You cannot copy content of this page

NCERT class 9 English Beehive Chapter 13 summary Packing (notes) explained (translation) in hindi

Packing Summary In English

The narrator decides to pack
Jerome, the narrator, felt pride on his packing. Three friends decided to go on a holiday. He offered to do packing. George and Harris, his friends, were impressed by that. They relaxed by lighting a cigar and pipe respectively that the narrator would do the packing.

The narrator had intended it otherwise
But the narrator had intended that George and Harris would pack. And he would boss over them. When they relaxed, he was irritated. People’s not doing anything greatly irritated him. He couldn’t sit still and see others working. He would enjoy getting up and overseeing others working. He hated seeing people doing nothing when he was working.

Packing done but many things forgotten
The narrator started the packing. He had finished packing in a short time. Harris told him that he had forgotten to put the boots in. He opened the bag and packed the boots in. He was going to close it. Just then he had an idea had he packed his tooth-brush ? He had some wild memories with his tooth-brush.

Packing searched for tooth-brush
He turned everything out. But he could not find the tooth-brush. He found brushes of George and Harris more than eighteen times over. But he couldn’t find his own. So he put the things back one by one. Then he found the tooth-brush inside a boot. He repacked the things once more.

Packing done and undone
The narrator finished packing the bag. Soon George asked if the soap was in. But the narrator was in anger. He won’t open the bag again. However, he found that he had packed his tobacco-pouch in it. So he had to re-open the bag. Then George and Harris undertook to do the rest of the packing.

Things become exciting
Harris and George were not good packers. The narrator could see piles of plates, cups, kettles, cakes, tomatoes, etc. Soon the packing became exciting. Cups were broken. Harris packed the strawberry jam on top of a tomato and squashed it. George walked over the butter. The narrator sat and saw them packing.

This irritated George and Harris. They stepped on things. Then they didn’t find what they wanted to find. They packed the pies at the bottom of the bag. They squashed them after putting heavy things on them.

Excitement over packing continues
George and Harris upset everything. George trod on the butter, while packing. George got the butter off his slipper. Then they tried to put it in the kettle. It won’t go and what was in wouldn’t come out. They at last got it. They put it down on a chair. Harris sat on it. It stuck to him. Then they went looking for it over the room.

Montmorency adds to the confusion
The dog, Montmorency, had an ambition in life. It was to get in the way and be a nuisance. He felt that his day was not wasted if he had made people mad. He had a high aim. It was to get somebody stumble over him and curse him.

So Montmorency came. He sat down on things when these were to be packed. He put his leg into the jam. He pretended the lemons were rats and put those into the hamper. Harris said that the narrator only made the dog do all that. But it was natural for a dog to do like that.

They decide to sleep after packing was done
The packing was done. Harris said that he hoped nothing would be found broken. Then they decided to sleep. Harris asked the narrator if he preferred to sleep inside or outside the bed. George asked when he should wake them. They started to argue over the time. Finally, they decided to wake up at 6.30.

Packing Summary In Hindi

वर्णनकर्ता सामान बाँधने का निर्णय लेता है।
वर्णनकर्ता जैरोम ने अपनी पैक करने की कला पर गर्व महसूस |किया। तीनों मित्रों ने छुट्टी पर जाने का निर्णय लिया। उसने पैकिंग करने का प्रस्ताव किया। उसके दोस्त जॉर्ज और हैरिस इससे प्रभावित हो गये। उन्होंने सिगार और पाईप जलाते हुये आराम महसूस किया कि वर्णनकर्ता पैकिंग करेगा।

वर्णनकर्ता ने उसकी दूसरी तरह से इच्छा’की थी
परन्तु वर्णनकर्ता ने इच्छा की थी कि जॉर्ज और हैरिस पैकिंग करेंगे। और वह उन पर रौब जमायेगा। जब उन्होंने आराम किया तो वह चिढ़ गया। उसे कुछ काम नहीं करने वाले लोग बहुत उत्तेजित करते थे। वह स्वयं चुपचाप बैठा हुआ दूसरों को काम करते हुए नहीं देख सकता था। वह खुद को खड़े हुए और दूसरों को काम करते हुए निरीक्षण करने में आनन्दित होता था। जब वह स्वयं काम कर रहा हो तो दूसरे व्यक्तियों को कुछ न करते हुए देखकर घृणा करता था।

पैकिंग कर दी परन्तु कई चीजों को ( पैक करना ) भूल गये
वर्णनकर्ता ने पैकिंग शुरू कर दी। उसने थोड़े से समय में पैकिंग समाप्त कर ली। हैरिस ने उसे बताया कि वह जूतों को पैक करना भूल गया था। उसने थैला खोला और जूतों को अन्दर पैक कर दिया। वह इसे बन्द करने जा रहा था। तभी उसे एक विचार आया । क्या उसने अपना टूथब्रश पैक कर लिया था ? उसकी अपनी टूथब्रश के साथ कुछ असभ्य (बेकार) यादें थीं।

टूथब्रश के लिए पैकिंग खोजी गई
उसने सब चीजें बाहर निकाल दीं। परन्तु वह टूथब्रश नहीं ढूंढ़ सका। उसे जॉर्ज और हैरिस की टूथब्रश अठारह बार से अधिक मिली। परन्तु वह अपनी नहीं हूँढ सका। इसलिए उसने एक-एक करके चीजें वापस रख दीं। तब उसने टूथब्रश को एक जूते के अन्दर पाया। उसने एक बार और चीजों की पैकिंग की।

पैकिंग की गई और खोली गई
वर्णनकर्ता ने बैग की पैकिंग समाप्त कर ली। शीघ्र ही जॉर्ज ने पूछा क्या साबुन अन्दर है। परन्तु वर्णनकर्ता गुस्से में था। वह दोबारा बैग नहीं खोलेगा। फिर भी उसने पाया कि उसने अपनी तम्बाकू की थैली उसमें पैक कर दी थी। इसलिए उसको दोबारा बैग खोलना पड़ा। तब जॉर्ज और हैरिस ने बाकी की पैकिंग करने की जिम्मेवारी ले ली।

चीजें उत्तेजक बनने लगती हैं।
हैरिस और जॉर्ज अच्छी पैकिंग करने वाले नहीं थे। वर्णनकर्ता प्लेटों, कपों, केतलियों, केकों, टमाटरों आदि के ढेर देख सकता था। जल्दी ही पैकिंग उत्तेजक बन गयी। कप तोड़े गये। हैरिस ने स्ट्राबैरी जैम को एक टमाटर के ऊपर पैक कर दिया और उसे कुचल दिया। जॉर्ज मक्खन के ऊपर गुजर गया। वर्णनकर्ता बैठा था और उसने उन्हें पैकिंग करते हुए देखा।

इससे जॉर्ज और हैरिस उत्तेजित हो गये। उन्होंने चीजों के ऊपर पैर रख दिये। तब वे उन चीजों को नहीं ढूंढ सके जो वे हूँढना चाहते थे। उन्होंने कचौड़ियों को बैग की तली में पैक कर दिया। उन्होंने उनके ऊपर भारी चीजें रखने के बाद उनको कुचल दिया।

पैकिंग के ऊपर उत्तेजकता जारी रहती है।
जॉर्ज और हैरिस ने सभी चीजों को अस्त-व्यस्त कर दिया। पैकिंग करते समय जॉर्ज का पैर मक्खन के ऊपर पड़ा। जॉर्ज ने अपने स्लीपर पर से मक्खन उतारा। फिर उन्होंने उसे केतली में डालने का प्रयत्न किया। यह अन्दर नहीं गया और जो अन्दर था। वह बाहर नहीं आया। आखिर में उन्होंने इसे पा लिया। उन्होंने इसे एक कुर्सी के ऊपर रख दिया। हैरिस इसके ऊपर बैठ गया। वह इससे चिपक गयी। तब वे इसे ढूंढने के लिए कमरे में गये।

मोंटमोरन्सी परेशानी बढ़ा देता है।
कुत्ते मोंटमोरन्सी की जीवन में एक इच्छा थी। यह थी बीच में आने और शरारती बनने की। वह महसूस करता था कि यदि उसने व्यक्तियों को पागल किया तो उसका दिन व्यर्थ नहीं होगा। उसका उच्च लक्ष्य था। यह था उसके ऊपर किसी द्वारा ठोकर खाकर गिरना और उसे श्राप देना।

इसलिए मोंटमोरन्सी आया। वह वस्तुओं पर बैठ गया जब उनको पैक करना था। उसने जैम में अपनी टांग डाल दी। उसने बहाना किया कि नींबू चूहे थे और उनको उसने छोटी टोकरी में डाल दिया। हैरिस ने कहा कि वर्णनकर्ता ने ही कुत्ते से यह सब कुछ करवाया। परन्तु कुत्ते के द्वारा ऐसा करना स्वाभाविक था।

पैकिंग के बाद वे सोने का निर्णय करते हैं।
पैकिंग हो गई। हैरिस ने कहा कि उसे आशा है कि कोई भी वस्तु टूटी नहीं मिलेगी। फिर उन्होंने सोने का निर्णय लिया। हैरिस ने वर्णनकर्ता से पूछा कि क्या वह बिस्तर के अन्दर या बाहर सोना पसन्द करेगा। जॉर्ज ने पूछा कि वह उन्हें कब जगाये। उन्होंने समय के ऊपर बहस करना आरम्भ कर दिया। अन्त में उन्होंने 6.30 बजे जागने का निर्णय लिया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting