You cannot copy content of this page

NCERT class 9 English Literature Chapter 12 summary Song of The Rain (notes) explained(translation) in hindi

Song of the Rain Summary In English

The rain defines itself as the dotted silver thread dropped from heaven by gods. Nature sends it to ‘adorn her fields and valleys ’. It is a ‘messenger of mercy ’ between the two lovers — the field and the cloud. It quenches the thirst ofparchedfields embracing the flowers and trees ‘in a million little ways’. The arrival of the rain is like a welcome song which all can hear but ‘only the sensitive’ can understand and feel it. The rain is ‘the sigh of the sea’, the laughter of the field and the tears of heaven ’.

Silver Threads Dropped from Heaven
When the shimmering drops fall one after another, it looks as if the silver threads are being dropped from heaven by gods. Nature sends rain on the earth to adorn its fields and valleys. The raindrops are like pearls plucked from the crown of Ishtar to decorate gardens. The falling of the rain- drops makes the flowers rejoice and hills laugh. When it rains, all things are elated.

A Messenger of Mercy
The rain acts as a messenger of mercy between the two lovers, the field and the cloud. It quenches the thirst of the field and cures ‘the ailment’ of the other. The voice of thunder announces its arrival. The rainbow announces the departure of the rain. The life of the rain is similar to the earthly life. It begins ‘at the feet of mad elements’ and ends under the uplifted wings of death.

Emerges from the Heart of the Sea
The rain rises up just from the heart of the sea. It soars high with the breeze. When a field is in need, the rain descends to irrigate it. When its showers fall, they embrace flowers and trees ‘in a million little ways’.

Song of the Rain
The arrival of the rain is like a welcome song. Everyone can enjoy the music of the rain but only a few sensitive and delicate souls can understand it. It is the ‘sigh’ of the sea, the ‘laughter’ of the field and the ‘tears’ of heaven.

Sighs from the Deep Sea of Affection
The falling of the rain is a pleasing experience. When water vapours arise from the sea, it appears as if the sea is emitting deep breaths while sighing. When the rain drops fall, the fields seem to be laughing. The drops of the rain fall from the sky as tears fall from the eyes.

Song of the Rain Summary In Hindi

चाँदी के धागे आकाश से बिखेरे गये।
जब चमचमाती बूंदें एक के बाद एक गिरती हैं तो ऐसा लगता है जैसे देवताओं द्वारा चाँदी के धागे नीचे फेंके जा रहे हैं। प्रकृति वर्षा को पृथ्वी पर अपने खेतों और घाटियों को सजाने के लिए भेजती है। बारिश की बूंदें उन मोतियों जैसी लगती हैं जो Ishtar (देवी) के ताज से बागों को सजाने के लिए तोड़ लिये गये हों। बारिश की बूंदों के गिरने से फूल आनन्दित होते हैं और पहाड़ियाँ प्रसन्न हो कर हँसने लग जाती हैं। जब बारिश होती है, तो सभी चीजें प्रफुल्लित हो जाती हैं।

दया का दूत
वर्षा दो ‘प्रेमियों’, खेत और बादल, के बीच दया के दूत की भूमिका निभाती है। वह खेत की प्यास बुझाती है और दूसरे के रोग का निदान करती है। बिजली की गड़गड़ाहट इसके आगमन की घोषणा करती है। इन्द्रधनुष इसके समाप्त होने की घोषणा करता है। बारिश का जीवन पृथ्वी के जीवन के समान है। यह उत्तेजित तत्त्वों के चरणों से प्रारम्भ होता है और मृत्यु के ऊपर उठे हुए पंखों से अंत होता है।

समुद्र के हृदय से ऊपर उठती हैं।
बारिश ठीक समुद्र के हृदय से ऊपर उठती है। वह हवा के साथ ऊंचा उठती है। जब कभी किसी खेत को जरूरत होती है, तो बारिश नीचे उतर कर उसकी सिंचाई करती है। जब इसकी बौछारें गिरती हैं, तो वे फूलों और वृक्षों को लाखों ढंग से आलिंगन करती हैं।

बारिश का गीत
बारिश का आना एक स्वागत गीत की तरह है। हर कोई बारिश के संगीत का आनन्द ले सकता है लेकिन केवल कुछ कोमल और नाजुक हृदयी लोग ही इसको समझ सकते हैं। यह समुद्र की आह, खेत की हँसी और आकाश की आँसू है।

प्यार के गहरे समुद्र से उठी आँहें,
बारिश का गिरना एक सुखदायी अनुभव है। जब वाष्प समुद्र से ऊपर उठता है तो ऐसा प्रतीत होता है कि समुद्र आहें भरते हुए गहरी सांस ले रहा है। जब वर्षा की बूंदें गिरती हैं, तो खेत खुशी से झूम उठते हैं। वर्षा की बूंदें आकाश से ऐसे गिरती हैं जैसे आँखों से आँसू।।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting