You cannot copy content of this page

NCERT class 9 English Literature Chapter 10 summary The Seven Ages (notes) explained(translation) in hindi

The Seven Ages Summary In English

‘The Seven Ages ’ is an extract taken from Shakespeare s famous play ‘As You Like It’. The poet compares this world to a stage of a theatre and all its men and women to actors and actresses. They take birth, play seven different roles and die. These seven stages of man’s life are that of an infant, school-boy, lover, soldier, justice, old ‘pantaloon ’ and ‘second childishness ’. After playing these seven roles and living through these stages of life, man departs from this world. It ends the strange and eventful history of his life.

World Compared to a Stage
Shakespeare compares this world to a stage in a theatre. All men and women are only players. The stage has both exits and entrances. Similarly, men and women take birth and enter the world. They live their lives and go out of it when they die. Every man plays seven roles and lives through seven stages of life.

Infant and School-boy
The birth of an infant begins the first stage of man’s life. The infant cries and vomits in the arms of his nurse. Then he grows into a school-going boy. He is unwilling to go to the school and moves towards it at a snails’s speed.

Lover and Soldier
In the third stage man plays the role of a lover. He sighs like a furnace and keeps on writing woeful ballads praising the beauty of the eyes of his beloved. The fourth stage is that of a soldier. He keeps a beard like that of a leopard. He always runs after honour and fame. He is ready even to enter a cannon’s mouth just for momentary fame and reputation.

Justice and Old ‘Pantaloon’
In the fifth stage man plays the role of a justice. He is fond of eating chickens and develops a fat round belly. He is full of wise sayings and modem instances. He is a man of wisdom and knowledge. In the sixth stage man becomes weak and thin in body. He wears slippers, spectacles and clothes that he bought when he was young. These pants and stockings have become loose for his shrunk and thin legs.

Last Stage
The seventh stage is ‘second childishness’. In this stage man becomes very old and starts behaving like a child. He is left with no teeth and becomes weak in eyesight. Actually, he loses taste and becomes a victim of forgetfulness. Then after living through the seventh stage of life, man departs from the world.

The Seven Ages Summary In Hindi

संसार को रंगमंच से तुलना
Shakespeare इस दुनिया की एक थियेटर के रंगमंच से तुलना करता है। सभी आदमी और औरतें केवल (रंगमंच के) खिलाड़ी हैं। रंगमंच के प्रवेश और निकास दोनों मार्ग होते हैं। इसी प्रकार, आदमी और औरतें जन्म लेती हैं और इस संसार में प्रवेश करती हैं। वे अपने जीवन को जीते हैं और फिर मर के इस संसार से बाहर चले जाते हैं। हर मनुष्य सात भूमिकाएँ निभाता है और जीवन की सात अवस्थाओं से गुजरता है।

शिशु और स्कूल जाने वाला बन्ना
शिशु का जन्म मनुष्य के प्रथम चरण का प्रारम्भ करता है। शिशु अपनी धाय की भुजाओं में चिल्लाता और उल्टी करता रहता है। फिर वह एक स्कूल जाने वाले बच्चे के रूप में विकसित हो जाता है। वह एक घोंघे की तरह रेंगता हुआ अनिच्छा से स्कूल जाता है।

प्रेमी और सैनिक
तीसरी अवस्था में मनुष्य एक प्रेमी की भूमिका अदा करता है। वह एक भट्ठी की तरह आहें भरता रहता है और अपनी प्रेमिका की आँखों की प्रशंसा करता हुआ गम भरे गाने लिखता रहता है। चौथी अवस्था एक सैनिक की है। वह एक तेंदुए की दाढ़ी की तरह अपनी दाढ़ी रखता है। वह सदैव सम्मान और शौहरत के पीछे दौड़ता रहता है। वह सिर्फ क्षणिक शौहरत और सम्मान के लिए तोप के मुँह में भी प्रवेश करने के लिये तैयार रहता है।

न्यायाधीश और बुढा ‘ढीली पतलून’
पाँचवी अवस्था में मनुष्य एक न्यायाधीश की भूमिका निभाता है। वह मुर्गे खाने का शौकीन है और एक मोटा गोल पेट विकसित कर लेता है। वह बुद्धिमता पूर्ण कहावतों और आधुनिक उदाहरणों से भरा रहता है। वह ज्ञान और बुद्धि से भरा व्यक्ति है। छठी अवस्था में आदमी कमजोर हो जाता है। वह शरीर से भी पतला हो जाता है। वह स्लीपर, चश्में और वो कपड़े, जो उसने जवानी में खरीदे थे, पहनता है। ये पतलून और मोजे उसकी सिकुड़ी हुई टांगों के लिए ढीली पड़ जाती हैं।

आखिरी अवस्था
सातवीं अवस्था ‘दूसरा बचकानापन’ है। इस अवस्था में आदमी बहुत बूढ़ा हो जाता है और एक बच्चे की तरह से व्यवहार करने लग जाता है। उसके दाँत नहीं हते और आँखों की दृष्टि कमजोर पड़ जाती है। वास्तव में वह स्वाद खो देता है और भुलक्कड़पन का शिकार हो जाता है। फिर जीवन की सातवीं अवस्था जीने के बाद, मनुष्य संसार से प्रस्थान कर जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting