You cannot copy content of this page

NCERT class 9 English Beehive Chapter 3 summary The Sound of Music (notes) explained (translation) in hindi

The Sound of Music Summary In English

Evelyn glennie listens to
Sound without hearing it

Little girl Evelyn at Royal Academy of Music
Rush hour crowds pushed for place on the underground train platform. A little girl of about seventeen was nervous for the coming train. It was her first day at the famous Royal Academy of Music in London. She was deaf. So she was facing a bigger challenge in life. Evelyn’s deafness detected Evelyn Glennie was from Scotland. She lost her hearing gradually. Her mother saw it when Evelyn was eight-year-old. Evelyn hid this growing weakness from her friends and teachers. By eleven, her marks lessened. The headmistress told her mother to take her to a specialist. It was known that her hearing loss was due to gradual nerve damage. She was advised to wear a hearing aid.

How Evelyn ‘hears’
But Evelyn was determined to lead a nor-mal life. She wanted to pursue her interest in music. One day she saw a girl playing xylo-phone. She too decided to play it. Ron Forbes recognised Evelyn’s talent in it. He told her to listen it not through ears but sense it some other way. Evelyn said that suddenly she could feel the higher and lower drums differently. She could also sense certain notes in different parts of her body. She could open her mind and body to different sounds.

Evelyn’s height of success
She never looked back. She toured the United Kingdom with a youth orchestra. She had decided to make music her life. She auditioned for the Royal Academy of Music in London by playing the xylophone. There she scored the highest in its history. She moved from orchestral work to solo performances. After her three-year course she had got most of the top awards.

Evelyn world’s most wanted multi per-cussionist
She is not proud of her achievements. She says that if one knows one’s goal, one can get it. She is now at the top. She is the world’s most wanted multi percussionist. She has mastery over 1,000 instruments.

Evelyn’s other interest
Without hearing she functions with ease. She speaks fluently with a Scottish lilt. She learnt French and mastered basic Japanese.

Evelyn’s ‘hearing’ the music
She says that music pours in through every part of her body. At times, she plays the xylophone. She can sense the sound passing in her fingertips. She feels the sound of the drums when she leans on them. She removes her shoes on a wooden platform. She does so to feel the vibrations in her body.

How God has blessed Evelyn
In 1991, she was awarded the Soloist of the Year Award. It is the most famous award of the Royal Philharmonic Society. Master percussionist James Blades says that God may have taken her hearing. But He has given her something extraordinary.

Evelyn as inspiration for the handicapped
Evelyn says that she is a workaholic. She has to work more harder than classical musicians. She gives regular concerts. She also gives free concepts in schools and hospitals. She gives priority to young musicians. Ann Richlin of the Beethoven Fund for Deaf Children says that Evelyn is a shining inspiration for deaf children.

Evelyn a source of pleasure also
Evelyn has brought percussion to the front of the orchestra. She is an inspiration to the handicapped. She has given great pleasure to millions.

II

The shehnai of bismillah khan

History of ‘shehnai’
Emperor Aurangzeb banned the playing of pungi in the palace. The reason was that it had a sharp and unpleasant sound. A barber thought to improve it. He chose a pipe with a natural hollow stem. He made seven holes on its body. He played on it closing and opening some of these holes. It produced a sweet sound. He played it before the royalty. It needed a name. So it was named after the player. He was a ‘nai’ (barber). It was first played in the Shah’s chambers.

‘Shehnai’ and Bismillah Khan
The sound of the shehnai was considered auspicious. So it is played in temples and at weddings in north India. Earlier it was part of the traditional music groups. Ustad Bismillah Khan has brought it onto the clas-sical stage.

Bismillah’s childhood
As a five-year old Bismillah Khan played gilli-danda near a pond in Dumraon in Bihar. He would go to the nearby Bihariji temple. There he would sing the Bhojpuri chaita. At the end he would earn a big laddu weighing 1.25 kg. It was on behalf of the local Maha-raja. This happened 80 years ago. This little boy later earned the Bharat Ratna. It is the highest civilian honour.

Bismillah Khan’s birth and parents
Bismillah Khan was bom on March 21,1916 in a family of musicians in Bihar. His grand¬father Rasool Bux Khan was the shehnai- nawaz of the Bhojpur king’s court. His father Paigambar Bux and other ancestors were great shehnai players.

Bismillah as a young singer
The young boy Bismillah Khan took to music early in life. At three, his mother took him to his maternal uncle’s house in Benaras. He was attracted towards his uncle’s practise the shehnai. Soon he started going with his uncle Ali Bux to the Vishnu temple in Varanasi to play the shehnai. Soon he started practising the playing of the instrument. For years the temple of Balaji and Mangla Maiya and the banks of the Ganga became the places where he could practise. The flowing waters of the Ganga inspired him to invent new raagas.

Bismillah’s rise
At the age of 14 Bismillah accompanied his uncle to the Allahabad Music Conference. The opening of the All India Radio in Lucknow in 1938 became a big break for him. He became a shehnai player on radio.

Bismillah as ‘the first Indian’
Bismillah Khan became the first Indian to greet the nation with his shehnai on August 15, 1947. He played Raag Kafi Irom Red Fort to people like Mahatma Gandhi and Pandit Jawaharlal Nehru.

Bismillah Khan goes abroad and his effect on film world
Bismillah Khan has given many memorable performances both in India and abroad. His first trip abroad was to Afghanistan. King Zahir Shah was deeply impressed by his shehnai. He gave him priceless Persian car¬pets. Film director Vijay Bhatt was greatly impressed. He named his film Gunj Uthi Shehnai after the instrument. The film was a hit and his composition Dil ka khilona hai toot gaya became a record breaker.

Film world not Bismillah’s like
Bismillah Khan’s music in films didn’t go beyond Vijay Bhatt’s Gunj Uthi Shehnai and Vikram Srinivas’s Kannada film Sanadhi Apanna. He found the film world artificial and glamorous. He could not compromise with it.

Bismillah Khan’s awards
Awards came in plenty for him. He became the first Indian to perform at the Lincoln Centre Hall in the USA. He took part in the World Exposition in Montreal, in the Cannes Art Festival and in the Osaka Trade Fair. An auditorium in Teheran was named after him ‘Tahar Mosiquee Ustaad Bismillah Khan’. National awards like the Padmashri, the Padma Bhushan and the Padma Vibhushan were conferred on him.

‘Bharat Ratna’ awarded
In 2001 he was awarded India’s highest civilian award the ‘Bharat Ratna’. At this he said, “Teach your children music. This is Hindustan’s richest tradition : even the West is now coming to learn our music”.

Bismillah Khan’s love for his roots
Bismillah Khan has travelled all over the world. But he is greatly fond of Benaras and Dumraon. A student of his once wanted him to head a shehnai school in the USA. He promised to recreate an atmosphere of Benaras by making temples there. But Khansaab asked him if he would transport River Ganga there. He says that whenever he is abroad, he yearns to see Hindustan. While in Mumbai he thinks of only Varanasi and the holy Ganga. And while in Varanasi, he misses the ‘mattha’ in Dumraon.

Bismillah Khan’s life—a great example
Ustad Bismillah Khan’s life is a perfect example of the rich cultural heritage of India. It accepts that a Muslim like him can play the shehnai every morning at the Kashi Vishwanath temple.

The Sound of Music Summary In Hindi

I

इवलीन गलेनी आवाज को बिना
सुने ध्यान से सुनती है।

छोटी लड़की इवलीन का रॉयल अकादमी ऑफ म्यूजिक में होना
भीड़ वाले समय की भीड़ ने भूमिगत रेलवे प्लेटफार्म पर स्थान लेने के लिए धक्के मारे। लगभग 17 वर्ष की एक छोटी सी लड़की आने वाली रेल के लिये घबराई हुई थी। यह उसका लन्दन की प्रतिष्ठित रॉयल अकादमी ऑफ म्यूजिक में पहला दिन था। वह बहरी थी। इसलिये वह जीवन में अधिक बड़ी चुनौती का सामना कर रही थी।

इवलीन के बहरेपन का पता लगना
इवलीन गलेनी स्कॉटलैण्ड से थी। उसने धीरे-धीरे श्रवण शक्ति खो दी। उसकी माँ ने इसे तब देखा जब वह आठ वर्ष की थी। इवलीन ने इस बढती कमजोरी को अपने मित्रों और अध्यापकों से छिपाकर रखा। ग्यारह वर्ष तक उसके अंक नीचे आ गये थे। मुख्याध्यापिका ने उसकी माँ को उसे एक विशेषज्ञ के पास ले जाने के लिए कहा। यह जान लिया गया था कि उसकी श्रवण शक्ति का चला जाना क्रमशः किसी नस की चोट के कारण था। उसे एक श्रवण शक्ति एड् पहनने की सलाह दी गई।

इवलीन कैसे ‘सुनती है।
परन्तु इवलीन सामान्य जीवन जीने के लिये निश्चयी थी। वह संगीत में अपनी रुचि को आगे बढ़ाना चाहती थी। एक दिन उसने एक लड़की को जलतरंग बजाते देखा। उसने भी इसे बजाने का निर्णय लिया। रॉन फोब्र्ज ने इसमें इवलीन की प्रतिभा पहचान ली। उसने उसे कानों द्वारा सुनने के लिए नहीं अपितु किसी और तरीके से उसे सुनने के लिये कहा। इवलीन ने कहा कि वह अचानक ऊँचे और नीचे ढोलों को भिन्नता से अनुभव कर सकती थी। वह अपने शरीर के अलग-अलग भागों में खास धुनों का अनुभव भी कर सकती थी। वह भिन्न-भिन्न आवाजों के लिये अपने दिमाग और शरीर को खोल सकती थी।

इवलीन की सफलता की ऊँचाई
उसने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। वह युवा ऑरकेस्ट्रा के साथ यूनाईटिड किंगडम गई। उसने संगीत को अपना जीवन बनाने का निर्णय कर लिया था। उसने लन्दन में रॉयल अकादमी ऑफ म्यूजिक में जलतरंग बजाकर ध्वनि परीक्षण दिया। इसके इतिहास में उसने उच्चतम अंक प्राप्त किये। वह ऑरकेस्ट्रा से एकल अभिनय की तरफ चली गई। अपने तीन वर्षीय कोर्स के पश्चात् उसने लगभग सभी उच्चतम इनाम जीत लिये थे।

इवलीन संसार की सबसे चाही जाने वाली बहुमुखी तालवादक
उसे अपनी सफलताओं पर गर्व नहीं है। वह कहती है कि यदि एक व्यक्ति को अपना उद्देश्य मालूम है तो वह इसे प्राप्त कर सकता है। अब वह शिखर पर है। वह संसार की सबसे चाही आने वाली बहुमुखी तालवादक है। उसे 1,000 यन्त्रों पर दक्षता प्राप्त है।

इवलीन की दूसरी रुचि
वह बिना सुने आसानी से कार्य करती है। वह स्कॉटलैंड की भाषा की लय में धाराप्रवाह बोलती है। उसने फ्रेंच भाषा सीख ली है और आरम्भिक जापानी भाषा पर आधिपत्य प्राप्त कर लिया है।

इवलीन का संगीत सुनना
वह कहती है कि संगीत उसके शरीर के हरेक भाग में प्रविष्ट होता है। कभी-कभी वह जलतरंग बजाती है। वह इसकी अपनी उंगलियों के किनारों से बहती हुई आवाज को अनुभव कर सकती है। वह ढोलों की आवाज का अनुभव करती है जब वह इन पर झुकती है। वह लकड़ी के प्लेटफार्म पर अपने जूते उतार लेती है। वह ऐसा अपने शरीर में तरंगों का अनुभव करने के लिए करती है।

परमात्मा द्वारा इवलीन को आशीर्वाद
1991 में उसे वर्ष का एकल-अभिनय अवार्ड प्राप्त हुआ। यह रॉयल फिलहार्मोनिक सोसायटी का प्रतिष्ठित अवार्ड है। मास्टर तालवादक जेम्ज ब्लेड्ज़ कहता है कि परमात्मा ने उससे श्रवण शक्ति शायद छीन ली है। परन्तु उसने उसे कुछ असाधारण चीज दे दी है।

इवलीन विकलांगों के लिए प्रेरणा
इवलीन कहती है कि वह निरन्तर कार्य करने वाली है। उसे शास्त्रीय संगीतज्ञों से अधिक कठिन कार्य करना पड़ता है। वह निरन्तर संगीत गोष्ठियाँ देती रहती हैं। वह स्कूलों और हस्पतालों में मुफ्त संगीत गोष्ठियाँ भी देती रहती है। वह युवा संगीतज्ञों को प्राथमिकता देती है। बिटोवन फण्ड फार डैफ चिल्ड्रन की एन रिचलिन कहती है कि इवलीन बहरे बच्चों के लिये एक चमकती प्रेरणा है।

इवलीन खुशी का स्रोत भी
इवलीन ने तालवाद्य को ऑरकैस्ट्रा के अग्रिम भाग में ला दिया है। वह अपंगों के लिये एक प्रेरणा है। उसने लाखों को अथाह खुशी प्रदान की है।

II

बिस्मिल्लाह खान की शहनाई

‘शहनाई’ का इतिहास
सम्राट औरंगजेब ने महल में पूंगी के बजाने पर रोक लगा दी थी। कारण था कि इसकी आवाज तीखी और रूखी थी। एक नाई ने इसे सुधारने की सोची। उसने एक नली चुनी जिसका प्राकृतिक रूप से बना खोखला तना था। उसने इसके ऊपर सात छेद किये। उसने इसे इसके कुछ छेद खोलते व बन्द करने बजाया। इससे एक सुरीली आवाज निकली। उसने उसे शाही व्यक्तियों के सामने बजाया। इसे एक नाम की आवश्यकता थी। इसलिये इसका नाम इसके बजाने वाले के पीछे दिया गया। वह एक ‘नाई’ था। यह सर्वप्रथम शाह के कमरों में बजाई गई।

‘शहनाई’ और बिस्मिल्लाह खान
शहनाई की आवाज मांगलिक समझी गई। इस तरह इसे उत्तरी भारत में शादियों में और मन्दिरों में बजाया जाता है। पहले यह पारम्परिक संगीत समूहों का भाग थी। उस्ताद बिस्मिल्लाह खान इसे शास्त्रीय स्टेज पर ले आये हैं।

बिस्मिल्लाह का बचपन
पाँच वर्ष के बिस्मिल्लाह खान बिहार में डुमराओं में एक तालाब के किनारे गिल्ली-इण्डा खेला करते थे। वे समीप के बिहारीजी के मन्दिर में जाते थे। वहाँ पर वे भोजपुरी ‘चैता’ गाने के लिए जाया करते थे। अन्त में उन्हें सवा किलो का एक बड़ा लड्डू मिलता। यह स्थानीय महाराजा की तरफ से होता था। यह 80 वर्ष पहले होता था। इस छोटे से बच्चे ने बाद में भारत रत्न पाया। यह उच्चतम नागरिक सम्मान है।

बिस्मिल्लाह खान का जन्म और माता-पिता
बिस्मिल्लाह खान का जन्म 21 मार्च, 1916 को बिहार के संगीतकारों के परिवार में हुआ। उसके दादा रसूल बक्स खान भोजपुर सम्राट के दरबार के शहनाई-नवाज हुआ करते थे। उसके पिता पैगम्बर बक्स और दूसरे पूर्वज महान शहनाई वादक हुआ करते थे।

युवक गायक के रूप में बिस्मिल्लाह
युवा बिस्मिल्लाह खान ने जीवन में छोटी आयु में ही संगीत अपना लिया। तीन वर्ष की आयु में उसकी माँ उन्हें बनारस में उनके मामा के घर ले गई। वे अपने मामा द्वारा शहनाई बजाने के प्रति आकर्षित हो गये। शीघ्र ही उन्होंने अपने मामा अली बक्स के साथ जाना आरम्भ कर दिया जो वाराणसी में विष्णु मन्दिर में शहनाई बजाने के लिये जाते थे। शीघ्र ही उन्होंने यन्त्र को बजाने का अभ्यास करना आरम्भ कर दिया। वर्षों तक बाला जी का मन्दिर, मंगला मईया और गंगा के किनारे वे स्थान बन गये जहाँ वे अभ्यास करते थे। गंगा के बहते पानी ने उन्हें नये रागों को बनाने के लिये उत्साहित किया।

बिस्मिल्लाह का उत्थान
14 वर्ष की आयु में बिस्मिल्लाह इलाहाबाद म्यूजिक कांफ्रेंस में अपने मामा के साथ गये। उनके लिये लखनऊ में 1938 में ऑल इन्डिया रेडियो का खुलना एक बड़ा अवसर बना। वे रेडियो पर शहनाई वादक बन गये।

बिस्मिल्लाह ‘पहला भारतीय
बिस्मिल्लाह खान, 15 अगस्त, 1947 को अपनी शहनाई से राष्ट्र का अभिनन्दन करने वाले पहले व्यक्ति बन गये। उन्होंने लाल किले से महात्मा गाँधी और पडत जवाहरलाल नेहरू जैसे व्यक्तियों के सामने कैफी राग बजाया।

बिस्मिल्लाह खान विदेश में और फिल्मी संसार में उसका प्रभाव
बिस्मिल्लाह खान ने भारत में और विदेशों में बहुत-से स्मरणीय अभिनय दिये हैं। उनकी पहली विदेशी यात्रा अफगानिस्तान की थी। सम्राट जाहिर शाह उनकी शहनाई से काफी प्रभावित हुये। उन्होंने उन्हें बहुमूल्य फारसी गलीचे दिए। फिल्म निर्देशक विजय भट्ट अत्यधिक प्रभावित हुए। उसने अपनी फिल्म का नाम यन्त्र के नाम के पीछे ‘गुंज उठी शहनाई’ रख दिया। फिल्म हिट रही और उनकी ‘दिल का खिलौना हाये टूट गया’ रचना रिकार्ड तोड़ने वाली बन गई|

फिल्मी संसार बिस्मिल्लाह की पसन्द नहीं
बिस्मिल्लाह खान का फिल्मी संगीत विजय भट्ट की ‘गूंज उठी शहनाई’ और विक्रम श्रीनिवास की कन्नड फिल्म ‘स्नाधी अपन्ना’ से आगे नहीं बढ़ सका। उन्होंने फिल्मी संसार को बनावटीपन और चमक-दमक वाला पाया। वे उसके साथ समझौता नहीं कर सके।

बिस्मिल्लाह खान के पुरस्कार
उनके लिये अवार्ड काफी आये। वे अमेरिका में लिंकन सैन्टर हॉल में कार्यक्रम देने वाले पहले भारतीय बन गये। उन्होंने मोन्ट्रियल में वर्ल्ड एक्सपोजिशन में, कान्ज़ आर्ट फैस्टीवल में और ओसाका ट्रेड फेयर में भाग लिया। उनके नाम पर तेहरान में एक सभागार का नाम ‘तहर मौसिकी उस्ताद बिस्मिल्लाह खान’ रखा गया। उन्हें पद्मश्री, पद्मभूषण और पद्मविभूषण जैसे राष्ट्रीय पुरस्कार मिले।

‘भारत रत्न’ का दिया जाना
2001 में उन्हें भारत का उच्चतम नागरिक अवार्ड ‘भारत रत्न’ मिला। इस पर उन्होंने कहा, “अपने बच्चों को संगीत सिखायें। यह हिन्दुस्तान की समृद्ध परम्परा है : पश्चिम भी अब हमारा संगीत सीखने के लिए आ रहा है।”

बिस्मिल्लाह खान का अपनी जड़ों से प्यार
बिस्मिल्लाह खान ने सारे संसार की यात्रा की है। परन्तु वे बनारस और इमराओं के अधिक शौकीन हैं। एक बार उनके एक विद्यार्थी चाहते थे कि वे अमेरिका में एक शहनाई स्कूल के प्रमुख बनें। उसने वहाँ मन्दिर बनाकर बनारस का वातावरण उत्पन्न करने का वायदा किया। परन्तु खान साहिब ने उनसे पूछा कि क्या वे वहाँ गंगा नदी ले आयेंगे। वे कहते हैं कि वे जब कभी विदेश होते हैं। तो हिन्दुस्तान देखने के लिये लालायित हो जाते हैं। जब वे मुम्बई में होते हैं तो वे केवल वाराणसी और पवित्र गंगा के बारे में ही सोचते हैं। और वाराणसी में होते हुये उन्हें डुमराओं का ‘मटा’ बहुत याद आता है।

बिस्मिल्लाह खान का जीवन—एक महान उदाहरण
उस्ताद बिस्मिल्लाह खान का जीवन भारत की धनी सांस्कृतिक धरोहर का पूर्ण उदाहरण है। यह स्वीकार करता है कि उनकी तरह का एक मुसलमान काशी विश्वनाथ मन्दिर में हरेक सुबह शहनाई बजा सकता हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting