You cannot copy content of this page

NCERT class 12 English Flamingo Chapter 3 summary Deep Water (notes) explained (translation) in hindi

Deep Water Summary In English

William 0. Douglas recalls a misadventure of childhood. It had happened when he was ten or eleven years old. He had decided to learn to swim. There was a pool at the Y.M.C.A. in Yakima, which was safe. It was only two or three feet deep at the shallow end and nine feet deep at the other. The drop was gradual. He got a pair of water wings and went to the pool. He hated to walk naked into water and show his very thin legs.

The author had developed an aversion to the water when he was three or four. His father had taken him to the beach in California. They stood together on the surf. The waves knocked him down and swept over him. He was buried under water. His breath was gone. He was frightened. His father laughed, but the overpowering force of the waves filled terror in the young author’s heart.

Unpleasant memories were revived when he went to the Y.M.C.A. pool for the first time. Childish fears were stirred. But soon he gathered confidence. He watched other boys paddling on water with their water wings. He tried to learn by imitating them. He did this two or three times on different days. He was just beginning to feel comfortable in the water when the misadventure happened.

When he went to the pool, there was no one else. So he sat on the side of the pool to wait for others. Shortly afterwards a big boy, a boxer, came. He was probably eighteen years old and had beautiful muscles on his legs and arms. He called the author ‘Skinny and asked how he would like to be plunged in water.

The boxer boy picked Douglas and threw him into the deep end. He struck water in a sitting position. He swallowed water and at once went to the bottom. He was frightened, but did not lose his wits. He made a plan. He would make a big jump when his feet hit the bottom. He would come to the surface like a cork, lie flat on it and then paddle to the edge of the pool.

Those nine feet appeared more than ninety. Before he touched bottom his lungs were ready to burst. When his feet hit the bottom, he made a great jump upwards, but he failed to reach the surface at once. He came up slowly. His eyes and nose came out of water, but not his mouth. He moved around his legs on the surface of water. He swallowed water and choked. He tried to bring his legs up, but they hung as dead weights. He again went down to the bottom of the pool.

He was shrieking under water because terror had seized him. He was paralysed under water, but his heart and the pounding in head told him that he was still alive. When he hit the bottom, he jumped with his full might. The jump made no difference. The water was still around him. His arms and legs wouldn’t move. He trembled with fear. He tried to call for help, to call mother, but nothing happened. Then he rose up. His eyes and nose were almost out of water. He sucked for air and got water. He started going down a third time.

Then all efforts ended and he relaxed. A blackness swept over his brain and wiped out terror. There was no more panic. He felt drowsy and wanted to sleep. He gave up all attempts. He forgot everything. When he came to his senses, he found himself lying on his stomach beside the pool vomiting. The boy who had thrown him in said, “I was only fooling.” Someone said that the kid had nearly died. Then they took him to the locker room.

He walked home after several hours. He was weak and trembling. He shook and cried when he lay on his bed. He couldn’t eat that night. For days a haunting fear was in his heart. He never went back to the pool. He feared water and avoided it whenever he could.

A few years later, he came to know the waters of the Cascades. He wanted to get into them. Whenever he did so, the terror that had seized him in the pool, returned. His legs would become paralysed. An icy horror would grab his heart. This handicap remained with him even as time passed. Wherever he went, the haunting fear of water followed him. It ruined his fishing trips. It deprived him of the joy of canoeing, boating, and swimming.

He used every method he knew to overcome his fear. Finally, he decided to get an instructor and learn to swim. He went to a pool and practised five days a week, an hour each day. The instructor put a belt around him. A rope attached to the belt went through a pulley on an overhead cable. He held on to the end of the rope. They went on this way for many weeks. On each trip across the pool a bit of panic seized him. Each time the instructor relaxed his hold on the rope and the author went under water, some of the old terror returned and his legs froze.

It was three months before the tension began to slack. Then the instructor taught him to put his face under water and exhale, and to raise his nose and inhale. He repeated the exercise hundreds of time. Very slowly, he shed some of the old panic as his head went under water.

Then the instructor held him at the side of the pool and had him kick with his legs. He did so for weeks. Gradually his legs relaxed. Thus, piece by piece, he built a swimmer. When he had perfected each piece, he put them together into an integrated whole. He had started practising in October and in April the trainer told him that he could swim. He asked the author to dive off and swim the length of the pool. He began with crawl stroke.

When he swam alone in the pool tiny remnants of the old terror would return. But now he could rebuke his terror. This went on till July. He was still not satisfied. So he went to Lake Wentworth in New Hampshire. There he dived off a dock at Triggs Island. He swam two miles across the lake to Stamp Act Island. He swam the crawl, breast stroke, side stroke and back stroke. The terror returned only once. When he was in the middle of the lake, he put his face under and saw nothing but bottomless water. He asked terror what it could do to him and it fled away.

Some doubts still remained. So he went up the Tieton to Conrad Meadows, up the Conrad Trail to Meade Glacier. He camped in the high meadow by the side of Warm Lake. Next morning, he dived into the lake and swam across to the other shore and back. He shouted with joy, and Gilbert Peak returned the echo. He had conquered his fear of water.

The experience had a deeper meaning for him. Only those who have known stark terror and conquered it can appreciate it. In death there is peace. There is terror only in the fear of death. Roosevelt knew it. He said, “All we have to fear is fear itself.” Douglas had experienced both the sensation of dying and the terror that fear of it can produce. The will to live somehow grew in intensity.

At last Douglas felt liberated. He was free to walk the trails and climb the peaks and to ignore (dismiss) fear.

Deep Water Summary In Hindi

विलियम ओ० डगलस बचपन की एक दुर्घटना को याद करता है। यह तब घटित हुई थी जब वह दस अथवा ग्यारह वर्ष का था। उसने तैरना सीखने का निश्चय किया था। याकिमा में वाई०एम०सी०ए० में एक तालाब था, जो कि सुरक्षित था। यह छिछले सिरे पर केवल दो अथवा तीन फुट गहरा था तथा दूसरे सिरे पर नौ फुट गहरा था। गहराई (झुकाव) शनैः शनैः थी। उसने पानी में तैरने के पंखों की एक जोड़ी ली तथा तालाब पर चला गया। वह पानी में नंगे चलने से तथा अपनी अत्यन्त पतली टाँगें दिखाने से घृणा करता था।

जब लेखक तीन या चार वर्ष का था तभी से उसे पानी के प्रति अरुचि (घृणा) हो गई थी। उसके पिता उसे कैलिफोर्निया में समुद्र तट (किनारे) पर ले गए। वे समुद्री झाग पर इकट्ठे खड़े हुए थे। लहरों ने उसे नीचे गिरा दिया तथा उसके ऊपर से बहने लगीं। वह पानी में दफ़न हो गया। उसकी सांस चली गई। वह डर गया। उसके पिता हँसे, किंतु लहरों की अत्यधिक शक्ति ने उसके हृदय में अति तीव्र भय भर दिया।

जब वह पहली बार वाई०एम०सी०ए० के तालाब पर गया तो अप्रिय स्मृतियाँ पुनर्जीवित हो उठीं। बचकाने भय उत्पन्न हो गये। किन्तु शीघ्र ही उसने विश्वास एकत्रित कर लिया। उसने अन्य लड़कों को तैरने के पंखों से पानी को धकेलते हुए देखा। उनकी नकल करके उसने भी सीखने का प्रयास किया। उसने विभिन्न दिनों पर 2-3 बार ऐसा किया। उसने जल में सहजता (आरामदायक) महसूस करना आरम्भ ही किया था कि यह दुर्घटना घटित हो गई।

जब वह तालाब पर गया, तो वहाँ कोई और नहीं था। अतः वह दूसरों की प्रतीक्षा करने के लिए तालाब के समीप (बगल में) बैठ गया। थोड़ी ही देर में, एक भारी-भरकम लड़का, एक मुक्केबाज़ आया। वह सम्भवतः 18 वर्ष का होगा तथा उसके हाथ-पैरों पर सुन्दर मांसपेशियाँ थीं। उसने लेखक को ‘पतलू’ कहकर पुकारा तथा पूछा कि वह पानी में डुबकी लगाने को कैसे पसन्द करेगा।

उस मुक्केबाज़ लड़के ने डगलस को उठाया तथा गहरे सिरे में फेंक दिया। वह बैठने की स्थिति में पानी से जा टकराया। उसने पानी निगल लिया और तुरन्त पेंदी (नीचे का तल) की ओर चला गया। वह भयभीत हो गया, किन्तु सोचने-विचारने की शक्ति नहीं गॅवाई। उसने एक योजना बनाई। जब उसके पैर पेंदी से टकरायेंगे, तो वह बड़ी छलांग लगायेगा। एक (कार्क) की डाट की भाँति वह तल पर आ जायेगा, इस पर सीधा लेटेगा तथा फिर पानी को धकेलता हुआ तालाब के सिरे तक पहुँच जायेगा।

वे नौ फुट नब्बे फुट से भी अधिक प्रतीत हुए। उसके पेंदी (तली) को छूने से पहले ही, उसके फेफड़े फटने को तैयार थे। जब उसके पैर पेंदी से टकराये तो उसने ऊपर की ओर तगड़ी छलाँग लगाई, किन्तु वह तुरन्त ऊपरी तल तक पहुँचने में असफल रहा। वह धीरे-धीरे ऊपर आया। उसकी आँखें तथा नाक पानी से बाहर आ गये, किन्तु मुँह नहीं आया। उसने पानी के तल पर अपनी टाँगें इधरउधर घुमाई । उसने पानी निगल लिया और उसका गला अवरुद्ध हो (रुक) गया। उसने अपनी टाँगें ऊपर लाने का प्रयत्न किया, किन्तु वे भार की भाँति लटकी रहीं। वह फिर से तालाब की पेंदी की ओर चला गया।

वह पानी के नीचे चीख रहा था क्योंकि भय ने उसे जकड़ लिया था। वह पानी के नीचे शक्तिहीन-सा (पक्षाघात या लकवे से ग्रसित) हो गया था, किन्तु उसके धड़कते हृदय तथा मस्तिष्क ने उसे बताया कि वह अभी भी जीवित था। जब वह पेंदी से टकराया, तो वह अपनी पूरी शक्ति से ऊपर की ओर उछला। इस उछाल से भी कोई अन्तर नहीं आया। पानी अब भी उसके चारों ओर था। उसके हाथ-पैर हिलते ही नहीं थे। वह भय से काँपने लगा। उसने सहायता के लिए पुकारने का प्रयास किया, माँ को पुकारने का, किन्तु कुछ नहीं हुआ। फिर वह ऊपर उठा। उसकी आँखें तथा नाक लगभग पानी से ऊपर थे। उसने साँस लेने की कोशिश की किन्तु उसे पानी मिला। वह तीसरी बार नीचे जाने लगा।

फिर सभी प्रयास समाप्त हो गये तथा वह शान्त हो गया। एक कालिमा उसके मस्तिष्क पर छा गई तथा उसने भय को पोंछकर बाहर निकाल दिया। अब अचानक होने वाला भय नहीं था। वह उनींदा महसूस करने लगा तथा सोना चाहता था। उसने सभी प्रयास छोड़ दिये। वह सब कुछ भूल गया। जब उसकी चेतना वापस लौटी, तो उसने स्वयं को उल्टियाँ करते हुए पेट के बल तालाब के समीप लेटे हुए पाया। जिस लड़के ने उसे पानी के अन्दर फेंका था उसने कहा कि वह तो केवल मज़ाक कर रहा था। किसी अन्य ने कहा कि लड़का तो लगभग मर ही गया था। फिर वे उसे लॉकर वाले कमरे में (वस्त्र बदलने को) ले गये।

कई घंटे उपरान्त वह पैदल चलकर घर गया। वह दुर्बल (कमज़ोर) था तथा काँप रहा था। जब वह बिस्तर पर लेटा तो हिलने तथा चीखने लगा। उस रात वह भोजन नहीं कर सका। कई दिनों तक उसके हृदय में बार-बार भय मँडराता रहा। वह तालाब पर फिर कभी वापस नहीं गया। वह जल से भयभीत हो गया तथा जहाँ तक सम्भव हो इससे बचता था।

कुछ वर्ष उपरान्त उसे जल-प्रपातों के पानी के विषय में ज्ञात हुआ। वह उनमें घुसना चाहता था। जब कभी वह ऐसा करता तो वही भय जिसने उसे तालाब में जकड़ लिया था, पुन: लौट आता। उसकी टाँगें शक्तिहीन हो जाती थीं। एक ठंडा भय उसके हृदय को कसकर पकड़ लेता था। समय बीतते गए लेकिन यह कमी उसके साथ बनी रही। वह जहाँ कहीं जाता, बार-बार आने वाला पानी का भय उसका पीछा करता। इसने उसकी मछली पकड़ने की यात्राओं को बर्बाद कर दिया। इसने उसे डोंगीचालन, नौकायन तथा तैराकी से प्राप्त होने वाली प्रसन्नता से वंचित कर दिया।

अपने भय पर काबू पाने के लिए उसने उस प्रत्येक ढंग का प्रयोग किया जो वह जानता था। अन्त में, उसने एक प्रशिक्षक (सिखाने वाले गुरु) की सेवाएँ लेने और तैरना सीखने का निर्णय लिया। वह एक तालाब पर गया तथा सप्ताह में पाँच दिन, प्रतिदिन एक घंटा, अभ्यास करता। प्रशिक्षक ने उसके गिर्द (चारों ओर) एक पेटी लगाई। पेटी से जुड़ी हुई एक रस्सी च से होकर सिर के ऊपर बँधे तार से होकर जाती थी। वह रस्सी के सिरे को पकड़ लेता था। कई सप्ताह तक इसी तरह चलता रहा। तालाब में प्रत्येक बार भ्रमण के समय थोड़ा-सा भय उसे जकड़ लेता। प्रत्येक बार जब प्रशिक्षक रस्सी पर अपनी पकड़ ढीली करता तथा लेखक पानी के नीचे जाता, तो उसके पुराने भय का कुछ अंश लौट आता और उसकी टाँगें सुन्न हो जातीं।

यह तनाव हल्का (ढीला) होते-होते तीन महीने बीत गये। फिर प्रशिक्षक ने उसे पानी के अंदर चेहरा रखकर सांस छोड़ना (बाहर निकालना) एवं नाक ऊपर को उठाना एवं सांस लेना (भीतर खींचना) सिखाया। उसने यह अभ्यास सैकडों बार दोहराया। उसका सिर इस तरह पानी के अन्दर जाने से उसका कुछ पुराना भय अत्यन्त धीरे-धीरे समाप्त होता गया।

फिर प्रशिक्षक ने उसे तालाब की तरफ के पास से पकड़ा तथा उससे टाँगों से ठोकरें लगवाईं। उसने ऐसा कई सप्ताह तक किया। धीरे-धीरे उसकी टाँगें आराम महसूस करने लगीं। इस प्रकार टुकड़े-टुकड़े में उसने उसे एक तैराक बनाया। जब उसने उसे प्रत्येक भाग में पूर्णतया निपुण कर दिया तो उन्हें साथ रखकर एक समन्वित पूर्ण रूप निर्मित किया। उसने अक्तूबर में अभ्यास करना आरम्भ किया था तथा अप्रैल में प्रशिक्षक ने उसे बताया कि वह तैर सकता था। उसने लेखक को गोता मारने तथा पूरे तालाब की लम्बाई में तैरने को कहा। उसने रेंगने वाले प्रहार से आरम्भ किया।

जब वह तालाब में अकेला तैरता तो पुराने भय के छोटे-छोटे अवशेष लौट आते किन्तु अब वह अपने भय को दबा सकता था। ऐसा जुलाई तक चलता रहा। वह अब भी सन्तुष्ट नहीं था। अत: वह न्यू हैम्पशायर में लेक वेन्टवर्थ में गया। वहाँ उसने ट्रिग्स द्वीप में एक गोदी से गोता लगाया। वह झील के पार स्टाम्प एक्ट द्वीप तक दो मील तैरकर गया। वह रेंगने के प्रहार, छाती के प्रहार, पक्ष के प्रहार तथा पीठ के प्रहार से तैरा। भयं केवल एक ही बार लौटा। जब वह झील के मध्य में था, तो उसने अपना सिर पानी के नीचे किया तथा पेंदीविहीन जल के अतिरिक्त कुछ नहीं देखा। उसने भय से पूछा कि वह इसका क्या कर सकता था तथा यह दूर भाग गया।

कुछ सन्देह अब भी शेष थे। अतः वह टाइटन नदी के ऊपर को कॉनरेड चरागाह कानरैड पद-मार्ग से ऊपर मीड हिमनद तक गया। उसने वार्म लेक के पास ऊँची चरागाहों में शिविर लगाया। अगली प्रातः उसने झील में गोता लगाया तथा दूसरे तट तक तथा पुनः वापस तैरकर गया। वह प्रसन्नता से चिल्लाया, तथा गिल्बर्ट चोटी से प्रतिध्वनि टकराकर लौट आई। उसने पानी से अपने भय पर विजय प्राप्त कर ली थी।

इसे अनुभव का उसके लिए एक गहरा अर्थ था। लोग जिन्होंने कठोर भय को जाना है तथा इसे विजित किया है, केवल वे ही इसको समझ सकते हैं। मृत्यु में शान्ति है। मृत्यु के भय में ही अत्यधिक भय है। रूजवेल्ट को यह ज्ञात था। उसने कहा था, “जिससे हमें डरना है वह तो डर स्वयं ही है।” डगलस ने मरने की अनुभूति तथा जो भय वह उत्पन्न कर सकता था, इन दोनों का ही अनुभव किया था। जीवित रहने की इच्छा किसी प्रकार से तीव्रता में विकसित हो गई।

अन्त में डगलस ने स्वतन्त्र (मुक्त) महसूस किया। वह पर्वतों के पथ पर चलने के लिए तथा शिखरों (चोटियों) पर चढ़ने को एवं भय को अनदेखा करने के लिए स्वतन्त्र था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting