You cannot copy content of this page

NCERT class 11 English Hornbill Chapter 3 summary We’re Not Afraid to Die…if We Can All Be Together (notes) explained (translation) in hindi

We’re Not Afraid to Die… if We Can All Be Together Summary In English

In July 1976, the narrator, a 37 year-old businessman, his wife Mary, six year old son, Jonathan and seven year old daughter, Suzanne set sail from Plymouth, England. They wished to go round the world on a long sea journey as Captain James Cook had done 200 years earlier. They started in 23 metre, 30 ton wooden-hulled boat named Wavewalker.

The first part of their planned three-year, 105,000 kilometre journey passed pleasantly. They sailed down the west coast of Africa to Cape Town. They took on two crewmen-Larry Vigil, an American and Herb Seigler, a Swiss to help them cross the rough southern Indian Ocean.

On their second day out of Cape Town, they faced extremely strong winds, which blew continuously for next few weeks. Waves rose up to 15 metres. On December 25, they were 3500 kilometres east of Cape Town. Though the weather was very bad, they enjoyed Christmas and New Year’s Day.

The weather changed for the worse. On January 2, there were mighty waves. They were sailing at eight knots. They slowed down the boat by dropping the small sail and fastened mooring rope in a loop across the hind part of the boat. Then they attached lifelines, put on water proof clothes and life jackets and waited for the storm. The first sign of the imminent disaster came as portentous silence. The wind dropped and the sky immediately grew dark. Then came a growing roar and a very huge wave. A tremendous explosion shook the deck. The narrator’s head struck on the wheel and he flew over the side of the boat into water. He was sinking below the waves. He accepted his coming death.

Suddenly his head appeared out of water. A few metres away Wavewalker was about to turn over in water. Then a wave threw her upright. Succeeding waves threw the narrator around the deck like a rag doll. His left ribs cracked. His mouth was filled with blood and broken teeth. He, somehow, found the wheel and lined up the stern for the next wave. There was water .everywhere on the ship, but he could not leave his place in order to investigate the situation. Suddenly his wife, Mary, opened the door in the deck and shouted that they were sinking as the decks were broken.

The narrator asked her to take the wheel. Then he moved quickly to the door. Larry and Herb were pumping water out of the ship. The wooden beams had broken. The whole starboard side had bulged inwards. Clothes, crockery, charts, tins and toys moved around noisily in water. He crawled into the children’s cabin. Sue had got a big bump on her head. He had no time to attend to her.

He found a hammer, screws and canvas and started repair work. He managed to stretch canvas and secure water proof hatch covers across the gaping holes. Most of the water was now being deflected over the side. Then the hand pumps started to block up with debris. The electric pump had a short circuit. Water level rose up dangerously. He found that their two spare hand pumps had been pulled away by currents along with the forestay sail, the jib, the dinghies and the main anchor. He searched another electric pump, connected it to an outpipe and water was pumped out throughout night. They got no replies from their Mayday calls. Sue’s head had swollen alarmingly. She had two enormous black eyes and a deep cut on her arm.

On the morning of January 3, the pumps had reduced the amount of water on board. Each of them took rest for two hours turn by turn. They had survived for 15 hours since the wave hit the Wavewalker, but she was not strong enough to take them to Australia. He checked the charts. He calculated that there were two small islands a few hundred kilometres to the east. He hoped to reach Le Amsterdam, a French scientific base. On January 4, after 36 hours of continuous pumping, they reached the last few centimetres of water. Now they had to keep pace with the water still coming in. Mary found some corned beef and cracker biscuits.

They ate their first meal in almost two days. Their relief was short lived. At 4 pm black clouds began building up. Within an hour, the wind was back to 40 knots. The seas were getting higher. Throughout the night, the weather became worse. By dawn on January 5, their situation was extremely dangerous. The narrator went in to comfort the children. Jon asked if they were going to die. The narrator tried to assure him that they could make it. Then Jon said. “We aren’t afraid of dying if we can all be together.” The narrator could find no words to respond. He determined to fight the sea. To protect the weak starboards side, he decided to stop the ship with the undamaged port-hull facing the on coming waves. He used an improvised sea anchor of heavy nylon rope and two 22 litre plastic barrels of paraffin. More water rushed in through the broken planks in the evening.

On the morning of January 6, the wind became less severe. The narrator got a reading on the sextant. He made quick calculations. She came in and gave him a card she had made. She had drawn caricatures of Mary and the narrator. It also had a message expressing love and thanks. At 2 p.m., after checking calculations, the narrator asked Larry to steer a course of 185 degrees. He could then expect to see an island at about 5 p.m. Then he went below, climbed on his bunk and dozed off. He woke up at 6 p.m. Jon entered and asked if he could embrace his Daddy. She was right behind him. They called him the best daddy in the whole world and the best captain. They informed him that they had found the island.

The narrator rushed on deck. He saw the outline of the island of Ile Amsterdam. That night they anchored offshore. The next morning all 28 inhabitants of the island cheered them and helped them ashore. After reaching the land, the narrator thought of Larry and Herbie. They had been cheerful under direst stress, Mary had stayed at the wheel for those crucial hours. Then he thought of his seven year old girl, who did not want them to worry about her head injury and of the six-year old boy who was not afraid to die..

We’re Not Afraid to Die… if We Can All Be Together Summary In Hindi

जुलाई 1976 में 37 वर्षीय व्यापारी, वर्णनकर्ता, उसकी पत्नी मेरी, 6 वर्षीय पुत्र जोनाथन तथा 7 वर्षीया पुत्री सुजैन नाव में इंग्लैंड की प्लाई माउथ, बन्दरगाह से रवाना हुए। संसार के चारों ओर एक लम्बी समुद्री यात्रा के लिये जाना चाहते थे जैसे कि 200 वर्ष पहले जेम्स कुक ने की थी। उन्होंने 23 मीटर लम्बी, 30 टन भारी लकड़ी पेंदे वाली नौका ‘वेववाकर’ में यात्रा आरम्भ की।

उनकी 3 वर्ष की, 105,000 किलोमीटर की नियोजित यात्रा का प्रथम चरण सुहावने ढंग से गुजरा। वे अफ्रीका के पश्चिमी तट में केपटाइन तक नौका में चले गये। वहाँ उन्होंने दो कर्मचारी लिए, अमरीकी लैरी विजिल तथा स्विट्जरलैंड निवासी हर्ब सीगलर-जो कि खराब मौसम वाले दक्षिणी भारतीय समुद्र को पार करने में उनकी सहायता कर सकें।

केप टाउन से निकलने के दूसरे ही दिन उन्हें अत्यधिक तेज पवन का सामना करना पड़ा जो अगले कई सप्ताहों तक लगातार (उसी वेग) से चलती रही। लहरें 15 मीटर ऊपर तक उठ जाती थी। 25 दिसम्बर को वे केपटाउन से 3500 किलोमीटर पूर्व में थे। यद्यपि मौसम बहुत खराब था, फिर भी उन्होंने क्रिसमस तथा नववर्ष के पहले दिन का आनन्द लिया।

मौसम और भी खराब हो गया। 2 जनवरी को अत्यन्त शक्तिशाली लहरें उठीं। वे आठ नॉट की गति से नौका चला रहे थे। उन्होंने छोटी पाल गिराकर तथा निर्धारित स्थान में पोत को रखने के लिए बांधने वाली रस्सियों के छल्ले पीछे के भाग में बांध कर गति धीमी की। फिर उन्होंने जल-रोधी वस्त्र तथा जीवन रक्षक जैकेट पहने तथा तूफान की प्रतीक्षा करने लगे। भावी अमंगलमय विपत्ति के प्रथम चिन्ह अपशकुन भरी चुप्पी से आये। वायु (पवन) थम गई तथा तत्काल अन्धेरा हो गया। फिर एक बढ़ती हुई दहाड़ की आवाज के साथ विशाल लहर आई। एक बहुत बड़े विस्फोट ने डेक को हिला दिया। वर्णनकर्ता का सिर चालन-पहिये से टकराया तथा वह नौका के पहलू से उड़ता हुआ पानी में जा गिरा। वह लहरों के नीचे डूब रहा था। उसने अपनी आगामी मृत्यु को स्वीकार कर लिया।

अचानक उसका सिर पानी से बाहर निकला। कुछ मीटर दूर ‘वेववाकर पानी में उलटने वाली थी। फिर एक लहर ने उसे सीधा कर दिया। आगामी लहरों ने वर्णनकर्ता को चिथड़ों की गुड़िया की भाँति डेक पर फेंक दिया। उसकी बाईं पसलियाँ टूट गईं। उसका मुँह रक्त तथा टूटे हुए दाँतों से भर गया। उसने किसी प्रकार चालक पहिए को पा लिया तथा नौको के पिछले भाग को अगली लहर के लिए सीधा किया। जहाज पर प्रत्येक स्थान पर जल था, किन्तु वह स्थिति की जाँच करने के लिये अपने स्थान को नहीं छोड़ सकता था। अचानक उसकी पत्नी, मेरी, ने डेक का द्वार खोला तथा चिल्लाई कि वे डूब रहे हैं क्योंकि डेक टूट गया था।

वर्णनकर्ता ने उसे पहिया संभालने को कहा। फिर वह शीघ्रता से द्वार की ओर गया। लैरी तथा हर्ब जहाज में से पम्पों द्वारा पानी निकाल रहे थे। लकड़ी के शहतीर टूट गये थे। दाहिनी ओर का पूरा पक्ष भीतर की ओर धंस गया था। वस्त्र, चीनी मिट्टी के बर्तन, चार्ट, टिन तथा खिलौने शोर करते हुए पानी में चारों ओर घूम रहे थे। वह रेंगता हुआ बच्चों के कक्ष में गया। स्यू के सिर पर एक बड़ा सा उभार निकल आया था। उसका उपचार करने का उसके पास समय नहीं था।

उसने एक हथौड़ा, पेंच तथा कन्वास ढूँढा तथा मरम्मत का काम आरम्भ कर दिया। वह किसी तरह छेदों को बंद करने में सफल हो सका। अब अधिकतर पानी पहलू से दिशा बदल कर जा रहा था। फिर कूड़े-कर्कट के कारण हाथ से चलाने वाले पम्पों ने काम करना बन्द कर दिया। बिजली वाले पम्प की तारों में खराबी आ गई। जल-स्तर बड़े खतरनाक ढंग से ऊपर उठने लगा। उसने पाया कि उनके दोनों अतिरिक्त हाथ से चलाने वाले पम्प, आगे लगने वाली पाल, तिकोनी पाल, छोटी नौकाओं तथा मुख्य लंगर के साथ ही लहरों द्वारा बहाई ले जाई गई थी। उसने एक अन्य बिजली वाला पम्प ढूँढा, इसे बाहरी पाइप से जोड़ा और सारी रात पानी बाहर निकाला गया। स्यू का सिर भयानक ढंग से सूज गया था। उसकी आँखें सूज गई थीं तथा उसके बाजू पर गहरा घाव था।

3 जनवरी को प्रातः तक पम्पों ने जहाज के ऊपर जल राशि को कम कर दिया था। उनमें से प्रत्येक ने बारी-बारी दो-दो घण्टे तक विश्राम किया। जब से लहरें ‘वेववाकर’ से टकराई थी, वे 15 घण्टे से जीवित बचे थे, किन्तु वह इतनी सुदृढ़ नहीं थी कि उन्हें आस्ट्रेलिया ले जा सके। उसने चार्टी की जांच की। उसने गणना की कि पूर्व की ओर कुछ सौ किलोमीटर पर दो द्वीप थे। वह ‘इले एमस्टरडम’ नामक फ्रांसीसी वैज्ञानिक आधार पर पहुँचना चाहता था। 35 घण्टे तक लगातार पम्पों से पानी बाहर निकालने के पश्चात् वे 4 जनवरी को अन्तिम कुछ सेंटीमीटर जलराशि तक पहुँचे। अब उन्हें केवल उस पानी के साथ गति बनाये रखनी थी जो अब भी पोत में आ रहा था। मेरी ने नमक लगाकर सुरक्षित रखा हुआ कुछ गौ मांस तथा पतले नमकीन बिस्कुट तलाश किए। लगभग दो दिन में उन्होंने पहली बार भोजन किया। उनका यह सुख कुछ समय तक ही सीमित रहा। साँय 4 बजे काले बादल छाने लगे। एक घंटे के भीतर, पवन ने फिर से 40 नॉट की गति पकड़ ली। समुद्र का जल ऊँचा होने लगा। पूरी रात मौसम और अधिक खराब होता रहा। 5 जनवरी को भोर तक, उनकी स्थिति अत्यधिक खतरनाक हो गई थी। वर्णनकर्ता बच्चों को आराम देने भीतर गया। जॉन ने पूछा कि क्या वे मरने वाले थे। वर्णनकर्ता ने उसे विश्वास दिलाया कि वे बच निकलेंगे। फिर जान ने कहा, “हमें मरने से भय नहीं है यदि हम सब इकट्ठे हों।” उसे उत्तर देने के लिये वर्णनकर्ता को कोई शब्द नहीं मिल सके। उसने समुद्र से लड़ने का निश्चय किया। कमजोर दाहिनी पृष्ट की रक्षा करने के लिये उसने जहाज को रोकने का निर्णय किया ताकि क्षतिरहित पतन की ओर वाली पेंदी आनेवाली लहरों की ओर रहें। उसने भारी नाइलॉन की रस्सी तथा 22 लीटर वाले मिट्टी के तेल के दो प्लास्टिक के ड्रम से कामचलाऊ लंगर बनाया। शाम को टूटे हुए तख्तों में से अधिक पानी भीतर घुस गया।

6 जनवरी को सवेरे, पवन कुछ कम कठोर हुआ। वर्णनकर्ता ने कोण तथा दूरी मापने वाले यन्त्र पर सूचना देखी। उसने शीघ्र गणना की। स्यू भीतर आई तथा उसे एक कार्ड दिया जो उसने बनाया था। उसने मेरी तथा वर्णनकर्ता के हास्य जनक रेखाचित्र बनाए थे। इसमें प्रेम तथा धन्यवाद व्यक्त करता हुआ एक संदेश भी था। 2 बजे अपराह्न में, गणना की जाँच करने के उपरान्त, वर्णनकर्ता ने लैरी को 185 अंश के मार्ग पर चलने को कहा। तब वह 5 बजे अपराह्न तक एक द्वीप देखने की आशा कर सकता था। फिर वह नीचे गया, अपनी शयन पटरी पर चढ़ा तथा लेटते ही ऊँघने लगा। वह 6 बजे शाम को जागा। जान भीतर आया तथा कहने लगा कि क्या वह अपने पिता का आलिंगन कर सकता था। स्यू उसके बिल्कुल पीछे थी। उन्होंने उसे पूरे संसार में सबसे अच्छा पिता तथा कैप्टन कहा। उन्होंने उसे सूचना दी कि उन्होंने द्वीप पा लिया है।

वर्णनकर्ता तेजी से दौड़कर डेक पर आया। उसने इले एम्सटर्डम द्वीप की बाहरी फैलाव की आकृति देखी। उस रात उन्होने तट के पास ही लंगर डाला। अगले प्रातः द्वीप के सभी 28 निवासियों ने प्रसन्नता से उनका जोश बढ़ाया तथा तट पर जाने में सहायता की। भूमि पर पहुँचने के पश्चात् लेखक लैरी तथा हर्बी के विषय में सोचता रहा। वे तनाव के भयंकर समय में भी प्रसन्नचित्त रहे थे। मैरी उन महत्त्वपूर्ण क्षणों में संचालन के पहिये पर डटी रही थी। फिर उसने अपनी 7 वर्ष की बेटी के विषय में सोचा जो नहीं चाहती थी कि वे उसकी सिर की चोट के विषय में चिन्ता करें तथा अपने 6 वर्षीय पुत्र के बारे में सोचा जिसे मरने का भय नहीं था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting