You cannot copy content of this page

NCERT class 12 English Flamingo Chapter 5 summary Indigo (notes) explained (translation) in hindi

Indigo Summary In English

In December 1916 Gandhi went to Lucknow to attend the annual convention of the Indian National Congress. There were 2,301 delegates and many visitors. A peasant from Champaran, Rajkumar Shukla, asked Gandhi to visit his district. Shukla followed Gandhi, wherever he went. In 1917, Gandhi and Shukla boarded a train for Patna. Shukla led Gandhi to the house of a lawyer named Rajendra Prasad. They could not see him as he was out of town.

Gandhi decided to go first to Muzaffarpur to obtain complete information about the conditions in Champaran. He reached Muzaffarpur by train at midnight on 15 April 1917. Professor J.B. Kriplani, received him at the station. Gandhi stayed there for two days. The news of Gandhi’s arrival and the nature of his mission spread quickly through Muzaffarpur and to Champaran. Sharecroppers from Champaran began arriving there. Muzaffarpur lawyers briefed Gandhi about the court cases. He chided the lawyers for collecting big fees from the sharecroppers. He thought that lawcourts were useless for the crushed and fear-stricken peasants. The real relief for them was to be free from fear.

Then Gandhi arrived in Champaran. He began by trying to get the facts from the secretary of the British landlords’ association. He refused to give information to an outsider. Gandhi said that he was not an outsider. Next, Gandhi called on the British official commissioner of the Tirhut division. The commissioner started bullying Gandhi and advised him to leave Tirhut. Instead of leaving the area, Gandhi went to Motihari, the Capital of Champaran. Several lawyers accompanied him. A large crowd of people greeted Gandhi at the railway station. It was the beginning of their liberation from fear of the British.

A peasant had been maltreated in a nearby village. The next morning Gandhi started out on the back of an elephant. Soon he was stopped by the police superintendent’s messenger and ordered to return to town in his carriage. Gandhi complied. The messenger drove Gandhi home. Then he served him with an official notice to quit Champaran at once. Gandhi signed the receipt for the notice and wrote on it that he would disobey the order. Gandhi received a summons to appear in court the next day. At night Gandhi telegraphed Rajendra Prasad, sent instructions to the ashram and wired a full report to the Viceroy.

Thousands of peasants gathered around the court house. The officials felt powerless. The authorities wished to consult their superiors. Gandhi protested against the delay. The magistrate announced that he would pronounce sentence after a two-hour recess. He asked Gandhi to furnish bail for those 120 minutes. Gandhi refused. The judge released him without bail. The court started again after a break. The judge said he would not deliver the judgement for several days. He allowed Gandhi to remain at liberty.

Gandhi asked the prominent lawyers about the injustice to the sharecroppers. They consulted among themselves. Then they told Gandhi that they were ready to follow him into jail. Gandhi then divided the group into pairs and fixed the order in which each pair was to court arrest. After several days, Gandhi was informed by the magistrate that the case had been dropped. For the first time in modern India, civil disobedience had triumphed.

Gandhi and lawyers conducted an inquiry into the complaints of the peasants. About ten thousand peasants deposed. Documents were collected. Gandhi was summoned by Sir Edward Gait, the Lieutenant-Governor. He met the Lieutenant Governor four times. An official commission of inquiry was appointed.

Gandhi remained in Champaran initially for seven months and then came for several shorter visits. The official inquiry assembled evidence against the big planters. They agreed in principle to make refunds to the peasants. Gandhi asked only 50 per cent. The representative of the planters offered to refund up to 25 per cent. Gandhi agreed. The deadlock was broken.

Gandhi explained that the amount of the refund was less important than the fact that the landlords had been forced to give some money and their prestige. The peasant now saw that he had rights and defenders. He learned courage. Events justified Gandhi’s position. Within a few years the British planters abandoned their estates. These now went back to the peasants. Indigo sharecropping disappeared.

Gandhi wanted to do something to remove the cultural and social backwardness in Champaran villages. He appealed for teachers. Two young disciples of Gandhi, Mahadev Desai and Narhari Parikh, and their wives volunteered for work. Several more came from Bombay, Poona and other distant parts of the land. Devdas, Gandhi’s youngest son, arrived from the ashram and so did Mrs. Gandhi. Primary schools were opened in six villages. Kasturba taught the ashram rules on personal cleanliness and community sanitation.

Health conditions were miserable. Gandhi got a doctor to volunteer his services for six months. Three medicines were available : castor oil, quinine and sulphur ointment. Gandhi noticed the filthy state of women’s clothes. One woman told Kasturba that she had only one sari. During his long stay in Champaran, Gandhi kept a long distance watch on the ashram and sent regular instructions by mail.

The Champaran episode was a turning point in Gandhi’s life. It did not begin as an act of defiance. It grew out of an attempt to lessen the sufferings of the poor peasants. Gandhi’s politics was closely connected with the practical day to day problems of the millions. He tried to mould a new free Indian who could stand on his own feet and thus make India free.

Gandhi also taught his followers a lesson in self-reliance. Gandhi’s lawyer friends thought that it would be a good idea for Charles Freer Andrews, the English pacifist, to stay in Champaran and help them. Andrews was willing if Gandhi agreed. But Gandhi opposed it forcefully. He said, “The cause is just and you must rely upon yourselves to win the battle.”
Thus, self-reliance, Indian independence and help to sharecroppers were all bound together.

Indigo Summary In Hindi

दिसम्बर 1916 में गांधी जी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की वार्षिक सभा में भाग लेने के लिए लखनऊ गए। वहाँ 2,301 प्रतिनिधि थे तथा कई देखने (मिलने) आने वाले लोग । चंपारण के एक किसान, राजकुमार शुक्ला ने गांधी जी को उसके जिले में आने को कहा। गांधी जी जहाँ कहीं जाते, शुक्ला उनका अनुसरण करता। 1917 में, गांधी जी तथा शुक्ला पटना के लिए रेल में सवार हुए। शुक्ला गांधी जी को राजेन्द्र प्रसाद नामक एक वकील के घर ले गया। वे उससे नहीं मिल पाए क्योंकि वह नगर से बाहर थे।

गांधी जी ने चम्पारण की स्थिति के विषय में पूरी सूचना (जानकारी) प्राप्त करने के लिए पहले मुजफ्फरपुर जाने का निश्चय किया। वह 15 अप्रैल 1917 को आधी रात में रेलगाड़ी से मुजफ्फरपुर पहुँचे। स्टेशन पर प्रोफेसर जे०बी० कृपलानी ने उनका स्वागत किया। गांधी जी वहाँ दो दिन ठहरे। गांधी जी के पहुँचने तथा उनके ध्येय (विशेष कार्य) की प्रकृति के विषय में समाचार मुजफ्फरपुर होता हुआ चम्पारण तक शीघ्रता से फैल गया। चम्पारण के बटाई पर खेती करने वाले किसान वहाँ पहुँचने लगे। मुजफ्फरपुर के वकीलों ने गांधी जी को कचहरी में चल रहे मामलों के विषय में जानकारी दी। उन्होंनेवकीलों को इन बंटाई पर खेती करने वाले किसानों से अधिक फीस बटोरने पर धमकाया। उन्होंने सोचा कि इन कुचले हुए तथा भयग्रस्त किसानों के लिए न्यायालय व्यर्थ थे। उनके लिए असली राहत थी कि वे भय से मुक्त (स्वतन्त्र) हों।

तब गांधी जी चम्पारण में आए। उन्होंने ब्रिटिश भूस्वामियों के संगठन के सचिव से तथ्य एकत्रित करने का प्रयास करते हुए शुभारम्भ किया। सचिव ने बाहरी व्यक्ति को सूचना देने से मना कर दिया। गांधी जी ने कहा कि वह बाहरी व्यक्ति नहीं थे। इसके बाद, गांधी जी तिरहुत प्रमंडल के ब्रिटिश सरकारी आयुक्त से मिलने गये। आयुक्त ने गांधी जी को तंग करना (डराना-धमकाना) आरम्भ किया तथा उन्हें तिरहुत प्रमंडल छोड़ जाने की सलाह दी। क्षेत्र छोड़ने की बजाय, गांधी जी चम्पारण की राजधानी, मोतीहारी गये। उनके साथ कई वकील भी गये। रेलवे स्टेशन पर लोगों की एक विशाल भीड़ ने उनका स्वागत किया। यह उनके ब्रिटिश शासन के भय से मुक्ति का आरम्भ था।

निकट के एक गाँव में एक किसान के साथ दुर्व्यवहार हुआ था। अगले दिन गांधी जी हाथी की पीठ पर सवार होकर चले। शीघ्र ही उन्हें पुलिस अधीक्षक के संदेशवाहक द्वारा रोका गया तथा उसी की घोड़ागाड़ी में नगर लौटने का आदेश दिया गया। गांधी जी ने इस आज्ञा का पालन किया। संदेशवाहक गांधी जी को गाड़ी में घर ले आया। फिर उसने गांधी जी को तुरन्त चम्पारण छोड़कर चले जाने का नोटिस थमा दिया। गांधी जी ने इसकी पावती (रसीद) पर हस्ताक्षर किये तथा इस पर लिख दिया कि वह आदेश की अवज्ञा करेंगे। गांधी जी को अगले दिन न्यायालय में पेश होने का सम्मन (न्यायालय का आदेश) प्राप्त हुआ। रात को गांधी जी ने राजेन्द्र प्रसाद को तार भेजा, आश्रम में निर्देश भेजे तथा वायसराय को सूचना तार द्वारा प्रेषित की।

हज़ारों किसान न्यायालय के चारों ओर एकत्रित हो गये। कर्मचारी शक्तिहीन महसूस करने लगे। प्रशासक/अधिकारी अपने से श्रेष्ठ लोगों से परामर्श करना चाहते थे। गांधी जी ने देरी का विरोध किया। दण्डाधिकारी ने कहा कि वह दो घंटे के अवकाश के उपरान्त दण्ड (सज़ा) की घोषणा करेगा। उसने गांधी जी से कहा कि वह 120 मिनट के लिये जमानत दे। गांधी जी ने इन्कार कर दिया। न्यायाधीश ने उन्हें बिना जमानत के छोड़ दिया। विराम के पश्चात् न्यायालय पुनः आरम्भ हुआ। न्यायाधीश ने कहा कि वह कई दिनों तक निर्णय (फैसला) नहीं सुनायेगा। उसने गांधी जी को मुक्त (स्वतन्त्र) रहने की आज्ञा दी।

गांधी जी ने प्रमुख वकीलों से बटाई पर खेती करने वाले किसानों के साथ हो रहे अन्याय के विषय में पूछा। उन्होंने आपस में विचार-विमर्श किया। फिर उन्होंने गांधी जी को बताया कि वह उनका अनुसरण कर कारागार (जेल) जाने को तैयार थे। तब गांधी जी ने इस समूह को युग्मों (जोड़ों) में विभाजित कर दिया तथा वह क्रम निश्चित कर दिया जिसमें वे गिरफ्तारी देंगे। कई दिन के पश्चात्, गांधी जी को दण्डाधिकारी द्वारा सूचना दी गई कि मामला समाप्त (बन्द) कर दिया गया है। आधुनिक भारत में पहली बार नागरिक अवज्ञा ने विजय प्राप्त की थी।

गांधी जी तथा वकीलों ने किसानों की शिकायत पर जाँच करनी आरम्भ की। लगभग दस हज़ार किसान साक्षी बने। दस्तावेज़ (प्रमाण) एकत्रित किये गये। गांधी जी को उप-राज्यपाल, सर एडवर्ड गेट द्वारा बुलवाया गया। वह उप-राज्यपाल से चार बार मिले। जाँच के लिए एक सरकारी कमीशन नियुक्त कर दिया गया।

प्रारम्भ में गांधी जी चम्पारण में सात महीने रहे और फिर कई बार संक्षिप्त भ्रमण के लिए आये। सरकारी जाँच ने बड़े खेतों के स्वामियों के विरुद्ध प्रमाण एकत्रित किये। वे सिद्धान्त रूप से किसानों को धन लौटाने को सहमत हो गये। गांधी जी ने केवल 50 प्रतिशत माँगा। बड़े खेतों के स्वामियों के प्रतिनिधि ने 25 प्रतिशत लौटाने का प्रस्ताव किया। गांधी जी सहमत हो गये। अवरोध समाप्त/टूट गया।

गांधी जी ने स्पष्ट किया कि लौटाई जाने वाली राशि की मात्रा इस तथ्य से कम महत्त्वपूर्ण थी कि जमींदारों को कुछ धन तथा कुछ अपनी प्रतिष्ठा, देने को विवश होना पड़ा था। किसान ने अब देखा कि उसके अधिकार थे तथा उनके रक्षक भी। उसने साहस सीखा। घटनाओं ने गांधी जी की स्थिति को उचित ठहराया। कुछ वर्षों में ही ब्रिटिश भूस्वामियों ने अपने विशाल भूखण्ड छोड़ दिये। ये अब किसानों के पास लौट गये। नील की बटाई की खेती अदृश्य (गायब) हो गई।

चम्पारण के गाँवों के सांस्कृतिक तथा सामाजिक पिछड़ेपन को हटाने के लिए गांधी जी कुछ करना चाहते थे। उन्होंने अध्यापकों के लिए प्रार्थना की। गांधी जी के दो युवा शिष्य, महादेव देसाई तथा नरहरि पारिख, तथा उनकी पत्नियों ने स्वेच्छा से उस काम के लिए स्वयं को पेश किया। कई अन्य भी मुम्बई, पूना तथा देश के सुदूर भागों से आये। गांधी जी का सबसे छोटा पुत्र देवदास, आश्रम से आया तथा श्रीमती गांधी भी आईं। छः गाँवों में प्राथमिक पाठशालाएँ खोली गईं। कस्तूरबा ने व्यक्तिगत स्वच्छता एवं सामुदायिक सफाई के विषय में आश्रम के नियम सिखाये।।

स्वास्थ्य की स्थितियाँ दयनीय थीं। गांधी जी ने एक चिकित्सक से स्वेच्छा से उसकी सेवाएँ छः महीने के लिए प्राप्त कीं। तीन दवाइयाँ । उपलब्ध थीं-अरण्डी का तेल, कुनैन तथा गंधक की मलहम। गांधी जी का ध्यान स्त्रियों के गन्दे वस्त्रों की दशा की ओर गया। एक स्त्री ने कस्तूरबा को बताया कि उसके पास केवल एक ही साड़ी थी। चम्पारण में अपने लम्बे प्रवास के दौरान गांधी जी ने आश्रम पर दूर से चौकसी रखी तथा डाक द्वारा नियमित निर्देश भेजे।

चम्पारण प्रकरण गांधी जी के जीवन में मोड़ वाला (महत्त्वपूर्ण) बिन्दु था। यह अवज्ञा के रूप में आरम्भ नहीं हुआ। यह निर्धन किसानों के कष्ट कम करने के प्रयास के रूप में उत्पन्न हुआ। गांधी जी की राजनीति करोड़ों लोगों की दैनिक समस्याओं से, व्यावहारिक रूप से जुड़ी हुई थी। उन्होंने एक नये स्वतन्त्र भारतीय को आकार देने की चेष्टा की जो अपने पैरों पर खड़ा हो सके तथा इस प्रकार भारत को स्वतन्त्र करा सके।

गांधी जी ने अपने अनुयायियों को आत्मनिर्भरता का भी पाठ पढ़ाया। गांधी जी के वकील मित्रों ने सोचा कि यह अच्छा होगा कि शान्तिवादी चार्ल्स फ्रीअर एंड्रस चम्पारण में ठहरे तथा उनकी सहायता करे। यदि गांधी जी मान जाते, तो एड्स तो सहमत था। किन्तु गांधी जी ने इसका प्रचण्ड विरोध किया। उन्होंने कहा, “मकसद न्यायोचित है तथा युद्ध को जीतने के लिए तुम्हें स्वयं अपने ऊपर निर्भर रहना चाहिए।’
अतः आत्मनिर्भरता, भारतीय स्वतन्त्रता तथा बटाई में खेती करने वाले सभी एक साथ बंधे हुए थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting