You cannot copy content of this page

NCERT class 12 English Vistas Chapter 8 summary Memories of Childhood (notes) explained (translation) in hindi

Memories of Childhood Summary In English

I. The Cutting of My Long Hair (Zitkala-Sa)
It was the writer’s first day at school. It was bitter cold. A large bell rang for breakfast. Shoes clattered on bare floors. Many voices murmured. A paleface woman, with white hair, came up after them. They were placed in a line of girls who were marching into the dinning room. She walked noiselessly in her soft moccasins. She felt like sinking to the floor, for her blanket had been removed from her shoulders. The Indian girls did not seem to care though they were more immodestly dressed in tight fitting clothes. The boys entered at an opposite door. A small bell was tapped. Each of the pupils drew a chair from under the table. The writer pulled out hers. She at once slipped into it from one side. She turned her head. She found that she was the only one seated. All the rest at their table remained standing. She began to rise. A second bell sounded. All were seated at last. She heard a man’s voice at the end of the hall. She looked around to see him. All the others hung their heads over their plates. She found the paleface woman looking at her. The man stopped his mutterings. Then a third bell was tapped. Everyone picked up his knife and fork and began eating. She began to cry. This eating by formula was a difficult experience.

Late in the morning her friend Judewin told her that she had overheard the paleface woman talk about cutting their long heavy hair. Among their people, short hair was worn by mourners and shingled hair by cowards. Judewin said that they had to submit because the school authorities were strong. The writer rebelled. She decided to struggle before submitting.

When no one noticed, she disappeared and crept upstairs. She hid herself under the bed in a large room with three white beds in it. She heard loud voices in the hall calling her name. Even Judewin was searching for her. She did not open her mouth to answer. The sound of steps came nearer and nearer. Women and girls entered the room. They searched her everywhere. Someone threw up the curtains. The room was filled with sudden light. They stopped and looked under the bed. She was dragged out. She resisted by kicking and scratching wildly. She was carried downstairs and tied fast in a chair.

She cried aloud and shook her head. Then she felt the cold blade of scissors against her neck. One of her thick braids was removed. Her long hair was being shingled like a coward’s. Since the day she had come here, she had suffered insults. People had stared at her. She had been tossed about in the air like a wooden puppet. She moaned for her mother, but no one came to comfort her. Now she was only one of many little animals driven by a herder.

II. We Too are Human Beings (Bama)
When Bama was studying in the third class, she had not yet heard people speak openly of untouchability. But she had already seen, felt, experienced and been humiliated by what it was.

She was walking home from school one day. It was possible to walk the distance in ten minutes, but it would usually take her at least thirty minutes. She watched all the fun and games, novelties and oddities in the streets, the shops and the bazaar. Each thing would pull her to a standstill and not allow her to go any further.

Speeches by leaders of political parties, street plays, puppet show, stunt performances or some other entertainment happened from time to time. She watched waiters pouring coffee in other tumbler to cool it, people chopping up onion with eyes turned to other side, or almonds blown down from the tree by the wind. According to the season, there would be various fruit. She saw people selling sweet and tasty snacks, payasam, halva and iced lollies.

One day she saw in her street, a threshing floor set up in the corner. Their people were driving cattle in pairs round and round to crush the grain from straw. The animals were muzzled. She saw the landlord seated on a piece of sacking spread over a stone slab. He was watching the proceedings. She stood there for a while, watching the fun.

Just then, she saw an elder of their street coming from the direction of the bazaar. He looked quite funny in his manner. He held out a packet by its string without touching it. Then he went to the landlord, bowed low and extended the packet towards him. He cupped the hand that held the string with his other hand. The landlord opened the parcel and began to eat the vadais.

She told her elder brother the story with its comic details. Annan was not amused. He told her that the elder was carrying the package for his upper caste landlord. These people believed that people of lower caste should not touch them. If they did, they would be polluted. That was the reason why he had to carry the package by the string. She became sad on listening all this. She felt angry towards the people of upper castes.

She thought that these miserly people, who had collected money somehow, had lost all human feelings. But the lower castes were also human beings. They should not do petty jobs for them. They should work in their fields, take their wages home, and leave it at that.

Annan, her elder brother, was studying at a university. He had come home for the holidays. He would often go to the library in their neighbouring village in order to borrow books. One day, one of the landlord’s men met him. Thinking him to be a stranger, he addressed Annan respectfully. His manner changed on knowing his name and he asked for the street he lived in. The street would indicate their caste.

Annan told her that they were not given any honour, dignity or respect because they were born in a particular community. He advised her to study and make progress. People will come to her of their own accord then. She studied hard and stood first in her class. Many people then became her friends.

Memories of Childhood Summary In Hindi

I. मेरे लम्बे बालों को काटा जाना (जिटकाला-सा)
यह विद्यालय में लेखिका का पहला दिन था। ठिठुरन भरी ठंड थी। नाश्ते के लिए एक बड़ी घंटी बजी। नंगे फर्शो पर जूतों की कट-कट हुई। कई आवाजों की फुसफुसाहट हुई। पीले चेहरे तथा सफेद बालों वाली एक स्त्री उनके पीछे-पीछे आई। उनको उन लड़कियों की पंक्ति में रखा गया जो भोजन कक्ष की ओर बढ़ती जा रही थीं। वह अपने नरम चमड़े वाले सपाट तली के जूतों में बिना शोर किए चलती रही। वह फर्श पर सिकुड़ना चाहती थी क्योंकि उसके कन्धों से कम्बल हटा लिया गया था । मूल अमरीकी लड़कियाँ बिल्कुल परवाह करती प्रतीत नहीं होती थीं। यद्यपि चुस्त वस्त्रों में वे और भी अधिक निर्लज्जतापूर्वक दिखती थीं। लड़कों ने सामने वाले द्वार से प्रवेश किया। एक छोटी घंटी हल्के से बजाई गई। प्रत्येक विद्यार्थी ने मेज़ के नीचे से एक कुर्सी को बाहर खींची । लेखिका ने अपनी कुर्सी निकाली। वह एक तरफ से तुरन्त इसमें खिसक गई। उसने अपना सिर घुमाया। उसने पाया कि केवल वह ही एकमात्र बैठी हुई थी। उनकी मेज़ पर अन्य सभी खड़े थे। वह उठने लगी। दूसरी घंटी बजी। अन्ततः सभी बैठ गए। उसने हाल के छोर (एक किनारे) पर एक व्यक्ति की आवाज़ सुनी। उसे देखने के लिए उसने चारों ओर देखा । अन्य सभी ने अपना सिर प्लेट पर झुकाया हुआ था। उसने पीले चेहरे वाली स्त्री को अपनी ओर देखते हुए पाया । उस व्यक्ति ने बुड़बुड़ाना समाप्त कर दिया। फिर तीसरी घन्टी बजी। प्रत्येक ने अपना छुरी-काँटा उठा लिया तथा खाना आरम्भ कर दिया। वह रोने-चीखने लगी। सूत्रों (नियमों) के अनुसार इस तरह भोजन करना कठिन अनुभव था।

सवेरे के समय देर बाद उसकी मित्र जूडविन ने उसे बताया कि उसने पीले चेहरे वाली स्त्री को उसके लम्बे, भारी बालों को काटने के विषय में बातें करते अकस्मात् सुन लिया था। उनके लोगों के मध्य छोटे बाल विलाप (शोक) करने वालों द्वारा रखे जाते थे, जबकि खोपड़ी के समीप से मुन्डन (घोट-मोट सफाचट) केवल कायरों द्वारा करवाया जाता था। जूडविन ने कहा कि उन्हें आज्ञापालन करना पड़ेगा क्योंकि विद्यालय के अधिकारी ताकतवर थे। लेखिका ने विद्रोह किया। उसने समर्पण से पहले विरोध करने का निर्णय लिया।

जब कोई भी उसे नहीं देख रहा था, तो वह गायब हो गयी तथा ऊपर की मंजिल में रेंगती हुई पहुँच गई। उसने एक विशाल कमरे में, जिसमें तीन सफेद बिस्तर थे, स्वयं को एक पलंग के नीच छिपा लिया। उसने नीचे हाल में अपना नाम पुकारती हुई तेज आवाजें सुनीं। जूडविन भी उसे तलाश कर रही थी। उसने उत्तर देने के लिए अपना मुँह नहीं खोला। पदचापे निकट तथा अधिक निकट आती गईं। लड़कियों तथा स्त्रियों ने कमरे में प्रवेश किया। उन्होंने उसे प्रत्येक स्थान पर तलाश किया । किसी ने पर्दे को ऊपर फेंक दिया। कमरा अचानक प्रकाश से भर गया। वे झुके तथा पलंग के नीचे देखने लगे। उसे घसीटकर बाहर निकाला गया। उसने लातें मारकर तथा नाखूनों से नोंच-खरोंच करके विरोध किया। उसे नीचे की मंजिल में ले जाया गया तथा एक कुर्सी में कसकर बाँध दिया गया।

वह ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाई तथा उसने अपना सिर हिलाया। फिर उसे अपनी गर्दन पर कैंची के ठंडे फल का स्पर्श महसूस हुआ । उसकी एक मोटी चोटी काट दी गई। एक कायर के सिर की भाँति उसके सिर का भी मुण्डन किया जा रहा था। जिस दिन से वह यहाँ आई थी, उसने अपमान ही सहन किया था। लोग उसे घूर-घूर कर देखते रहते थे। उसे लकड़ी की एक कठपुतली की भाँति हेवा में उछाला गया। वह अपनी माँ के लिए सिसकियाँ भरती रही, किन्तु कोई भी उसे सांत्वना देने को आगे नहीं आया। अब वह चरवाहे द्वारा हांके गए झुण्ड के कई छोटे-छोटे पशुओं में से एक थी।

II. हम भी मानव हैं (बामा)
जब बामा तीसरी कक्षा में पढ़ती थी, तो उसने अभी तक लोगों को अस्पृश्यता (छुआछूत) के विषय में खुले रूप में बातें करते हुए नहीं सुना था। किन्तु वह पहले ही, जो कुछ यह था, को देख चुकी थी, महसूस कर चुकी थी, अनुभव कर चुकी थी, तथा इसके द्वारा अपमानित हो चुकी थी।

एक दिन वह विद्यालय से पैदल घर आ रही थी। इस दूरी को दस मिनट में पैदल चलना सम्भव था, किन्तु उसे प्राय: 30 मिनट लगा करते थे। वह गलियों, दुकानों तथा बाजार में सभी आनन्ददायक वस्तुओं, खेलों, नवीनताओं एवं विचित्रताओं को ध्यान से देखती थी। प्रत्येक चीज उसे स्तब्ध कर देती तथा उसे आगे जाने की अनुमति नहीं देती थी।

समय-समय पर राजनैतिक दलों के नेताओं के भाषण, नुक्कड़-नाटक, कठपुतली का तमाशा, जोखिमभरे कौशल के कार्य या अन्य मनोरंजन होते रहते थे। वह वेटरों को कॉफी ठंडी करने के लिए दूसरे बर्तन में धार बांधकर उड़ेलते हुए देखती, लोगों को आँखें एक ओर करके प्याज काटते हुए अथवा वायु द्वारा वृक्ष से गिराए गए बादाम देखती। ऋतु के अनुसार, विभिन्न फल वहाँ आते थे। वह लोगों को नाश्ते के लिए स्वादिष्ट व्यंजन, पयासम, हलवा अथवा बर्फ के चूसने वाले गोले बेचते हुए देखती।

एक दिन उसने अपनी ही गली में, एक कोने में, अनाज कूटने-पीटने के लिए बनाए गए फर्श को देखा। उनके ही लोग पशुओं को जोड़ों में हाँक रहे थे ताकि वे अनाज को भूसे से अलग कर सकें। पशुओं के मुँह पर छींकली लगी हुई थी। उसने भू-स्वामी को एक पत्थर पर बिछी बोरियों पर बैठे देखा। वह कार्रवाई को ध्यान से देख रहा था। वह इसका आनन्द लेती हुई कुछ देर वहीं खड़ी रही।

तभी उसने अपनी ही गली के एक बुजुर्ग को बाजार की दिशा से आते हुए देखा। वह अपने ढंग में काफी हास्यप्रद लगता था। वह एक पैकेट को बिना छुए केवल इसकी डोरी से पकड़े हुए था। फिर वह भू-स्वामी के पास गया । नीचे झुका तथा उसकी ओर पैकेट बढ़ी टिगा। उसने जिस हाथ से डोर पकड़ रखी थी उसका दूसरे हाथ से प्याला बनाया। भू-स्वामी ने पैकेट खोला तथा वड़ा खाने लगा।

उसने यह कहानी हास्यप्रद विवरण सहित अपने भाई को सुनाई। अन्नान को आनन्द नहीं आया। उसने उसे बताया कि वह बुजुर्ग उस पैकेट को अपने उच्च जाति वाले भू-स्वामी के लिए ले जा रहा था। ये लोग विश्वास करते थे कि नीची जाति वाले लोगों को उन्हें स्पर्श नहीं करना चाहिए। यदि वे ऐसा करेंगे तो वे अशुद्ध हो जाएँगे। यही कारण था कि उसे पैकेट को डोरी से पकड़ कर ले जाना पड़ रहा था। यह सब सुनकर वह उदास हो गई। वह ऊँची जाति वाले लोगों के प्रति क्रोध महसूस करने लगी।

वह सोचने लगी कि इन कंजूस व्यक्तियों ने, किसी प्रकार से जो धन संचय कर पाए हैं, सभी मानव अनुभूतियां खो दी हैं। किन्तु निचली जाति के लोग भी मानव थे। उन्हें उनके लिए तुच्छ (छोटे-मोटे) काम नहीं करने चाहिए। उन्हें उनके खेतों में काम करना चाहिए, अपनी मजदूरी (वेतन) घर लानी चाहिए तथा इस बात तक यहीं छोड़ देना चाहिए।

उसका बड़ा भाई अन्नान एक विश्वविद्यालय में पढ़ रहा था। वह छुट्टियों में घर आया हुआ था। वह पुस्तकें उधार लेने के लिए प्रायः समीप के गाँव के पुस्तकालय में जाया करता था। एक दिन जमींदार (भू-स्वामी) के व्यक्तियों में से एक (कारिन्दा) उसे मिला। उसे अजनबी समझकर उसने अन्नान को आदरपूर्वक सम्बोधित किया। उसका नाम जानते ही उसका ढंग बदल गया तथा उसने उस गली के विषय में पूछा जिसमें वह रहता था । गली उनकी जाति को सूचित कर देगी।

अन्नान ने उसे बताया कि उन्हें कोई सम्मान, शान अथवा आदर नहीं दिया जाता क्योंकि वे एक विशेष समुदाय (जाति) में उत्पन्न हुए हैं। उसने उसे परामर्श दिया कि वह अध्ययन करे तथा प्रगति करे। तब लोग अपनी इच्छा से उसके पास आएँगे। उसने कठोर अध्ययन किया तथा अपनी कक्षा में प्रथम आई। तब कई लोग उसके मित्र बन गए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting