babu told the scene and his role
Jyoti came up to Patol Babu. He explained 1 the scene to him that Chanchal Kumar would come and collide with him. He was to act as an absent-minded pedestrian. He went slowly to the paan shop. He threw the paper on which the dialogue was written. He heard the songs in praise of the goddess Kali coming there. He thought why he should waste a Sunday morning in the company of these useless people. He thought that things were better on the stage.

What Patol Babu thinks and does as an artist
At this Patol Babu recalled the words of Gogon Pakrashi, his mentor. Gogon had told him never to consider any sort of role below dignity. He was an artist and it was the duty of the artist to squeeze the last drop of meaning out of the lines. The memory made Patol Babu give it a different meaning and emotion to the single word of his dialogue ‘Oh!’ when it was spoken differently.

Patol Babu before the collision
At last Patol Babu’s turn came. Now he had ceased to be indifferent to his role. The real artist had been born in him. He was made to count his steps when he was to collide with Chanchal Kumar. He told the director that if he had had a newspaper in hand while colliding, the scene would seem more real. His suggestion was accepted. He was given moustache, too, to wear to look more realistic.

Patol Babu before and after the shoot
Patol Babu looked at his face in the mirror. He also cleared his throat. He mixed the emotion of irritation and surprise in his dialogue. The collision occurred at the most appropriate time. Chanchal Kumar had to massage his head due to the impact of the collision. He also complimented Patol Babu that he was a good actor. After the scene had been shot, Patol Babu went to the paan shop. He felt fully satisfied with his acting. He slipped back home without getting the money for his role.

Patol Babu disappears without being paid
Ten minutes later Naresh Dutt went looking for Patol Babu near the paan shop. He had not yet been paid and needed to be paid. He wondered what a strange fellow Patol Babu was! The shooting resumed but Patol Babu was found nowhere.

Patol Babu, Film Star Summary In Hindi

प्रस्तावना
‘Patol Babu, Film Star’, Patol Babu की कहानी है जिसकी मांग कभी मंच प्रदर्शन (शो) के लिये काफी हुआ करती थी। परन्तु अब बिना काम के वह काफी तंग था। वह रोजी-रोटी कमाने के लिये काफी संघर्ष कर रहा था। फिल्म में एक छोटे से रोल की पेशकश ने उसकी हिम्मत बँधा दी। परन्तु उसने इसे अपने स्तर के लिये काफी निम्न पाया। बिना पैसे लेकर लगभग बिना किसी कमी के इस रोल को सुचारू रूप से करने के पश्चात वह शूटिंग स्थान से अदृश्य हो गया।

Nishikanto Ghosh और Patol Babu के बीच की मुलाकात
एक दिन Nishikanto (Ghosh अपने पड़ोसी Patol Babu के पास आया। उसने उसे बताया कि उसका सब से छोटा साला Naresh Dutt फिल्म लाइन में था। वह लगभग पचास वर्ष के किसी गंजे व्यक्ति की एक फिल्म में छोटे से रोल के लिये तलाश कर रहा था। उसने उसे बताया कि क्योंकि उसने स्टेज पर कार्य किया था वह उस रोल को कर सकता था। Patol Babu ने Nishikanto के साले से बातें करने की इच्छा जताई। वह कठिनाई में था।

Patol Babu का भूतकाल
एक समय Patol Babu में स्टेज के लिये वास्तविक चाह थी। एक समय था जब व्यक्ति खासकर उसी के लिये टिकटें खरीदा करते थे। तब वह Kanchrapara में रहता था और एक रेलवे फैक्टरी में काम करता था। 1934 में Hudson and Kimberley में काम करने के लिए वह Calcutta (अव Kolkata) चला गया परन्तु उसे युद्ध के कारण निकाल दिया गया। तब से वह रोजी-रोटी कमाने के लिये संघर्ष कर रहा था।

उसका संघर्ष और एक्टिंग
Patol Babu ने एक वैरायटी स्टोर खोला परन्तु उसे बन्द करना पड़ा। उसे एक बंगाली फिल्म में काम मिल गया परन्तु अपने बॉस के व्यवहार के कारण उसे छोड़ना पड़ा। फिर उसने एक बीमा सैल्समैन के रूप में कार्य किया। अब वह रद्दी लोहे के एक संस्थान में थी। एक्टिंग अब भूतकाल की एक वस्तु हो गई थी। वह अपने जोशीले संवादों को याद करता और उनकी गर्जना को महसूस करता।

Naresh Dutt के साथ मुलाकात
Naresh Dutt, Patol Babu के घर आया। उसे Patol Babu को देखकर उसके रोल के बारे में थोड़ी हिचकिचाहट हुई। फिर भी उसने उसे बताया कि शूटिंग Faralay llouse में अगले दिन होगी। Patol Babu को वहाँ सही 8.30 बजे पहुँचना थी। रोल के बारे में पूछे जाने पर Naresh Dutt ने उसे बताया कि यह एक पैदल व्यक्ति का (रोल) था। उसका संवाद भी होगा। इससे वह काफी उत्तेजित हुआ।

Patol Babu और उसकी पत्नी
Naresh Dutt के जाने के बाद Patol Babu ने अपनी खुशी को अपनी पत्नी के साथ बाँटा। उसने उसे बताया कि वह उसके कारण फिर प्रसिद्ध हो जायेगा। परन्तु उसकी पत्नी ने उसे यथार्थवादी होने के लिये कहा। उसे हवाई किले नहीं बनाने चाहिये।

Patol Babu का शूटिंग स्थान पर पहुँचना, प्रतीक्षा करना
Patol Babu, Faraday House पहुँच गया। उसने वहाँ शूटिंग का सामान फैले हुये देखा। उसने Naresh Dutt को ढूंढा। उसे गर्मी और जैकेट से जिसे उसने अपने रोल के लिये पहना था पसीना आया। Naresh Dutt ने Patol Babu को पान की दुकान की छाया में खड़े होने के लिये कहा। उसने उसे यह भी बताया कि उसे शीघ्र ही शूटिंग के लिये बुलाया जायेगा। Patol Babu ने उसे अपने संवाद के लिये पूछा।

शूटिंग के बारे में
शूटिंग शीघ्र ही शुरू होने जा रही थी। इसे देखने के लिये वहाँ काफी व्यक्ति थे। Patol Babu ने निर्देशक के निर्देश जैसे ‘Running!’ ‘Carmera!’ ‘Rolling!’ ‘Action!’ सुने। उसने भीड़ से यह भी सुना कि मुख्य रोल Chanchal Kumar द्वारा किया जा रहा था। Patol Babu को लग रहा था कि उसने यह नाम सुन रखा था। उसे यह भी बताया गया कि Baren Mullick निर्देशक था जिसकी लगातार तीन फिल्में हिट हो चुकी थीं।

Patol Babu को उसका संवाद दिया जाना
Naresh Dutt ने Patol Babu को चाय का कप दिया। Patol Babu ने उससे अपने संवाद की बात की। Sosanko ने उसे एक कागज पर लिख दिया। यह सिर्फ ‘Oh!’ था। Patol Babu का इस पर सांस सा रुक गया। उसने कहा कि उसे वह कुछ अजीब लगा। इसने उसके सोचने के चक्र को चालू कर दिया।

Patol Babu के संवाद मिलने पर क्या होता है।
Patol Babu के ‘0h !’ के संवाद ने उसे भिन्नता से सोचना आरम्भ करा दिया। उसे आश्चर्य था कि क्या यह उसके कलाकार के स्तर का अपमान तो नहीं था ! जब वह बोला तो Sosanko ने कहा कि वह तो सर्वाधिक भाग्यशाली है कि Baren Mullick की फिल्म में उसका संवाद था। सैकड़ों व्यक्ति उसकी फिल्मों में बिना संवाद के चलते हैं।

Patol Babu को उसका रोल और scene बताना
Jyoti, Patol Babu के पास आया। उसने उसे दृश्य समझाया कि Chanchal Kumar आयेगा और उसके साथ टकरायेगा। उसने एक अनमने पैदल व्यक्ति का रोल करना था। वह धीरे-धीरे पान की दुकान पर गया। उसने उस कागज को जिस पर संवाद लिखा था फेंक दिया। उसने देवी काली की प्रशंसा में वहाँ आते गाने सुने। उसने सोचा कि रविवार की सुबह को इन बेकार व्यक्तियों की संगत में वह क्यों नष्ट करे। उसने सोचा कि स्टेज पर चीजें अधिक अच्छी थीं।

Patol Babu का कलाकार के रूप में सोचना और काम करना
इस पर Patol Babu ने अपने परामर्शदाता Gogon Pakrashi के शब्द याद किये। Gogon ने उसे किसी भी रोल को अपनी शान के नीचे न समझने के लिये कहा था। वह एक कलाकार था और कलाकार का कर्तव्य था कि लाइनों से अर्थ की अन्तिम बूंद निचोड़ना। यादगार ने Patol Babu को अपने संवाद के अकेले शब्द ‘Oh!’ को जब यह अलग-अलग प्रकार से बोला गया तो इसे भिन्न अर्थ और भावना देने पर मजबूर कर दिया।

टकराव से पहले Patol Babu
अन्त में Patol Babu की बारी आई। अब उसने अपने रोल के प्रति उदासीन होना बन्द कर दिया था। उसके अन्दर एक वास्तविक कलाकार उत्पन्न हो गया था। उसे अपने कदम गिनने को कहा गया जब वह Chanchal Kumar के साथ टकरायेगा। उसने निर्देशक को बताया कि टकराने के समय यदि उसके हाथ में एक समाचार पत्र होगा तो दृश्य अधिक वास्तविक लगेगा। उसके सुझाव को मान लिया गया। उसे अधिक वास्तविक दिखने के लिए पहनने के लिये पूँछे भी दी गई।

शूट से पहले और बाद में Patol Babu
Patol Babu ने शीशे में अपना चेहरा देखा। उसने अपना गला भी साफ किया। उसने अपने संवाद में आश्चर्य और चिड़चिड़ेपन की भावना को मिलाया। बिल्कुल सही समय पर टकराव हुआ। टकराव के प्रभाव के कारण Chanchal Kumar को अपने सिर की मालिश करनी पड़ी। उसने Patol Babu को यह कह कर सराहा कि वह एक अच्छा कलाकार था। दृश्य के शूट होने के बाद Patol Babu पान की दुकान में चला गया। उसे अपनी एक्टिग से पूर्णरूप में सन्तुष्टि हुई। वह अपने रोल के बिना पैसे लिए चुपचाप घर आ गया।

Patol Babu का बिना पैसे लिये अदृश्य होना
दस मिनट पश्चात् Naresh Dutt, Patol Babu को ढूंढने के लिये पान की दुकान के समीप गया। उसे अभी पैसे नहीं मिले थे और पैसे मिलने की आवश्यकता थी। उसे आश्चर्य था कि Patol Babu किस प्रकार का व्यक्ति था ! शूटिंग पुनः आरम्भ हो गई परन्तु Patol Babu कहीं पर नहीं पाया गया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting