You cannot copy content of this page

NCERT class 9 English Beehive Chapter 17 summary The Snake Trying (Poem) (notes) explained (translation) in hindi

The Snake Trying Summary In English

About the Poet
William Wrightson Ross (June 14, 1894-August 26, 1966) was born in Peterborough, Ontario. He studied geophysics at the University of Toronto. He served with the Canadian Expeditionary’ Force in World War I as a private in the signal corps.

Ross’s earliest works are written in free verse. Some of the works written by him are: Anthology of Canadian Verse, Experiment 1923-29 and Shapes and Sounds.

Central Idea of the Poem
In the poem ‘The Snake Trying’, the poet tries to say that all snakes are not poisonous. Some of them are quite harmless. It is foolish to kill a snake as soon as we see it. Even if a snake is poisonous, it will do us no harm if it doesn’t see any danger from us. A snake always bites in self protection only. Otherwise, it is as harmless as any other creature. But sadly human beings always try to kill a snake as soon as they see it.

Theme of the Poem
In the poem ‘The Snake Trying’ in the first stanza the poet describes how a snake is trying to get away from a man who is chasing him with a stick. The movement of snake is graceful and elegant. The way it curves in the water is quite remarkable to look at. The snake does not stick to one straight path to get out of the reach of the man, but wends its way in and out of that path as it is travelling along the water. In the second stanza the poet entreats the man with the stick to let the snake escape. It will hide into the reeds without hurting even children. It will hide into the green slim reeds.

The Snake Trying Summary In Hindi

कविता का केंद्रीय विचार
इस कविता में कवि साँप के विषय में यह कहने की कोशिश करता है कि सभी साँप जहरीले नहीं होते हैं। उनमें से कुछ साँप कम हानिकारक होते हैं। कवि का विचार है कि साँप को देखते ही भाग लेना हमारी मुर्खता हैं। यहाँ तक कि अगर कोई साँप जहरीला भी है तो इससे हमें कोई हानि नहीं है। यह किसी खतरे का सूचक नहीं है। यह सत्य है कि साँप केवल अपनी आत्मसुरक्षा के उद्देश्य से ही काटता है। इस प्रकार कवि का विचार है कि अन्य प्राणी की तरह साँप भी एक हानि रहित प्राणी है। लेकिन कवि को दुख है कि मनुष्य साँप को देखते ही इसे मारने की कोशिश करता है।

कविता का सार
इस कविता में कवि यह कहने की कोशिश करता है कि कैसे एक साँप एक आदमी की तरह है, जो उसे एक छड़ी के साथ पीछा कर रहा है और उसे दूर करने की कोशिश कर रहा है। साँप के आंदोलन को सुंदर और सुरुचिपूर्ण वर्णन किया गया है। साँप को अपनी जान बचाने के लिए पानी में घुसते देखना उल्लेखनीय है। साँप एक सीधे पथ के लिए नहीं है और आदमी की पहुँच से बाहर निकलने के लिए है, लेकिन उस पथ के रूप में यह पानी में यात्रा कर रहा है और बाहर निकलने का मार्ग ढूँढ़ रहा है। साँप हरे रंग के सरकंडों में स्वयं को छिपाने में कामयाब हो पाता है। इस तरह उसके प्राण बच पाते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting