You cannot copy content of this page

NCERT class 12 English Vistas Chapter 3 summary The Enemy (notes) explained (translation) in hindi

The Enemy Summary In English

The scene of action is a spot on the Japanese coast. Dr Sadao Hoki’s house was a low, square stone built house. It was set upon rocks well above a narrow beach outlined with bent pines. Sadao’s father had a deep concern for his son’s education. So Sadao had been sent to America at twenty-two to learn all that could be learned of surgery and medicine there. He returned at thirty. He became famous not only as a surgeon but as a scientist also.

It was the time of the World War. Japan was at war with America. Dr Sadao had not been sent abroad with the troops. The old General was under medical treatment and he might need an operation. So, Dr Sadao was being kept in Japan.

Sadao watched mists hide outlines of a little island near the shore. Then it came creeping up the beach below his house. His wife, Hana, came out and put her hand on his arm. It gave him pleasure. Then she laid her cheek against his arm.

At this moment, both of them saw something black come out of the mists. It was a man. He staggered a few steps. Then the curled mists hid him again. Hana and Sadao leaned over the railing of the veranda. They saw a man crawling on his hands and knees. Then he fell down on his face and lay there. They thought that it was perhaps a fisherman who had been washed from his boat.

When they came towards him, they saw that he was wounded. He lay motionless. They saw his face. Hana whispered that he was “a white man”. Sadao began to search for the wound. Blood flowed freshly at his touch. In order to stanch the fearful bleeding, he packed the wound with the sea moss. The man was unconscious. He moaned with pain in his stupor but he did not awaken.

Sadao muttered, “What shall we do with this man?” He said that the best thing that they could do was to put him back in the sea. Hana agreed with it. Sadao explained that it was a difficult situation. If they sheltered a white man in their house, they would be arrested. If they turned him over as a prisoner, he would certainly die. They were staring upon the inert figure with a curious repulsion.

Then they tried to find out what he was. He looked American. The battered cap had faint lettering “US Navy”. They concluded that he was a sailor from an American warship. The man was a prisoner of war. He had escaped and was wounded in the back.

Hana asked Sadao if they were able to put him back into the sea. Sadao hesitated. If the man had been whole, he could be turned over to the police without difficulty as he was his enemy. All Americans were his enemy. But since he was wounded they should not throw him back to the sea.

Hana observed that there was only one thing left to do. They must carry him into their house. Sadao was not sure about the reaction of the servants. Hana suggested that they must tell the servants that they intended to give him to the police. She said that they must do so, otherwise all of them would be in danger.

Together they lifted the man. He was very light. They carried him up the steps and into the side door of the passage. They carried him to an empty bedroom. Since the man was quite dirty, Sadao suggested that he had better be washed. If she fetched the water, he would wash the man. Hana could not bear him to touch the man. She offered to tell the maid Yumi. Sadao took the responsibility of informing others.

The pallor of the unconscious man’s face moved him first to stoop and feel his pulse. It was faint but it was there. He put his hand against the man’s cold breast. The heart too was yet alive. Sadao observed that he would die unless operated upon. The man was very young perhaps not even twenty-five. The man had to be washed first. However, the servants refused to do so. They did not want their master to heal the enemy.

Hana washed the man till his upper body was quite clean. Sadao put his instruments upon a sterilised towel. He began to wash the man’s back carefully. He asked Hana to give the anaesthetic if he needed it. Hana choked. She clapped her hands to her mouth and ran out of the room. He heard her retching in the garden. She had never seen an operation.

Sadao proceeded swiftly. Hana came in. Sadao asked her to saturate the cotton and hold it near his nostrils. She had to move it away a little when he breathed badly. Then Sadao got busy. He felt the tip of his instrument strike against something hard. It was just near his kidney. Then with the cleanest and most precise incision, the bullet was out. The man quivered, but he was still unconscious. Sadao gave him an injection and the man’s pulse grew stronger.

Hana had to serve the youngman herself, for none of the servants would enter the room. The man grew stronger day by day. The servants decided to quit if their master kept the enemy hidden there. On the seventh day, the servants left together. Hana carried the morning food to the prisoner. On coming back, she asked Sadao why they could not see clearly what they ought to do.

In the afternoon, a messenger came in official uniform. He asked Dr Sadao to come to the palace at once as the old General was in pain. Hana breathed a sigh of relief. When Sadao came to say good bye, she revealed her fear. She had thought that they had come to arrest him. Sadao promised to get rid of that man for her sake.

Sadao told the General about the man he had operated upon. The General acknowledged why Sadao was indispensable to him. The General promised to send his private assassins to kill the man and remove his body. He asked Sadao to leave the outer partition of the white man’s room to the garden open while he slept.

Sadao went home, thinking over the plan. He would tell Hana nothing. He was surprised to see the young American out of bed and preparing to go into the garden. He complained that the muscles on one side felt stiff. Dr Sadao said that exercise and massage will be helpful. He then asked Tom, the young American to go to bed. Sadao slept badly that night.

The next morning, Sadao went to the guest room and found him asleep. The second night also passed. The young man was still there. He had shaved himself. There was a faint colour in his cheeks.

Dr Sadao told him that he was quite well then. He offered to put his boat on the shore that night. It would have food and extra clothing in it. Tom might be able to row to that little island not far from the coast. It had not been fortified. Nobody lived there as it was submerged in storm. Since it was not the season of storm, he could live there till he saw a Korean fishing boat pass by.

As soon as it was dark, Sadao made preparations to help the young man escape. He gave him his flashlight. He asked him to give him two flashes as the sun set in case his food ran out. In case he was still there and all right, he was to signal him only one. He was warned not to signal in darkness, for it would be seen. The prisoner was now dressed in Japanese clothes. A black cloth was wrapped round his blond head. He found the way to the boat. Sadao waited till he saw one flash from the shore.

Dr Sadao had been called in the night to perform an emergency operation on the General. It involved his gall bladder. For twelve hours Sadao had not been sure the General would live. Then he began to breathe deeply again and to demand for food. Sadao had not been able to ask about the assassins. So far as he knew they had never come. The servants had returned. The room was cleaned.

One week after the operation, Sadao felt that the General was well enough to be spoken to about the prisoner. Sadao informed him that the prisoner had escaped. The General asked the doctor whether he had not promised to kill the man for the doctor. He then confessed the truth. He had been suffering a great deal.

So, he thought of nothing but himself. He had forgotten his promise. That night Sadao waited at dusk for the light from the island. There was none. His prisoner had gone away and was safe. Sadao wondered why he could not kill the young man though white people were repulsive.

The Enemy Summary In Hindi

कार्य-कलाप का दृश्य जापानी तट पर एक स्थान है। डाक्टर साडाओ होकी का घर नीचा, वर्गाकार पत्थर का बना हुआ मकान था। यह एक तंग समुद्र-तट, जिसके किनारों पर देवदार के वृक्ष थे, से काफी ऊँची चट्टानों पर स्थित था। साडाओ के पिता को अपने पुत्र की शिक्षा की गहरी चिन्ता थी। अतः 22 वर्ष की आयु में साडाओ को अमेरिका भेजा गया ताकि वह शल्य-चिकित्सा तथा औषधि विज्ञान के विषय में सब कुछ सीख ले जो कि वहाँ पढ़ा जा सकता था। तीस वर्ष की आयु में वह वापस लौटा। अब वह न केवल एक शल्यचिकित्सक था अपितु वैज्ञानिक के रूप में भी प्रसिद्ध हो गया।

विश्व युद्ध का समय था । जापान का अमेरिका से युद्ध चल रहा था। डा. साडाओ को सैनिकों की टुकड़ियों के साथ विदेश नहीं भेजा गया था। वृद्ध सेनानायक (जनरल) की चिकित्सा जारी थी तथा उसे शल्य-क्रिया की आवश्यकता पड़ सकती थी। अतः डा. साडाओ को जापान में ही रखा जा रहा था।

साडाओ ने देखा कि धुंध ने तट के समीप एक छोटे द्वीप को अपने आगोश में ले लिया है। फिर यह तट पर रेंगती हुई उसके मकान के नीचे तक आ गई। उसकी पत्नी हाना बाहर आई और उसने अपना हाथ उसके बाजू पर रखा। इसने उसे प्रसन्नता प्रदान की। फिर उसने अपना गाल उसके बाजू पर लगा दिया।

इसी क्षण उन दोनों ने किसी काली वस्तु को धुंध से बाहर आते हुये देखा। यह एक व्यक्ति था। वह कुछ कदम लड़खड़ाया। फिर छल्लेदार धुंध ने उसे छिपा दिया। हाना तथा साडाओ बरामदे की रेलिंग (लोहे की बाड़) के ऊपर झुके। उन्होंने एक व्यक्ति को अपने हाथों तथा घुटनों के बल रेंगते हुये देखा। फिर वह मुँह के बल गिर पड़ा तथा वहीं लेटा रहा। उन्होंने सोचा कि यह सम्भवतः कोई मछुआरा होगा जो अपनी नौका से बह गया होगा।

जब वे उसके समीप आये, तो उन्होंने देखा कि वह घायल था और शिथिल (गतिहीन) पड़ा था। उन्होंने उसका चेहरा (मुखमण्डल) देखा। हाना ने कानाफूसी की कि वह एक ‘गोरा व्यक्ति’ था। साडाओ जख्म की तलाश करने लगा। उसके स्पर्श से रक्त बह निकला। इस भयावह रक्तस्राव को रोकने के लिये उसने समुद्री काई से जख्म को पूरा टैंक दिया। वह व्यक्ति अचेत (बेहोश) था। अपनी । बेहोशी (अचेतनता) में वह पीड़ा से कराहा किन्तु जागा नहीं।

साडाओ बुदबुदाया, ‘हम इस व्यक्ति का क्या करें?’ उसने कहा कि सर्वोत्तम बात, जो वे कर सकते थे, वह यह थी कि इस व्यक्ति को पुनः समुद्र में वापस फेंक दें। हाना इससे सहमत हो गई। साडाओ ने स्पष्ट किया कि यह एक कठिन परिस्थिति थी। यदि वे किसी गोरे व्यक्ति को अपने घर में शरण देते, तो वे पकड़े जाते। यदि वे उसे एक कैदी के रूप में सौंपते, तो वह अवश्य मर जाता। वे एक विचित्र विकर्षण से इस निश्चेष्ट शरीर को घूर-घूर कर देख रहे थे।

फिर उन्होंने यह ज्ञात करने की चेष्टा की कि वह व्यक्ति क्या (काम करता) था। वह अमेरिकन दिखाई पड़ता था। टूटी-फूटी पुरानी टोपी पर हल्के (धूमिल) अक्षर थे “यू.एस. नेवी”। वे इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि वह एक अमरीकी युद्धपोत का नाविक था। यह व्यक्ति एक युद्धबन्दी था जो किसी तरह बच निकला था तथा पीठ में घायल हो गया था।

हाना ने साडाओ से पूछा कि क्या वे उसे वापस समुद्र में रख पाएंगे। साडाओ हिचकिचाया । यदि यह व्यक्ति पूर्ण होता, तो उसे बिना किसी कठिनाई के पुलिस को सौंप दिया जाता क्योंकि वह उसका शत्रु था। सभी अमेरिकन उसके शत्रु थे। किन्तु क्योंकि वह घायल था। अतः उन्हें उसे समुद्र में नहीं फेंक सकते थे।

हाना ने कहा कि अब करने को केवल एक बात शेष थी। उन्हें उसे घर में ले जाना चाहिये। साडाओ अपने सेवकों की प्रतिक्रिया के विषय में विश्वस्त नहीं थी। हाना ने सुझाव दिया कि वे सेवकों को बता देंगे कि उनका इरादा उसे पुलिस को सौंपने का था। उसने कहा । कि उन्हें ऐसा करना चाहिये, वरना वे सब ख़तरे में पड़ जायेंगे।

उन दोनों ने एक साथ मिल कर डॉ. सडाओ का व्यक्ति को उठाया। वह काफी हल्का था। वे उसे सीढियों से ऊपर तथा.गलियारे । के बगल वाले द्वार में ले गये। वे उसे एक खाली शयन कक्ष में ले गये। क्योंकि वह व्यक्ति काफी गन्दा था, साडाओ ने सुझाव दिया कि उसे नहलाना (धोना) चाहिये। यदि वह पानी ले आयेगी तो वह उसे धो देगा। हाना उसका इस व्यक्ति को स्पर्श करना (छूना) सहन नहीं कर सकती थी। उसने प्रस्ताव किया कि वह नौकरानी यूमी को बतायेगी। साडाओ ने अन्य सेवकों को सूचित करने का उत्तरदायित्व लिया।

अचेत व्यक्ति के चेहरे के पीलेपन ने डॉ. सडाओ का द्रवित कर दिया कि वह पहले झुके तथा उसकी नब्ज़ देखे । नब्ज हल्की थी, किन्तु चल रही थी। उसने उस व्यक्ति की ठण्डी छाती पर हाथ रखा। हृदय भी अभी जीवित था। साडाओ ने कहा कि यदि उसकी शल्यक्रिया नहीं की गई तो वह मर जायेगा। वह व्यक्ति अत्यन्त युवा था, शायद वह पच्चीस वर्ष का भी नहीं होगा। पहले उस व्यक्ति को नहलानी था। किन्तु, सेवकों ने ऐसा करने से इन्कार कर दिया। वे नहीं चाहते थे कि उनका स्वामी शत्रु को (इलाज करके) ठीक करे। | हाना ने उस व्यक्ति को धोया जब तक कि उसके शरीर का ऊपरी भाग पूरा साफ नहीं हो गया। साडाओ ने अपने औज़ार एक जीवाणु रहित तौलिये पर रखे। वह सावधानी से उस व्यक्ति की पीठ धोने लगा। उसने हाना से कहा कि यदि आवश्यकता पड़े तो वह उसे चेतनाशून्य करने की औषधि दे दे। हाना का गला सँध गया। अपने हाथ कस कर मुँह पर रखे वह कमरे से बाहर दौड़ गई। साडाओ ने उसे बाग में उबकाई लेते हुये सुना। उसने पहले कभी शल्य-क्रिया नहीं देखी थी।

साडाओ ने तेज़ी से काम किया। हानी भीतर आ गई। साडाओ ने उससे कहा कि वह रुई को भिगो ले तथा उस व्यक्ति के नथुनों के पास पकड़े रखे। जब वह बुरी तरह सांस लेने लगे तो उसे इसे थोड़ा दूर हिला देना था। फिर साडाओ व्यस्त हो गया। उसने अपने औज़ार की नोक को किसी कठोर वस्तु से टकराते हुये महसूस किया। यह उसके गुर्दे के अत्यन्त समीप थी। फिर स्वच्छतम एवं सर्वोत्तम सटीक चीरा लगा कर उसने गोली बाहर निकाली। व्यक्ति काँपा, किन्तु वह अभी चेतनाशून्य था। साडाओ ने उसे एक सूई लगा दी तथा उस व्यक्ति की नब्ज़ अधिक मजबूत हो गई।

हांना को स्वयं ही उस नवयुवक की सेवा-सुश्रूषा करनी पड़ी, क्योंकि कोई भी सेवक उस कमरे में प्रवेश ही नहीं करता था। वह व्यक्ति दिन-ब-दिन अधिक स्वस्थ होता गया। सेवकों ने निश्चय कर लिया कि यदि उनका स्वामी उस शत्रु को वहाँ छिपा कर रखेगा, तो वे उसे छोड़ कर चले जायेंगे। सातवें दिन सेवक एक साथ चले गये। होना उस कैदी के लिए सवेरे का भोजन ले गई। वापस आने पर उसने साडाओ से पूछा कि वे उस बात को साफ-साफ क्यों नहीं देख पा रहे हैं, जो उन्हें देखनी चाहिये।

अपराह्न में सरकारी वर्दी पहने एक सन्देशवाहक आया। उसने डा. साडाओ को तुरन्त महल में आने को कहा क्योंकि वृद्ध जनरल को पीड़ा हो रही थी। हाना ने चैन की साँस ली। जब साडाओ उसे अलविदा कहने आया, तो उसने अपना भय प्रकट किया कि उसने सोचा था कि वे उसे पकड़ने आये थे। साडाओ ने वायदा किया कि उसकी खातिर वह उस व्यक्ति से पिंड छुड़ायेगा।

साडाओ ने जनरल को उस व्यक्ति के विषय में बताया जिसकी उसने शल्य-क्रिया की थी। जनरल ने स्वीकार किया कि क्यों साडाओ उसके लिए अपरिहार्य था। जनरल ने वायदा किया कि वह अपने निजी हत्यारे को उस व्यक्ति को मारने तथा उसका शरीर वहाँ से हटाने को भेज देगा। उसने साडाओ से कहा कि जब वह गोरा व्यक्ति सो रहा हो तो उसके कक्ष का बाग की ओर बाहर वाला भाग खुला छोड़ दे।।

इस योजना को सोचता हुआ साडाओ अपने घर गया। वह हाना को कुछ नहीं बतायेगा। उसे युवा अमेरिकन को बिस्तर से बाहर तथा बाग में जाने की तैयारी करते हुये देखकर आश्चर्य हुआ। उसने शिकायत की कि उसके एक तरफ के पहलू की माँसपेशियाँ सख्त थीं। डा. साडाओ ने कहा कि व्यायाम तथा मालिश सहायक होंगे। फिर उसने उस अमेरिकन टॉम, से कहा कि वह सो जाये। अगले प्रात:काल साडाओ अतिथि-कक्ष में गया तथा उसे सोते हुये पाया। दूसरी रात भी बीत गई। नवयुवक अब भी वहीं था। उसने (स्वयं) दाढ़ी बना ली थी। उसके गालों में हल्की सी रंगत थी।

डा. साडाओ ने उसे बताया कि वह उस समय बिल्कुल ठीक था। उसने प्रस्ताव किया कि उस रात वह अपनी नौका (नाव) तट पर रखेगा। इसमें भोजन एवं अतिरिक्त वस्त्र भी होंगे। टॉम उस छोटे द्वीप तक नाव खेने में समर्थ हो सकेगा जो तट से अधिक दूर नहीं था। इसको किला बनाकर सुदृढ़ नहीं किया गया था। वहाँ कोई भी नहीं रहता था क्योंकि तूफान में यह डूब जाता था। क्योंकि अब तूफान की ऋतु नहीं थी, वह वहाँ तब तक निवास कर सकता था, जब तक वह किसी कोरियाई मछली पकड़ने की नाव को गुज़रते न देखे।

ज्योंही अन्धेरा हुआ, साडाओ ने नवयुवक की बच निकलने की तैयारी की। उसने उसे अपनी तीव्र प्रकाश की बैटरी दी। उसने उससे कहा कि यदि उसको भोजन समाप्त हो जाये तो वह सूर्यास्त के समय दो बार प्रकाश की चमक करे। यदि वह वहीं हो, तथा सकुशल हो, तो उसे केवल एक बार संकेत (इशारा) करना था। उसने उसे चेतावनी दी कि वह अन्धेरे में संकेत (सिग्नल) न करे, क्योंकि यह देख लिया जायेगा। अब उस कैदी को जापानी वस्त्र पहनाये गये। उसके लाल बालों वाले सिरे पर एक काला वस्त्र लपेट दिया गया। उसने नाव तक मार्ग ढूंढ लिया। साडाओ ने तब तक प्रतीक्षा की जब तक उसने तट से एक संकेत रूपी चमक न देख ली।

रात को डा. साडाओ को जनरल की एक आपातकालीन शल्य-क्रिया करने के लिये बुलाया गया। इसमें उसकी पित्त की थैली शामिल थी। बारह घण्टों तक साडाओ को यकीन नहीं था कि जनरल जीवित रह पायेगा। फिर वह गहरी सांस लेने लगा तथा भोजन मांगने लगा। साडाओ हत्यारों के विषय में नहीं पूछ पाया। जहाँ तक वह जानता था, वे कभी आये ही नहीं। सेवक लौट आये थे। कक्ष साफ कर दिया गया था।

शल्य-क्रिया के एक सप्ताह उपरान्त साडाओ ने महसूस किया कि अब जनरल पर्याप्त (इतना) ठीक था कि उससे कैदी के विषय में बात की जा सके। साडाओ ने उसे सूचित किया कि कैदी निकल भागा था। जनरल ने डाक्टर से पूछा कि क्या उसने उस व्यक्ति को डाक्टर के लिये मारने का वायदा नहीं किया था। फिर उसने सत्य स्वीकार किया। वह काफी कष्ट भोग रहा था। अतः उसने अपने अतिरिक्त किसी अन्य बात के विषय में नहीं सोचा। वह अपना प्रण (वायदा) भूल गया था। उस रात साडाओ ने गोधूलि के समय द्वीप से प्रकाश की प्रतीक्षा की। कोई भी प्रकाश नहीं था। इसका मतलब था कि उसका कैदी दूर चला गया था तथा सुरक्षित था। साडाओ आश्चर्य करता रहा कि वह उस नवयुवक को क्यों नहीं मार पायो यद्यपि गोरे व्यक्ति विकर्षक होते थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting