You cannot copy content of this page

NCERT Solutions for Class 10 Hindi chapter 3 दोहे

Page No 16:

Question 1:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

छाया भी कब छाया ढूँढ़ने लगती है?

Answer:

जेठ के महीने में धूप इतनी तेज़ होती है कि सिर पर आने लगती है जिससे छाया छोटी होती जाती है। इसलिए कवि का कहना है कि जेठ की दुपहरी की भीषण गर्मी में छाया भी छाया ढूँढ़ने लगती है।

Question 2:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

बिहारी की नायिका यह क्यों कहती है कहिहै सबु तेरौ हियौमेरे हिय की बात‘ – स्पष्ट कीजिए।

Answer:

बिहारी की नायिका अपने प्रिय को संदेश देना चाहती है पर कागज पर लिखते समय कँपकपी और आँसू आ जाते हैं। किसी के साथ संदेश भेजेगी तो कहते लज्जा आएगी। इसलिए वह सोचती है कि जो विरह अवस्था उसकी हैवही उसके प्रिय की भी होगी। अतवह कहती है कि अपने हृदय की वेदना से मेरी वेदना को समझ जाएँगे।

Question 3:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

सच्चे मन में राम बसते हैं−दोहे के संदर्भानुसार स्पष्ट कीजिए।

Answer:

बिहारी जी ईश्वर प्राप्ति के लिए धर्म कर्मकांड को दिखावा समझते थे। माला जपनेछापे लगवानामाथे पर तिलक लगवाने से प्रभु नहीं मिलते। भगवान राम तो सच्चे मन की भक्ति से ही प्रसन्न होते हैं।

Question 4:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

गोपियाँ श्रीकृष्ण की बाँसुरी क्यों छिपा लेती हैं?

Answer:

कृष्ण जी को अपनी बाँसुरी बहुत प्रिय है। वे उसे बजाते ही रहते हैं। गोपियाँ उनसे बातें करना चाहती हैं। वे कृष्ण को रिझाना चाहती हैं। उनका ध्यान अपनी और आकर्षित करने के लिए मुरली छिपा देती हैं।

Question 5:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

बिहारी कवि ने सभी की उपस्थिति में भी कैसे बात की जा सकती हैइसका वर्णन किस प्रकार किया हैअपने शब्दों में लिखिए।

Answer:

बिहारी ने बताया है कि नायक और नायिका सबकी उपस्थिति में इशारों में अपने मन की बात करते हैं। नायक ने सबकी उपस्थिति में नायिका को इशारा किया। नायिका ने इशारे से मना किया। इस पर नायक रीझ गया। इस रीझ पर नायिका खीज उठी। दोनों के नेत्र मिलेनायक प्रसन्न था और नायिका की आँखों में लज्जा थी।

Question 1:

भाव स्पष्ट कीजिए

मनौ नीलमनीसैल पर आतपु पर्यौ प्रभात।

Answer:

इस पंक्ति में कृष्ण के सौंदर्य का वर्णन है। कृष्ण के नीले शरीर पर पीले रंग के वस्त्र हैं। वे देखने में ऐसे प्रतीत होते हैं मानों नीलमणी पर्वत पर प्रात:कालीन धूप पड़ रही है।

Question 2:

भाव स्पष्ट कीजिए

जगतु तपोबन सौ कियौ दीरघदाघ निदाघ।

Answer:

ग्रीष्म ऋतु की भीषण गर्मी से पूरा जंगल तपोवन बन गया है। सबकी आपसी दुश्मनी समाप्त हो गई है। साँपहिरण और सिंह सभी गर्मी से बचने के लिए साथ रह रहे हैं।

Question 3:

भाव स्पष्ट कीजिए

जपमालाछापैंतिलक सरै न एकौ कामु।

मनकाँचै नाचै बृथासाँचै राँचै रामु।।

Answer:

बिहारी का मानना है कि बाहरी आडम्बरों से ईश्वर नहीं मिलते। माला फेरनेहल्दी चंदन का तिलक लगाने या छापै लगाने से एक भी काम नहीं बनता। कच्चे मन वालों का हृदय डोलता रहता है। वे ही ऐसा करते हैं लेकिन राम तो सच्चे मन से याद करने वाले के हृदय में रहते हैं।

Question 1:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

छाया भी कब छाया ढूँढ़ने लगती है?

Answer:

जेठ के महीने में धूप इतनी तेज़ होती है कि सिर पर आने लगती है जिससे छाया छोटी होती जाती है। इसलिए कवि का कहना है कि जेठ की दुपहरी की भीषण गर्मी में छाया भी छाया ढूँढ़ने लगती है।

Question 2:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

बिहारी की नायिका यह क्यों कहती है कहिहै सबु तेरौ हियौमेरे हिय की बात‘ – स्पष्ट कीजिए।

Answer:

बिहारी की नायिका अपने प्रिय को संदेश देना चाहती है पर कागज पर लिखते समय कँपकपी और आँसू आ जाते हैं। किसी के साथ संदेश भेजेगी तो कहते लज्जा आएगी। इसलिए वह सोचती है कि जो विरह अवस्था उसकी हैवही उसके प्रिय की भी होगी। अतवह कहती है कि अपने हृदय की वेदना से मेरी वेदना को समझ जाएँगे।

Question 3:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

सच्चे मन में राम बसते हैं−दोहे के संदर्भानुसार स्पष्ट कीजिए।

Answer:

बिहारी जी ईश्वर प्राप्ति के लिए धर्म कर्मकांड को दिखावा समझते थे। माला जपनेछापे लगवानामाथे पर तिलक लगवाने से प्रभु नहीं मिलते। भगवान राम तो सच्चे मन की भक्ति से ही प्रसन्न होते हैं।

Question 4:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

गोपियाँ श्रीकृष्ण की बाँसुरी क्यों छिपा लेती हैं?

Answer:

कृष्ण जी को अपनी बाँसुरी बहुत प्रिय है। वे उसे बजाते ही रहते हैं। गोपियाँ उनसे बातें करना चाहती हैं। वे कृष्ण को रिझाना चाहती हैं। उनका ध्यान अपनी और आकर्षित करने के लिए मुरली छिपा देती हैं।

Question 5:

निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर दीजिए 

बिहारी कवि ने सभी की उपस्थिति में भी कैसे बात की जा सकती हैइसका वर्णन किस प्रकार किया हैअपने शब्दों में लिखिए।

Answer:

बिहारी ने बताया है कि नायक और नायिका सबकी उपस्थिति में इशारों में अपने मन की बात करते हैं। नायक ने सबकी उपस्थिति में नायिका को इशारा किया। नायिका ने इशारे से मना किया। इस पर नायक रीझ गया। इस रीझ पर नायिका खीज उठी। दोनों के नेत्र मिलेनायक प्रसन्न था और नायिका की आँखों में लज्जा थी।

Question 1:

भाव स्पष्ट कीजिए

मनौ नीलमनीसैल पर आतपु पर्यौ प्रभात।

Answer:

इस पंक्ति में कृष्ण के सौंदर्य का वर्णन है। कृष्ण के नीले शरीर पर पीले रंग के वस्त्र हैं। वे देखने में ऐसे प्रतीत होते हैं मानों नीलमणी पर्वत पर प्रात:कालीन धूप पड़ रही है।

Question 2:

भाव स्पष्ट कीजिए

जगतु तपोबन सौ कियौ दीरघदाघ निदाघ।

Answer:

ग्रीष्म ऋतु की भीषण गर्मी से पूरा जंगल तपोवन बन गया है। सबकी आपसी दुश्मनी समाप्त हो गई है। साँपहिरण और सिंह सभी गर्मी से बचने के लिए साथ रह रहे हैं।

Question 3:

भाव स्पष्ट कीजिए

जपमालाछापैंतिलक सरै न एकौ कामु।

मनकाँचै नाचै बृथासाँचै राँचै रामु।।

Answer:

बिहारी का मानना है कि बाहरी आडम्बरों से ईश्वर नहीं मिलते। माला फेरनेहल्दी चंदन का तिलक लगाने या छापै लगाने से एक भी काम नहीं बनता। कच्चे मन वालों का हृदय डोलता रहता है। वे ही ऐसा करते हैं लेकिन राम तो सच्चे मन से याद करने वाले के हृदय में रहते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Free Web Hosting