You cannot copy content of this page

NCERT class 9 English Beehive Chapter 14 summary Reach For The Top (notes) explained (translation) in hindi

Reach for the Top Summary In English

Part I. Santosh Yadav

Santosh’s family background and birth Santosh Yadav has twice climbed Mount Everest. She is the only woman in the world to do so. She was bom in a society where the birth of a son was regarded as a blessing. Daughter was not welcome. A “holy man’ blessed Santosh’s mother thinking that she wanted a son. But Santosh’s grandmother Haryana as the sixth child. She is a sister to five brothers.

Non-traditional Santosh
She was named ‘Santosh’ meaning contentment. Santosh began living life on her own terms. Other girls wore traditional Indian dresses. But she wore shorts. She said that she was determined to choose a correct path. Others were to change themselves, not she.

Santosh’s great desire for education
Santosh’s parents were rich landowners. They could send her for education to nearby Delhi, the Capital. But they sent her to the village school. Santosh decided to fight the system. When she turned sixteen, she refused to marry. Most of the girls in her village used to get married at that age. She warned her parents that she would never marry if she did not get a proper education.

Santosh in a Delhi school
So she got admission in a school in Delhi. Her parents refused to pay her fees. But she told them that she would work part time to earn money. They agreed to pay for her education.

Goes to college in Jaipur
Santosh passed the high school. She went to Jaipur to join Maharani College. She got a room in Kasturba Hostel. It faced the Aravalli Hills. She used to see the villagers going up the hill and disappearing.

Takes to climbing
One day she decided to check herself why the climbers disappeared. She went there. She found nobody except a few climbers. They encouraged her to take to climbing. Then there was no looking back.

Joins Institute of Mountaineering
Santosh saved money. She enrolled herself in a.course at Uttarkashi’s Nehru Institute of Mountaineering. She went there directly from Jaipur. She wrote a letter to her father from there. In it she apologised for taking admis-sion in Uttarkashi.

A remarkable climber
There Santosh went on an expedition every year. She developed a remarkable resistance to cold and the altitude. She had an iron will, physical endurance and mental toughness. Her efforts started bearing fruits.

Conquers Mount Everest
In 1988 she had asked the Aravalli Moun-taineers if she could join them. 1992 became the year of her grand success. She conquered Mt. Everest when she was barely twenty years old. She thus became the youngest woman in the world to achieve it. She proved equally helpful to the fellow-climbers.

The other side of Santosh as a climber
During the 1992 Everest mission, Santosh Yadav provided special care to a climber. He lay dying at the South Col. She could not save him. But she managed to save another climber, Mohan Singh. He would have died if Santosh had not shared her oxygen with him.

Conquers Everest the second time
Within twelve months, Santosh was invited by Indo-Nepalese Women’s Expedition. She became its member. She then conquered the Everest a second time. She set a record as the only woman to have climbed the Everest twice.

Honoured by the Govt.
The Indian Government recognised her achievement. She was honoured with the Padmashri. It is one of the nation’s top honours.

Indescribable moments at the top
Santosh described her feelings when she was on the top of the world . She said that it took her some time for that moment to be understood. She unfurled the Indiem tricolour. She can’t describe that moment. She saw the Indian flag flying on the top of the world. It was a spiritual moment for her. She felt proud lift to be an Indian. Santosh acted as an environmentalist also. She brought down 500 kilograms of rubbish from the Himalayas.

Part II. Maria Sharapova

Maria Sharapova’s number one position in world tennis
There is something at odds with Maria Sharapova with her smile and dress. This lifted her on 22 August 2005 to the world number one position in women’s tennis. She is a Siberian teenager. It took her four years to achieve the top position.

Maria’s trip to US .
Maria’s climb upwards started nine years before. She was not yet 10 when she was sent to train in America. That trip to Florida with her father Yuri put her on the line to success and stardom. But it meant a separation also of two years from her mother Yelena. Yelena had to live in Siberia due to visa restrictions.

Maria’s stay and training in the US
Maria recalls that she felt lonely in the US. She missed her mother greatly. Her father also couldn’t see her mother. He earned only as much as to keep her tennis-training going. She was young. She used to tidy up the room and clean it. The seniors would make her do so.

Maria’s toughness
This made her determined and mentally tough. She also learnt how to take care of herself. She never thought of quitting. She knew what she wanted. This toughness is still there in her.

Maria becomes number one
She bagged the ladies’ single crown at Wimbledon in 2004. She became world’s number one in 2005.

Her mantra for success
Maria has journeyed from Siberia to the top of women’s tennis. It has touched the hearts of tennis fans. She looks straight and answers clearly. These tell that her sacrifices were worth it. She says that she works hard at what she does. This is her mantra for success.

Maria on her Russian roots
Maria speaks with an American accent. She shows her pride to be a Russian. She says that her blood is Russian. However, the US is a big part of her life. She will play the Olympics for Russia if they wanted her to play.

Sharapova’s hobbies
Sharapova’s hobbies are fashion, singing and dancing. She loves reading the novels of Arthur Canan Doyle. She is fond of evening gowns. She loves pancakes with chocolate spread and orange drinks.

Sharapova’s thoughts on tennis etc.
Sharapova can’t be put in a category. She has talent, a desire to succeed and readiness to sacrifice. These qualities have lifted her to the top of the world. She finds money as motivation. Tennis is a business and a sport. But the most important thing is to become number one in the world. This dream has kept her going.

Reach for the Top Summary In Hindi

Part I. Santosh Yadav

सन्तोष का जन्म और पारिवारिक पृष्ठभूमि
सन्तोष यादव ने माउन्ट ऐवरेस्ट पर दो बार विजय प्राप्त की है। ऐसा करने वाली वह संसार में अकेली महिला है। वह उस समाज में जन्मी जिसमें पुत्र का जन्म वरदान माना जाता था। लड़की का स्वागत नहीं होता था। एक ‘साधु’ ने सन्तोष की माँ को यह सोचकर आशीर्वाद दिया कि वह लड़का चाहती थी। परन्तु सन्तोष की दादी ने उसे कहा कि वे लड़का नहीं चाहते। इसने साधु को आश्चर्यचकित कर दिया। उसने उसे आशीर्वाद दिया। सन्तोष हरियाणा के जोनियावास गाँव में छठी सन्तान के रूप में उत्पन्न हुई। वह पाँच भाइयों की एक बहन है।

गैर-पारम्परिक सन्तोष
उसका नाम ‘सन्तोष’ रखा गया जिसका अर्थ है सन्तुष्टि। सन्तोष ने अपने अनुसार ही जीवन जीना आरम्भ किया। दूसरी लड़कियां भारतीय परम्परावादी कपड़े पहनती थीं। परन्तु वह छोटे कपड़े पहनती थी। उसने कहा कि वह एक सही रास्ता चुनने के लिए निश्चयी थी। दूसरों को स्वयं को बदलना था न कि उसे।

शिक्षा के लिए सन्तोष की महान इच्छा
सन्तोष के माता-पिता अमीर जमींदार थे। वे उसे शिक्षा के लिए समीप राजधानी दिल्ली भेज सकते थे। परंतु उन्होंने उसे गाँव के स्कूल में भेजा। सन्तोष ने सिस्टम से लड़ने का निर्णय लिया। जब वह 16 वर्ष की हुई तो उसने शादी करने से मना कर दिया। उसके गाँव में अधिकतर लड़कियाँ उस आयु पर शादी कर लेती थीं। उसने अपने माता-पिता को चेतावनी दी कि यदि उसे सही शिक्षा नहीं मिलेगी तो वह कभी शादी नहीं करेगी।

दिल्ली के एक स्कूल में सन्तोष
इसीलिये उसने दिल्ली में एक स्कूल में दाखिला ले लिया। उसके माता-पिता ने उसकी फीस देने से इन्कार कर दिया। परन्तु उसने उन्हें बताया कि वह पैसा कमाने के लिए पार्ट-टाईम नौकरी करेगी। वे उसकी शिक्षा के लिए पैसे देने के लिए रजामन्द हो गये।

जयपुर में कॉलेज में जाना
सन्तोष ने हाई स्कूल पास कर लिया। वह महारानी कॉलेज में दाखिले के लिए जयपुर गई। उसने कस्तुरबा होस्टल में एक कमरा लिया। यह अरावली पहाड़ियों के सामने था। वह पहाड़ी पर चढ़ते और अदृश्य होते गाँव वालों को देखती थी।

पहाड़ों की चढ़ाई के प्रति प्यार
एक दिन उसने इसे स्वयं चैक करने का निर्णय लिया कि क्यों पर्वतारोही अदृश्य हो जाते हैं। वह वहाँ गई। उसे कुछ चढ़ने वालों को छोड़ कर कोई नहीं मिला। उन्होंने उसे चढ़ाई के लिए उत्साहित किया। फिर पीछे मुड़ने की बात ही नहीं थी।

माउन्टेनियरिंग इन्स्टीट्यूट में प्रवेश
सन्तोष ने पैसा बचाया। उसने उत्तरकाशी के नेहरू इन्स्टीट्यूट ऑफ माउन्टेनियरिंग में एक कोर्स में दाखिला लिया। वह वहां पर जयपुर से सीधी गई। वहाँ से उसने अपने पिता को एक पत्र लिखा। इसमें उसने उत्तरकाशी में दाखिला लेने की माफी माँगी।

एक शानदार पर्वतारोही
वहाँ पर सन्तोष हरेक वर्ष अभियान पर गई। उसके अन्दर ठण्ड और ऊँचाई के विरुद्ध उल्लेखनीय प्रतिरोधशक्ति उत्पन्न हो गई। उसमें लौह इच्छा, शारीरिक सहनशीलता और मानसिक कठोरता थी। उसकी मेहनत ने फल देने आरम्भ कर दिये।

माउन्ट एवरेस्ट पर चढ़ाई
1988 में उसने अरावली पर्वतारोहियों से पूछा कि क्या वह उनमें सम्मिलित हो जाये। 1992 उसकी शानदार सफलता का वर्ष बन गया। जब वह महज बीस वर्ष की थी तो उसने माउन्ट एवरेस्ट पर विजय पा ली। इस प्रकार वह इसे प्राप्त करने में संसार की सबसे कम उम्रवाली महिला बन गईं। वह समान रूप में साथी पर्वतारोहियों के लिए सहायक बन गई।

पर्वतारोही सन्तोष का दूसरा पहलू
1992 के एवरेस्ट मिशन के दौरान सन्तोष यादव ने एक पर्वतारोही की खास सहायता की। वह साउथ कोल में मरता हुआ पड़ा था। वह उसे नहीं बचा सकी। परन्तु वह दूसरे पर्वतारोही मोहन सिंह को बचाने में सफल हो गई। यदि सन्तोष उसके साथ अपनी आक्सीजन नहीं बाँटती तो वह मर जाता।

एवरेस्ट पर दूसरी बार विजय
बारह महीने में सन्तोष को इन्डो नैपालीज वीमेन्ज एक्सपिडिशन ने निमन्त्रित किया। वह इसकी सदस्य बन गई। तब उसने एवरेस्ट पर दोबारा विजय पा ली। उसने एवरेस्ट पर दो बार चढ़ने वाली अकेली महिला का रिकार्ड बना डाला।

सरकार द्वारा सम्मान
भारत सरकार ने उसकी उपलब्धि को पहचाना। उसका पदमश्री से सम्मान किया गया। यह राष्ट्र के उच्चतम सम्मानों में एक है।

चोटी पर न बताए जाने वाले पल
सन्तोष ने अपनी भावनाओं का वर्णन किया जब वह संसार की चोटी पर थी। उसने कहा कि उसे उस क्षण को समझने में कुछ समय लगा। उसने भारत का तिरंगा फहराया। वह उस क्षण का वर्णन नहीं कर सकती। उसने संसार की चोटी पर तिरंगा लहराते देखा। यह उसके लिए एक आध्यात्मिक क्षण था। उसने भारतीय होने के गर्व को अनुभव किया। सन्तोष ने पर्यावरण विशेषज्ञ के रूप में भी कार्य किया। वह हिमालय से 500 किलो कचरा लाई।

Part II. Maria Sharapova

मारिया शारापोवा का विश्व टेनिस में नम्बर वन स्थान
मारिया शारापोवा और उसकी मुस्कान और कपड़ों के बीच में कुछ गलत वस्तु है। इसने उसे महिला टेनिस में 22 अगस्त 2005 को संसार के नम्बर एक स्थान पर पहुंचा दिया। वह साईबेरिया की किशोरी है। उसे उच्चतम स्थान प्राप्त करने के लिए चार वर्ष लगे।

मारिया का अमेरिका का दौरा
मारिया की ऊपर की तरफ की चढ़ाई नौ वर्ष पहले आरम्भ हुई। वह अभी दस वर्ष की भी नहीं थी जब उसे अमेरिका में प्रशिक्षण के लिए भेजा गया। अपने पिता यूरी के साथ उसके फ्लोरिडा के उस दौरे ने उसे सफलता और नायक बनने के रास्ते पर ला दिया। परन्तु इसका अर्थ अपनी माँ येलेना से दो वर्ष के लिये बिछुड़ने का भी था। येलेना को वीजा पाबंदियों के कारण साइबेरिया में रहना पड़ा।

मारिया की अमेरिका में ट्रेनिंग और उनका रहना
मारिया याद करती है कि उसने अमेरिका में अकेलापन महसूस किया। उसे अपनी माँ अत्यधिक याद आती थी। उसका पिता भी उसकी माँ से नहीं मिल सका। वह सिर्फ इतना कमाता था जितना कि उसका टेनिस का प्रशिक्षण जारी रहे। वह युवा थी। वह कमरे को ठीक करती और इसकी सफाई भी करती थी। उसके वरिष्ठ उसे ऐसा करने के लिए मजबूर करते।

मारिया की कठोरता
इसने उसे निश्चयी और मानसिक रूप से कठोर बना दिया। उसने अपना ध्यान कैसे रखा जाए यह भी सीख लिया। उसने छोड़ने की कभी नहीं सोची। वह जानती थी उसे क्या चाहिये। यह कठोरपन अब भी उसमें है।

मारिया का नम्बर वन बनना
उसने 2004 में महिलाओं का एकल ताज विम्बलडन में। जीता। वह 2005 में संसार की नम्बर एक बन गई।

उसकी सफलता का मन्त्र
मारिया ने साईबेरिया से वीमन्ज टेनिस की ऊँचाई तक की यात्रा तय की है। इसने टेनिस प्रेमियों के दिल जीत लिये। वह सीधा देखती है और स्पष्ट रूप से उत्तर देती है। ये बताते हैं कि उसकी कुर्बानियाँ इसके योग्य थीं। वह कहती है कि वह जिस पर कार्य करती हैं कठिन मेहनत करती है। यह उसका सफलता का मन्त्र है।

मारिया के रूस की अपनी जड़ों पर विचार
मारिया अमेरिकी उच्चारण के साथ बोलती है। वह रूसी होने का गर्व दिखाती है। वह कहती है कि उसका खून रूसी है। यद्यपि यूएस उसके जीवन का बड़ा भाग है। यदि वे चाहते हैं कि वह खेलें तो वह रूस के लिए ओलम्पिक्स खेलेगी।

शारापोवा की रुचियाँ
शारापोवा की रुचियाँ फैशन, गाना और नाचना हैं। वह आर्थर कानन डायल के उपन्यास पढ़ना पसन्द करती है। वह इवनिंग गाउन की भी शौकीन है। वह चाकलेट फैले हुए चिल्ले खाना और सन्तरे की ड्रिंक्स पीना पसन्द करती है।

शारापोवा के टेनिस आदि पर विचार
शारापोवा को एक श्रेणी में नहीं डाला जा सकता। उसके अन्दर गुण, सफल होने की इच्छा और कुर्बानी की तत्परता है। इन गुणों ने उसे संसार की चोटी तक पहुँचा दिया है। वह धन को प्रोत्साहन मानती है। टेनिस एक व्यवसाय और खेल है। परन्तु सबसे महत्त्वपूर्ण चीज है संसार में नम्बर एक बनना। इस स्वप्न ने उसका चलते रहना जारी रखा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting