You cannot copy content of this page

NCERT class 9 English Snapshot Chapter 5 summary Mother’s Day (notes) explained (translation) in hindi

Mother’s Day Summary In English

‘Mother’s Day’is a hilarious drawing room comedy by J.B. Priestley. It raises a serious issue and deals with it in a humorous manner. The comic undertone, however, does not belittle the importance of the issues raised in the play.

The play centres round Mrs Annie Pearson, a devoted wife and doting mother. She is a pleasant but worried looking woman in her forties. Her neighbour, Mrs Fitzgerald, is a fortune teller. She tells Mrs Pearson to make up her mind and assert herself if she wants to be the mistress of her own house and the boss of her own family. At present Mrs Pearson is reduced to the status of an unpaid domestic servant who does all the domestic chores without even being requested for them or thanked later on. She is taken for granted and ordered about.

Mrs Fitzgerald tells her that husbands, sons and daughters should take notice of wives and mothers, not giving them orders and treating like dirt. Mrs Pearson endures the ill-treatment because she is very fond of her husband and children though they are quite thoughtless and selfish. She tries her best to have it out with them but does not know how to begin. She wants to get tea things ready as the members of her family are about to drop in. Mrs Fitzgerald asks her to let them wait or look after themselves for once.

Since Mrs Pearson is too soft towards her family, Mrs Fitzgerald offers a way out. She suggests a change of personalities for a short duration. Mrs Pearson is doubtful about the success of the plan, but yields. With the help of magic spell learnt in the East, Mrs Fitzgerald carries out an interchange of personalities. Now Mrs Pearson having the personality of her neighbour, becomes bold and dominating and Mrs Fitzgerald is nervous and fluttering.

Doris Pearson, a pretty girl in her early twenties is the first to face the cool and incisive mother. As usual, Doris, the spoilt girl, asks her mother about her yellow silk dress. Mrs Pearson keeps on smoking. Doris is astounded. However, she asks if they are having tea in the kitchen. Mrs Pearson tells her politely to have it wherever she likes. Doris angrily asks her if it isn’t ready. Mrs Pearson tells her that she has had what she wanted. She surprises her with the remark that she might go out later and get a square meal at the Clarendon. When Doris angrily asks her mother again whether she has ironed her yellow silk dress, Mrs Pearson tells her that she puts in twice the hours she does and gets no wages or thanks for it. She criticizes her boyfriend Charlie Spence for having buckteeth and being halfwitted. She tells Doris frankly that at her age she would have found somebody better than Charlie Spence.

Now it is the turn of Cyril Pearson, the spoilt brat, who asks for tea as soon as he enters. Since he has got a busy night that night, he asks his mother if she has put his things out. He reminds her of her promise. She tells him that she doesn’t like mending. He objects to her talking like that. Mrs Pearson gives him a bit of her mind. She tells him that they all do talk like that. If there’s something at home he doesn’t want to do, he doesn’t do it. If it is something at his work place, he gets the union to bar it. She says that she has also joined the movement. She then asks if they have any stout left. She goes to the kitchen to bring a hottle, as she wants to drink.

Cyril and Doris go into a huddle and whisper about the behaviour of their mother. Doris states that she could not believe her eyes as she found her mother smoking and playing cards when she came in. Cyril had asked her if she was feeling off-colour and she said she wasn’t. Doris observes that she is suddenly all different. She made her cry not aly by what she said but by the way she said it and looked. Doris thinks that she has a concussiun as a result of falling. Cyril asks if she has become slightly crazy.

Meanwhile Mrs Pearson comes back. She is carr ing a bottle of stout and half-filled glass. Cyril and Doris try to stop their guffawing and giggling. Irs Pearson regards them with contempt and asks them to behave according to their age. She finds nothing funny in their jokes. Doris is tearful again. She wants to know what they have done. Mrs Pearson at once tells them that they have done nothing. They simply come in, ask for something, go out again and then come back when there’s nowhere else to go. Cyril tells her aggressively that he’ll find something to eat himself if she won’t get tea ready. Mrs Pearson tells him to help himself. When Cyril and Doris say that they have been working all day. Mrs Pearson says that she has also done her eight hours. She further says that now it will be forty-hour week for all and she will have har two days off at the weekend.

George Pearson, a solemn, self-important and pompous looking man about fifty unters. He notices Doris in tears and then his wife sipping stout. He is bewildered at her behaviour. He informs her that he won’t have any tea as there is a special snooker match at night the club and a bit of supper. Mrs Pearson informs him that there isn’t any tea. He is surprised at her answer. She tells him that people laugh at him at the club and call him Pompy-Ompy Pearson because he is slow and pompous. George is horrified. She wants to know why he wants to spend so much time at a place where t’ey are always laughing at him behind his back and calling his name. He leaves his wife alone at home each night. George is dazed and asks Cyril for confirmation. He staggers as Cyril confirms it.

Cyril tells his mother that it is not fair of her to hurt his or his father’s feelings. Mrs Pearson remarks that sometimes it does people good to have their feelings hurt. The truth oughtn’t to hurt anybody for long. If he didn’t go to the club so often, perhaps people would stop laughing at him. Cyril doubts it. His mother tells him that he knows nothing. He spends a lot of time and money at grey hound races, dirt tracks and ice shows.

Mrs Fitzgerald is at the door. Cyril calls her ‘silly old bag’. Mrs Pearson tells him to ask her in and address her properly Mrs Fitzgerald is shocked to see how Mrs Pearson is treating her husband and children.

George re-enters and sits aside in arm chair smoking his pipe. Mrs Pearson takes George to task for being impolite. George flares up as she rebukes him in the presence of their neighbour. He asks her if she has gone mad. Mrs Pearson threatens to slap his face if he says that again. George is intimated. She mockingly asks him to leave for the club.

All this is too much for Mrs Fitzgerald (with Mrs Pearson’s personality) to bear. She requests Mrs Fitzgerald for a reversal to the original state. With the chanting of the magic spell, they regain their original personalities. As a parting advice, Mrs Fitzgerald asks Mrs Pearson to be a bit strict with her looks and tone sometimes to suggest that she might be tough with them if she wanted to. This formula will work. Mrs Pearson says that she wants them to stop at home sometimes, give her a hand with supper and play a nice game of rummy. Mrs Fitzgerald is about to leave. She is glad to see Mrs Pearson handling her family firmly. The trick works and all the members of the family agree to do whatever she says.

Mother’s Day Summary In Hindi

‘मदर्स डे’ जे०बी० प्रीस्टले का एक अत्यधिक हास्यपूर्ण सुखांत नाटक है जो बैठक कक्ष में घटित होता है। यह एक गंभीर मामले को उठाता है तथा इसका हास्यजनक ढंग से निबटारा करता है। किंतु हास्य का पुट उन मामलों के महत्व को कम नहीं करता जो इस नाटक में उठाये गए हैं।

नाटक श्रीमती एनी पिअर्सन पर केंद्रीत है, जो कि एक समर्पित पत्नी तथा प्रेममयी माँ है। वह चालीस वर्षीया सुंदर किंतु चिन्तित दिखाई देने वाली महिला है। उसकी पड़ोसन, श्रीमती फिट्जेराल्ड भाग्य-वक्ता है। वह श्रीमती पिअर्सन से कहती है कि यदि वह अपने घर की मालकिन (स्वामिनी) तथा परिवार की मुखिया बनना चाहती है तो पक्का निश्चय कर ले तथा अपनी बातें दृढ़ता से कहे। वर्तमान समय में श्रीमती पिअर्सन की स्थिति एक अवैतनिक घरेलू नौकरानी की जैसी है जो बिना प्रार्थना किए तथा बाद में धन्यवाद के बिना ही सारे घरेलू दुष्कर कार्य करती रहती है। उसको सहज स्वीकार कर लिया जाता है तथा प्रत्येक के द्वारा आदेश दिया जाता है।

श्रीमती फिट्जेराल्ड कहती है कि पतियों, पुत्रों एवं पुत्रियों को पत्नियों तथा माताओं पर ध्यान देना चाहिए तथा उन्हें केवल आदेश नहीं देने चाहिए या धूल की तरह उनसे बर्ताव नहीं करना चाहिए। श्रीमती पिअर्सन इस दुर्व्यवहार को इसलिए सहन करती है क्योंकि वह अपने पति तथा बच्चों से अत्यंत प्रेम करती हैं यद्यपि वे अत्यंत विचारहीन एवं स्वार्थी हैं। वह अपनी सर्वोत्तम चेष्टा करती है कि इस मामले को विचार-विमर्श द्वारा उनसे सुलझा ले किंतु यह नहीं जानती कि वह कैसे आरंभ करे। वह चाय की वस्तुएँ तैयार करना चाहती है क्योंकि परिवार के सदस्य आने ही वाले हैं। श्रीमती फिट्जेराल्ड कहती है कि एक बार तो उन्हें प्रतीक्षा करने दो अथवा स्वयं अपनी देखभाल करने दो।

क्योंकि श्रीमती पिअर्सन अपने परिवार के प्रति अत्यधिक कोमल (नर्म) है, अतः श्रीमती फिट्जेराल्ड इससे निपटने का एक ढंग बताती है। वह सुझाव देती है कि थोड़ी अवधि के लिए वे अपने व्यक्तित्व बदल लें। अब श्रीमती पिअर्सन, जिसमें अपनी पड़ोसन का व्यक्तित्व है, वीर तथा प्रभुत्वशाली बन जाती है तथा श्रीमती फिट्जेराल्ड घबराहटभरी एवं काँपते हृदय वाली बन जाती है।

बीस वर्ष से थोड़ी बड़ी, सुंदर लड़की डोरिस पिअर्सन, इस शुष्क तथा निर्णय लेने एवं बलपूर्वक कार्य करने की क्षमता वाली माँ का सामना करने वाली पहली हैं। सदा की भाँति, बिगड़ी हुई लड़की, डोरिस, अपनी माँ से अपनी पीली रेशमी पोशाक के विषय में पूछती है। श्रीमती पिअर्सन धूम्रपान करती रहती है। डोरिस आश्चर्यचकित रह जाती है। किंतु वह पूछती है कि क्या वे रसोईघर में चाय पीएंगे। श्रीमती पिअर्सन बड़ी नम्रता से उसे कहती है कि वह जहाँ चाहे पी ले। डोरिस क्रोध से उसे पूछती है कि क्या चाय तैयार नहीं है। श्रीमती पिअर्सन उसे बताती है कि जो कुछ उसे चाहिए था, वह उसने ले लिया है। वह उसे इस कथन से आश्चर्यचकित कर देती है कि बाद में वह बाहर जाकर क्लैरंडन (होटल) में भरपेट खाना खाएगी। अब डोरिस क्रोध से अपनी माँ से फिर पूछती है कि क्या उसने उसकी पीली रेशमी पोशाक इस्त्री कर दी है। श्रीमती पिअर्सन उसे बताती है कि जितने घंटे वह काम करती है, उससे दुगने समय वह (माँ) काम करती है तथा इसके लिए कोई वेतन या धन्यवाद भी नहीं मिलता। वह उसके पुरुष-मित्र चार्ली स्पैन्स की यह कहकर आलोचना करती है वह दाँतला है (उसके दाँत बाहर निकले हुए हैं) तथा वह मूर्ख है। वह डोरिस से स्पष्ट रूप से कहती है उसकी आयु में तो वह चार्ली स्पैन्स से कोई बेहतर मित्र हूँढ लेती।।

अब बारी है बिगड़े बेटे सिरिल पिअर्सन की जो कि प्रवेश करते ही चाय की फरमाइश करता है क्योंकि आज की रात उसकी अत्यंत व्यस्त रात है। वह अपनी माँ से पूछता है कि क्या उसने उसकी वस्तुएँ बाहर निकाल दी हैं। वह उसे उसका वायदा याद दिलाता है। वह कहती है कि उसे वस्तुएँ मरम्मत करना अच्छा नहीं लगता। उसके इस प्रकार बातें करने पर वह आपत्ति करता है। श्रीमती पिअर्सन उसे खरी-खरी सुनाती है। वह कहती है कि वे सब इसी प्रकार बातें करते हैं। यदि घर पर कोई चीज़ हो जिसे वह न करना चाहे, तो वह इसे नहीं करता। यदि कार्यस्थल पर कोई ऐसी बात हो, तो वह यूनियन को इसे रोकने को ले जाता है। वह कहती है कि वह भी इस आंदोलन में शामिल हो गई है। फिर वह पूछती है कि क्या कुछ तेज़ काली बियर बची हुई है। वह रसोईघर में एक बोतल लाने जाती है क्योंकि वह (बियर) पीना चाहती है।

सिरिल तथा डोरिस पास-पास खड़े होकर अपनी माँ के व्यवहार के विषय में कानाफूसी करते हैं। डोरिस कहती है कि वह अपनी आँखों पर विश्वास नहीं कर सकी क्योंकि जब वह आई तो उसने अपनी माँ को धूम्रपान करते तथा ताश खेलते हुए देखा। सिरिल ने उससे पूछा था कि क्या वह अस्वस्थ महसूस कर रही थी तथा उसने उत्तर दिया कि वह अस्वस्थ नहीं थी। डोरिस कहती है कि वह अचानक ही बिल्कुल भिन्न (अलग) हो गई है। उसने जिस ढंग से उसे जो कुछ कहा तथा जैसे उसे देखा उससे रुला दिया। डोरिस सोचती है कि सिर के बल गिर जाने से उसे झटका लगा है। सिरिल उससे पूछता है कि क्या वह कुछ पगली गई है।

इस बीच श्रीमती पिअर्सन लौट आती है। वह एक आधा भरा गिलास तथा बियर की बोतल उठाए हुए हैं। सिरिल तथा डोरिस अपने अट्टहास तथा मूर्खा की भाँति खिसियानी हँसी को रोकने की चेष्टा करते हैं। श्रीमती पिअर्सन उन्हें घृणा से देखती है तथा उनसे अपनी आयु के अनुसार व्यवहार करने को कहती हैं। उसे उनके मज़ाकों में कोई हास्यजनक बात नहीं लगती। डोरिस की आँखें फिर डबडबा जाती हैं। वह जानना चाहती है कि उन्होंने क्या किया है। श्रीमती पिअर्सन तत्काल कहती है कि उन्होंने कुछ नहीं किया है। वे केवल घर में आते हैं, कोई वस्तु माँगते हैं, फिर बाहर चले जाते हैं तथा जब और कहीं जाने का स्थान न हो, तो घर लौट आते हैं। सिरिल आक्रामक ढंग से कहता है कि यदि उसने चाय नहीं बनाई तो वह अपने लिए खाने के लिए स्वयं कोई वस्तु खोज लेगी। श्रीमती पिअर्सन उसे स्वयं अपना काम करने को कहती है। जब सिरिल तथा डोरिस कहते हैं कि वह सारा दिन काम करते रहे हैं, तो श्रीमती पिअर्सन कहती हैं कि उसने भी अपने आठ घंटे काम कर लिया है। वह कहती है कि अब सभी के लिए 40 घंटे प्रति सप्ताह होगा तथा सप्ताहांत पर वह भी दो दिन का अवकाश मनाएगी।

जार्ज पिअर्सन जो कि एक गंभीर, अपने आप में महत्वपूर्ण तथा आडंबरी दिखाई देने वाला लगभग पचास की आयु का पुरुष है, प्रवेश करता है। वह देखता है कि डोरिस के आँसू आए हुए हैं तथा उसकी पत्नी बियर पी रही है। वह उसके व्यवहार पर स्तब्ध रह जाता है। वह उसे सूचना देता है कि उस रात क्लब में स्नूकर की रात है तथा रात का हल्का भोजन भी। अतः वह चाय नहीं लेगा। श्रीमती पिअर्सन उससे कहती है कि चाय है ही नहीं। वह उसके उत्तर पर आश्चर्यचकित हो जाता है। वह उसे बताती है कि क्लब में लोग उस पर हँसते हैं तथा उसे पोम्पी-ओम्पी पिअर्सन कहते हैं क्योंकि वह सुस्त चाल का तथा आडंबरी । है। वह जानना चाहती है कि वह ऐसे स्थान पर क्यों इतना अधिक समय व्यतीत करना चाहता है जहाँ लोग उसकी पीठ पीछे उस पर हमेशा हँसते रहते हैं तथा उसे गालियाँ निकालते रहते हैं। वह अपनी पत्नी को प्रतिदिन घर पर अकेला छोड़ जाता है। जार्ज भौंचक्का रह जाता है तथा सिरिल से पुष्टि के लिए कहता है। जब सिरिल इसकी पुष्टि करता है तो वह अत्यंत आश्चर्यचकित लगता है।

सिरिल अपनी माँ को कहता है कि उसकी तथा उसके पिता की भावनाओं को चोट पहुँचाकर उसने ठीक नहीं किया। श्रीमती पिअर्सन कहती है कि कभी-कभी लोगों के लिए अच्छा है कि उनकी भावनाओं को चोट पहुँचाई जाए। सत्य से तो किसी व्यक्ति को अधिक समय तक चोट नहीं लगनी चाहिए। यदि वह इतनी अधिक बार क्लब नहीं जाए तो शायद लोग उस पर हँसना छोड़ दें। सिरिल को इस पर संदेह है। उसकी माँ उससे कहती है कि वह कुछ नहीं जानता। वह तो बहुत सा समय तथा धन खरहे का शिकार करनेवाले कुत्तों की दौड़, रेतीले पथों तथा बर्फ के तमाशों में लगाता है।

श्रीमती फिट्जेराल्ड द्वार पर आती है। सिरिल उसे ‘मूर्ख बूढ़ी थैला’ कहता है। श्रीमती पिअर्सन उसे ढंग से अभिवादन करने और भीतर आने को कहती है। श्रीमती फिट्जेराल्ड को यह देखकर आघात लगता है कि श्रीमती पिअर्सन उसके पति तथा बच्चों से कैसे व्यवहार करती है। जार्ज पुनः प्रवेश करता है तथा एक आराम कुर्सी पर अकेला दूर बैठा अपनी पाइप से धूम्रपान करता है। श्रीमती पिअर्सन जार्ज को अशिष्ट होने के लिए डाँटती है। जार्ज भड़क उठता है क्योंकि वह उनकी पड़ोसन की उपस्थिति में उसे डाँटती है। वह उससे पूछता है कि क्या वह पागल हो गई है। श्रीमती पिअर्सन उसके मुँह पर थप्पड़ मारने की धमकी देती है यदि उसने ऐसा फिर से कहा। जार्ज डर जाता है। वह मज़ाक उड़ाने के ढंग से उसे क्लब में जाने को कहती है।

यह सब सहन करना श्रीमती फिट्जेराल्ड के लिए कठिन है जो कि श्रीमती पिअर्सन का व्यक्तित्व लिए हुए है। वह श्रीमती फिट्जेराल्ड से प्रार्थना करती है कि वे पुनः प्रारंभिक अवस्था पर लौट आए। जादू का मंत्र गाकर वे अपने-अपने मौलिक व्यक्तित्व पुनः प्राप्त करती है। विदाई की सलाह देते हुए श्रीमती फिट्जेराल्ड, श्रीमती पिअर्सन को अपनी नज़रों तथा आवाज़ के लहजे से कठोर रहने को कहती है ताकि कभी-कभी वह यह सुझाव दे सके कि यदि वह चाहे तो उनके साथ कठोर भी हो सकती है। यह सूत्र (फार्मूला) काम करेगा। श्रीमती पिअर्सन कहती है कि वह चाहती है कि वे कभी-कभी घर रुकें, शाम का हल्का भोजन बनाने में उसकी सहायता करें तथा उसके साथ रमी (ताश का खेल) खेलें। श्रीमती फिट्जेराल्ड जाने ही वाली है। वह श्रीमती पिअर्सन को अपने परिवार को दृढ़तापूर्वक नियंत्रित करता देखकर प्रसन्न हो जाती है। चाल (तरीका) कामयाब हो जाती है तथा परिवार के सभी सदस्य जो कुछ वह कहती है वही करने को तैयार हो जाते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting