You cannot copy content of this page

NCERT class 9 English Snapshot Chapter 1 summary The Summer of the Beautiful White Horse (notes) explained (translation) in hindi

The Summer of the Beautiful White Horse Summary In English

This story revolves around two poor Armenian boys Mourad and Aram. They are members of the Garoghlanian family. The hallmarks of their tribe are trust and honesty.

The story begins in a mood of nostalgia. Aram, the narrator was then a boy of nine and his cousin, Mourad, a more adventurous but slightly crazy fellow, was thirteen.

The narrator remembers vividly the day when Mourad came to his house at four in the morning and woke him up by tapping on the window of his room. Aram jumped out of bed and when he looked out of the window, he couldn’t believe what he saw. His cousin Mourad was sitting on a beautiful white horse. Mourad asked him to be quick if he wanted to ride. The narrator had a longing to ride, but his whole Garoghlanian family was poor though well-known for their trust and honesty.

The narrator knew that his cousin Mourad couldn’t have bought the horse, and if he couldn’t have bought it, he must have stolen it. The narrator refused to believe he had stolen it because no member of the Garoghlanian family could be a thief.

The narrator, Aram, asked Mourad where he had stolen that horse. Mourad did not reply but asked him to leap out of the window if he wanted to ride. He knew that Mourad was crazy regarding horses. Stealing a horse for a ride was not the same thing as stealing money or selling a stolen horse.

The narrator leaped into his clothes. He jumped down to the yard from the window and leaped up onto the horse behind his cousin Mourad. From their house in Walnut Avenue, they reached Olive Avenue in less than three minutes. The horse began to trot as the air was fresh and lovely to breathe.

Mourad was considered one of the craziest members of their family. He begin to sing or rather roar. They reached the open country and let the horse run as long as it felt like running. At last Mourad asked Aram to get down as he wanted to ride alone. Aram asked him if he would let him ride alone. Mourad replied that it was up to the horse.

The narrator got down and his cousin Mourad kicked his heels into the horse and shouted, “Vazire, run!” The horse stood on its hind legs, snorted and ran forward at a fast speed. Mourad raced the horse across a field of dry grass to an irrigation ditch. He crossed the ditch on the horse, and five minutes later returned. He was dripping wet.

The sun was coming up. Now the narrator leaped to the back of the horse, but the horse did not move. At the suggestion of Mourad, he kicked into the muscles of the horse. It reared, snorted and began to run. The narrator didn’t know what to do. Instead of running across the field to the irrigation ditch the horse ran down the road to the vineyard of Dikran Halabian and leaped over seven vines before Aram fell. Mourad came running down the road. He was more worried about the horse than Aram. Both of them searched the horse in different directions.

It took Mourad half an hour to find the horse and bring him back. Mourad hid the horse in a deserted vineyard belonging to farmer Fetvajian. There were some oats and dry alfalfa in the barn. It occurred to narrator that Mourad had been taking early rides for some time and had come to him that morning only. He enquired, “How long ago did you steal the horse?” Mourad did not like the question. The narrator rephrased it: “How long did you begin riding every morning?” He replied, “Not until this morning”. He was, obviously, not speaking the truth, but he convinced Aram by saying so.

Mourad then told Aram that it wasn’t easy to get the horse to behave so nicely. At first, it wanted to run wild but since he had a way with a horse he developed an understanding with the horse. The narrator reached home and ate a hearty breakfast.

That afternoon his uncle Khosrove came to their house for coffee and cigarettes. While he was sipping coffee and smoking in the parlour, another visitor arrived. The latter was a farmer named John Byro. He was an Assyrian who, out of loneliness, had learned to speak Armenian. He was also served coffee and tobacco. Sighing sadly, he said that his white horse which had been stolen last month was still gone. Uncle Khosrove became irritated and snubbed him for crying over a horse.

Farmer John Byro was large man with a gentle heart. He had to walk ten miles to reach there and his left leg pained him. The horse had cost him sixty dollars and his surrey was no good without a horse. As soon as the farmer went away, Aram ran over to his cousin Mourad’s house and told him everything. He asked Mourad not to return it till he learnt to ride. He suggested keeping it for a year or at least six months. Mourad thought he was inviting a Garoghlanian to steal. He decided to return the horse to its true owner. Early every morning for two weeks Mourad and Aram took the horse out of the barn of the deserted vineyard where they were hiding it and rode it. Every morning, the horse would leap over grape vines and small trees and throw Aram and run away. Still Aram hoped to learn to ride as Mourad rode.

One morning on the way to Fetvajian’s deserted vineyard they came across farmer John Byro who was on his way to town. Mourad greeted him. The farmer studied the horse eagerly and wished them good morning. He asked the name of their horse. Mourad replied that they called it My Heart’. John Byro called it a lovely name for a lovely horse. He was certain that it was the horse which had been stolen from him many weeks ago. He asked if he might look into the horse’s mouth.

On examining the teeth of the horse, the farmer was ready to swear that it was his own horse. But since the fame of their family for honesty was well-known, he would not call it the stolen horse. Still it was the twin of his horse. Early the next morning, the boys took the horse to John Byro’s vineyard and put it in the barn. Mourad put his arms around the horse, pressed his nose into the horse’s nose, patted it and then they went away.

That afternoon John Byro came to their house in his surrey and showed the narrator’s mother the horse that had been stolen and returned. He was surprised to find the horse stronger than ever and better tempered too. He thanked God. Uncle Khosrove, who was in the parlour, became irritated and shouted at him to be quiet. He observed that his horse had been returned and repeated his pet phrase: “Pay no attention to it”.

The Summer of the Beautiful White Horse Summary In Hindi

कहानी दो निर्धन आर्मेनियाई लड़कों मौराद तथा आराम के गिर्द घूमती है। ये गारोघलेनियाई परिवार के सदस्य हैं। उनके परिवार के विशिष्ट गुण हैं विश्वास तथा ईमानदारी। कहानी अतीत की सुखद स्मृतियों की उदासी के भाव से आरंभ होती है। तब वर्णनकर्ता आराम 9 वर्ष का लड़का था तथा उसका चचेरा भाई मौराद, जो थोड़ा सा अधिक साहसी किंतु तनिक सनकी (झक्की) था, तेरह वर्ष का था|

कथाकार को वह दिन स्पष्ट रूप से याद है जिस दिन मौराद प्रातः चार बजे उसके घर आया था तथा उसके कमरे की खिडकी पर थपथपाहट करके उसे जगाया था। आराम अपने बिस्तर से उछलकर उठा और जब उसने खिड़की से बाहर देखा तो उसे जो कुछ उसने देखा उस पर विश्वास नहीं हुआ। उसका चचेरा भाई मौराद एक सुंदर सफेद घोड़े पर बैठा हुआ था। मौराद ने उससे कहा कि यदि वह घुड़सवारी करना चाहता है तो शीघ्रता (जल्दी) करे। वर्णनकर्ता को घुड़सवारी करने की तीव्र इच्छा थी, उनका पूरा गारोघलेनियाई परिवार निर्धन था यद्यपि वे अपने विश्वास तथा ईमानदारी (के गुणों) के लिए सुविख्यात थे। कथाकार जानता था कि उसका चचेरा भाई, मौराद् घोड़े को क्रय नहीं कर सकता था, और यदि उसने इसे क्रय नहीं किया था, तो अवश्य ही इसे चुराया होगा। कथाकार यह विश्वास नहीं कर पाया कि उसने घोड़ा चुराया होगा क्योंकि गोरोघलेनियाई परिवार का कोई भी सदस्य चोर हो ही नहीं सकता था।

कथाकार आराम ने मौराद से पूछा कि उसने घोड़ा कहाँ से चुराया था। मौराद ने उत्तर नहीं दिया किंतु उसे खिड़की से नीचे कूदकर आने को कहा यदि वह घोड़े पर सवारी करना चाहता था। उसे यह पता था कि मौराद घोड़ों के बारे में झक्की था। सवारी करने के लिए घोड़े को चुराना वैसी बात नहीं थी जैसे कि धनराशि चुराना अथवा किसी चुराये गए घोड़े को विक्रय करना (बेचना)।

कथाकार ने फटाफट वस्त्र पहने। वह खिड़की से आंगन में कूदा तथा अपने चचेरे भाई मौराद के पीछे घोड़े की पीठ पर उछलकर बैठ गया। वालनट एवेन्यु स्थित उनके मकान से वे तीन मिनट से कम समय में आलीव एवेन्यु पहुँच गए। घोड़ा दुलकी की चाल चलने लगा क्योंकि वायु ताज़ा तथा सांस लेने में मनोहर थी।

मौराद को उस परिवार के अत्यधिक सनकी सदस्यों में से एक समझा जाता था। वह गाना गाने लगा या अपेक्षाकृत दहाड़ने लगा। वे खुले (ग्रामीण) क्षेत्र में पहुँचे और घोड़े को दौड़ने दिया जब तक कि वह दौड़ना चाहता था। अंततः मौराद ने आराम को नीचे उतरने को कहा क्योंकि वह अकेला घुड़सवारी करना चाहता था। आराम ने उससे पूछा कि क्या वह उसे अकेले को घुड़सवारी करने देगा। मौराद ने उत्तर दिया कि यह तो घोड़े पर निर्भर करता है।

कथाकार नीचे उतर आया तथा उसके चचेरे भाई मौराद ने घोड़े को ऐड़ मारी तथा चिल्लाया, “वजीरे दौड़!” घोड़ा अपनी पिछली टाँगों पर खड़ा हुआ, नथुनों से घर-घर का शब्द निकाला तथा तीव्र गति से आगे की ओर दौड़ पड़ा। मौराद ने घोड़े को सूखी घास के खेत के आर-पार सिंचाई की खाई तक दौड़ाया। उसने घोड़े पर बैठे-बैठे खाई को पार किया और पाँच मिनट पीछे लौटा। उसका शरीर टपकते पानी (पसीने) से गीला था।

सूरज ऊपर चढ़ रहा था। अब कथाकार उछलकर घोड़े की पीठ पर बैठा, किंतु, घोड़ा टस से मस नहीं हुआ। मौराद के सुझाव पर उसने घोड़े की माँसपेशियों में ऐड़ मारी। वह पीछे हटा, नाक से घरै घर्राया तथा दौड़ने लगा। कथाकार नहीं जानता था कि वह क्या करे। खेत के पार होते हुए सिंचाई की खाई तक जाने के बजाए घोड़ा सड़क के ढलान की ओर दौड़ता हुआ डिकरन हैलाबियन के अंगूरों के बगीचे में घुसा तथा आराम के नीचे गिरने से पहले सात बेलों के ऊपर छलाँग लगा गया। मौराद दौड़ता हुआ सड़क के ढलान की ओर आया। वह आराम की अपेक्षा घोड़े के विषय में अधिक चिन्तित था। दोनों ने विभिन्न दिशाओं में घोड़े की तलाश की। घोड़े को ढूंढने तथा वापस लाने में मौराद को आधा घंटा लगा। मौराद ने किसान फेत्वाजियान के सूने पड़े हुए अंगूरों के बगीचे में घोड़े को छिपा दिया। वहाँ खलिहान में कुछ जई तथा हरे चारे वाले अल्फाल्फ के सूखे पौधे थे। कथाकार को यह सूझा कि मौराद तो कुछ समय से शीघ्र प्रात:कालीन घुड़सवारी का आनंद लेता रहा है तथा उसके पास तो केवल उस दिन प्रात:काल आया था। उसने पूछा, “तुमने कितने समय पहले यह घोड़ा चुराया था?” मौराद को यह प्रश्न पसन्द नहीं आया। कथाकार ने शब्द बदल कर पूछा, “तुमने कितने समय से प्रतिदिन सवेरे घुड़सवारी करना आरंभ किया था?” उसने उत्तर दिया, “आज प्रातः से पहले नहीं।” स्पष्टतया, वह सत्य नहीं बोल रहा था, किंतु उसने आराम को भी यह कहने को राजी कर लिया।

मौराद ने तब आराम को बताया कि घोड़े से इतने भले प्रकार का व्यवहार कराना आसान नहीं था। पहले-पहल, यह अनियंत्रित (अपनी इच्छा से) दौड़ना चाहता था, किंतु चूँकि उसे घोड़े से व्यवहार का ढंग आता था, उसने घोड़े के साथ समझ विकसित कर ली। कथाकार घर पहुँचा तथा उसने जी भर के नाश्ता किया।

उस अपराह्न उसका चाचा खोसरोव उनके घर कॉफी तथा सिगरेट पीने आया। जब वह बैठक (ड्योढ़ी) में कॉफी की पैंट भर रहा था तथा धूम्रपान कर रहा था, तब एक अन्य आगंतुक वहाँ पहुँचा। बाद में आने वाला व्यक्ति जॉन बायरो नामक किसान था। वह एक असीरियाई था, जिसने अकेलेपन से तंग होकर, आर्मेनियाई की भाषा बोलना सीख लिया था। उसे भी कॉफी तथा तंबाकू पेश किए गए। उदासी से आह भरते हुए उसने कहा कि उसका सफेद घोड़ा जिसे पिछले महीने चुराया गया था, वह अभी भी गायब था। चाचा खोसरोव क्रोधित हो गया तथा एक घोड़े (की हानि) पर विलाप करने के लिए उसे फटकारा।

किसान जॉन बायरो नर्म दिल का विशालकाय व्यक्ति था। उसे वहाँ पहुँचने के लिए दस मील पैदल चलना पड़ा और उसकी बायीं टाँग उसे पीड़ा पहुँचाती थी। उसे घोड़ा 60 डालर का मिला था तथा घोड़े के बिना उसकी चार पहियों वाली घोड़ा गाड़ी व्यर्थ थी। ज्यों ही किसान जॉन बायरो वहाँ से नया, आराम दौड़कर अपने चचेरे भाई मौराद के घर गया तथा उसे प्रत्येक बात बता दी। उसने मौराद से कहा कि वह घोड़े को तब तक ने लौटाए जब तक वह घुड़सवारी न सीख ले। उसने सुझाव दिया कि वह घोड़े को एक वर्ष या कम से कम छः महीने रख ले। मौराद ने सोचा कि वह एक गोराघलेनियाई को चोरी करने का आवाहन कर रहा था। उसने घोड़े को इसके सही स्वामी को लौटाने का निश्चय किया। दो सप्ताह तक प्रत्येक सवेरे तड़के ही मौराद एवं आराम घोड़े को सूने अंगूर के बगीचे से जहाँ उन्होंने इसे छुपा रखा था, निकाल लेते थे तथा इस पर सवारी करते थे। प्रत्येक सवेरे घोड़ा अँगूर की बेलों तथा छोटे वृक्षों के ऊपर से छलांग लगाता, आराम को फेंक देता तथा दौड़ जाता। फिर भी आराम को आशा थी कि वह मौराद की भाँति ही सवारी करना सीख लेगा।

एक दिन फेत्वाजियन के सूने अँगूरों के बगीचे को जाते समय उनकी किसान जॉन बायरो से जो कि नगर को जा रहा था, भेट हो गई। मौराद ने उसका अभिवादन किया। किसान ने उत्सुकता से घोड़े का अध्ययन किया तथा उन्हें ‘शुभ प्रभात’ कहा। उसने उनके घोड़े का नाम पूछा। मौराद ने बताया कि वे उसे ‘मेरा दिल’ कहा करते थे। जॉन बायरो ने इसे सुंदर घोड़े के लिए एक सुंदर नाम कहा। उसे पक्का विश्वास (यकीन) था कि यह वही घोड़ा था जिसे कई सप्ताह पहले उसके यहाँ से चुराया गया था। उसने पूछा कि क्या वह घोड़े के मुख (मुँह) में देख सकता था।

घोड़े के दाँतों का निरीक्षण करने के उपरांत, किसान शपथ लेकर यह कहने को तैयार था कि यह उसका अपना घोड़ा था। किंतु चूँकि उनके परिवार का ईमानदारी के लिए यश सुविख्यात था, वह इसे चुराया हुआ घोड़ा नहीं कहेगा। फिर भी यह उसके घोड़े का जुड़वाँ था। अगले प्रातः काफी पहले, लड़के घोड़े को जॉन बायरों के अँगूरों के बगीचे में ले गए तथा उसे खलिहान में छोड़ दिया। मौराद ने घोड़े (की गर्दन) के चारों ओर अपनी बाँहें लपेटी, अपनी नाक घोड़े के नाक में दबायी, इसे थपथपाया तथा फिर वे चले गए।

उसी अपराह्न जॉन बायरो अपनी चार पहियों वाली घोड़ा-गाड़ी में उनके घर आया तथा कथाकार की माता जी को वह घोड़ा दिखलाया जो चुरा लिया गया था तथा लौटा दिया गया था। उसे घोड़े को पहले से अधिक सुदृढ़ तथा अच्छे व्यवहार का पाकर सुखद आश्चर्य हुआ। उसने भगवान का धन्यवाद किया। चाचा खोसरोव, जो कि बैठक में था, क्रोधित (चिड़चिड़ा) हो गया तथा उस पर चिल्लाया कि चुप रहे। उसने टिप्पणी की कि उसका घोड़ा लौटा दिया गया था उसने अपना प्रिय शब्द समूह दोहराया, “इसकी ओर ध्यान न दो।”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting